उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, October 17, 2014

वै भगवान कु बच्चा ! तेरी औकात छ क्या च ?

चबोड़्या -- भीष्म कुकरेती 


भूत -भगवन ! मि त भूतलोक मा बेदिक्क्त छौ , बेख़ौफ़ छौ , अलमस्त  छौ,  आपन मि तैं किलै बुलाइ ?
भगवान - त्यार चुनाव  ए सालो सबसे सर्वश्रेष्ठ भूत मा ह्वे।
भूत -तो ?
भगवान -तो क्या त्यार सुकर्मों हिसाब से त्वे तैं मृत्युलोक याने मनुष्य योनि मा भिजे जाल। 
भूत -नही महाराज ! मि भूत इ ठीक छौं। 
भगवान -हैं ! दिबता बि मनुष्य लोक मा मनुष्य योनि मा जन्म लीणो बान घोसपेच लगाणा  रौंदन अर तु बुलणु छे कि भूतलोक इ ठीक च। 
भूत -हे परमेश्वर ! एक बि काम मनुष्य इन नि करद जु मनुष्य का लैक काम व्हावन। 
भगवान -जन कि ?
भूत -एक हों तो मि बतौँ।  मनिख हरेक कर्म मनुष्य -बिमुखी करद।  
भगवान -क्या ?
भूत -अब द्याखो आपक नियमुं हिसाब से क्वी बि जानवर बेमाता का दूध नि पे सकुद।  किन्तु मनिख बेमाता तो छोडो दुसर जानवरों दूध चसोड़ -चसोड़िक पे जांद। 
भगवान -हाँ पर…… 
भूत -पर क्या भगवन ! कथगा इ पर छन ये मनिख  पर 
भगवान -हूँ !
भूत -जरा स्वाचो ! आपन मनुष्य का दांत अर आंत इन नि बणैन जाँसे  मनिख मांश भक्षण कर साको।  किंतु संसार मा सबसे अधिक मांश मनिख ही खांद !
भगवान -लेकिन……   
भूत -लेकिन क्या ! यी ना आपन एकी आंत इन नि बणै छे कि यु ग्यूं -चौंळ पचै साकु , किंतु आज संसार मा मनिख सबसे अधिक ग्यूं -चौंळ की ही पैदावार करद 
भगवान -हाँ किंतु 
भूत -किन्तु क्या  ईश्वर ! आपन मनिख तैं इन नंग या इन दांत नि दे छा कि यु हैंक जानवर या अपण कौम मनुष्य तैं मार सको।  किन्तु हे देव ! आज मनुष्य ही इन जानवर च जु सबसे अधिक अपण भाई बंधुओं हत्या करद ।  युद्ध मनुष्य का वास्ता वर्ज्य छौ किन्तु मनुष्य युद्ध मा लिप्त च। 
भगवान -ठीक च , पर देवलोक का नियमानुसार त्वे तैं मनुष्यलोक मा मनिखौ गाणी मा जाण इ पोड़ल। 
भूत -ना ना !
भगवान -नही ! जाण इ पोड़ल।
भूत -वै भगवान कु बच्चा ! तेरी औकात छ क्या च ? पंडित , मुल्ला , पादरी , मठाधीश नि ह्वावन तो त्वे तैं कु पूछल ?
भगवान -हे शठ भूत ! तू म्यार क्रोध तैं नि जाणदि।  जा मि त्वे तैं श्राप दींदु कि तू वापस भूत ह्वे जा।   
भूत -ओए ! बकबास त नि छै ना करणु ?  मि तैं सुदि त नि छै डराणु ? यु श्राप बदल त नि सकद ना ?
भगवान -नही ! अब तू कभी भी मनुष्य नही बन पायेगा। 
भूत -धन्यवाद प्रभु ! श्राप प्राप्ति का वास्ता मीन आप तैं गुस्सा दिलाई। 
भगवान (अपड़ि  मन मा ) -हैं ! शरीफ भूत बि मनुष्यों तरां चालबाजी करण मिसे गेन ?



Copyright@  Bhishma Kukreti  15/10 /2014       
*
लेख में  घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख  की कथाएँ चरित्र व्यंग्य रचने  हेतु सर्वथा काल्पनिक है



Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language, Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar;