उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, October 10, 2014

अवश्य ही कॉंग्रेस साफ़ ह्वे जाली !

उत्तराखण्डै भितरखण्डै समाचार -१ 
Fake News Correspondent: भीष्म कुकरेती 

 १- उत्तराखंड विधान सभा अध्यक्ष कुंजवाल जीन ब्वाल सुशासन की नई परिभाषाएं गढ़ी जायँ।  यांपर गढ़वाली शब्दकोश का विद्वानों श्री राजेन्द्र पुरोहित, डा अचलानन्द जखमोला अर भगवती प्रसाद नौटियाल आद्यूं मा प्रतियोगिता , झगड़ा , छौंपा दौड़ शुरू ह्वे गे कि सुसासन की सरकारी परिभाषा कु ल्याखल ! 
२- एक समाचार शीर्षक इन छौ - उत्तराखंड मा 300 किलोमीटर रास्ता साफ़।  ये समाचार पढ़णो बाद विभिन्न लोगुं से इन प्रतिक्रिया मिलेन - --
श्री नरेंद्र मोदीन सफाई कर्मचारियों तैं वधाई दे बल सफाई अभियान बढ़िया अर तेज वेग से चलणु च। 
भाजपा का राज्य प्रवक्तान वक्तव्य दे बल 300 किलोमीटर रस्ता साफ़ ह्वे गे अर भाजपा मुख्यमंत्री हरीश रावत से इस्तीफा की मांग करदी कि 300 किलोमीटर रस्ता उजिड़ गेन 
ठेकेदारोंन अपण अकाउंटेंटों तै कार्य दे कि रस्ता साफ़ ह्वे गेन याने रस्ता बनवाणो ठेका मा कथगा लाभ हूणै अंथाज च ?
असल मा समाचार छौ कि सरकारन  300 किलोमीटर रास्ता का निर्माण का रास्ता साफ़ कार।  चूँकि साफ़ का कई अर्थ हुँदैन तो अर्थ का अनर्थ ह्वे गे। 
३- समाचार छौ - बिन शिकार क्यों आएं गुलदार पिंजरे में ?
रायवाला -ऋषिकेश मा गुलदार पकड़णो बान पिंजरा रखे गेन किन्तु पिंजरा पुटुक शिकार /जानवर नि धरे गेन तो गुलदार चिठ्ठी देकि बि नि पिजरा पुटुक नि ऐन। अब बिचारा सरकारी कर्मचारी कारन त क्या कारन ! ऋषिकेश क्षेत्र मा शिकार /मटन आदि की विक्री , लीजाण पर रोक जि लगीं च। 
४- देहरादून का भाजपाई मेयर 'भारत सफाई अभियान ' चलाण चाणा छन किन्तु स्वास्थ्य मंत्रालय सहयोग नी दीणु च किलैकि स्वास्थ्य मंत्रालय राज्य सरकार का तहत  च अर राज्य सरकार कॉंग्रेस की च।  कॉंग्रेस तैं डौर च यदि देहरादून मा सफाई ह्वे जाली तो अवश्य ही कॉंग्रेस साफ़ ह्वे जाली।  

असली समाचार आभार - दैनिक जागरण (10 /10 /2010 )