उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, July 8, 2016

जु मीन कौकटेल पार्टयुं मा सीख

Best  Harmless Garhwali Literature Humor , Jokes cocktail Parties  ;  Garhwali Literature Comedy Skits  , Jokes cocktail Parties ; Garhwali Literature  Satire , Jokes ;  Garhwali Wit Literature  cocktail Parties, Jokes  ;  Garhwali Sarcasm Literature , Jokes  ;  Garhwali Skits Literature  , Jokes  cocktail Parties;  Garhwali Vyangya   , Jokes   cocktail Parties;  Garhwali Hasya , Jokes   ; गढ़वाली हास्य cocktail Parties, व्यंग्य,  गढ़वाली जोक्स


                                जु मीन कौकटेल पार्टयुं मा सीख 
-
                                        चबोड़ , चखन्यौ , चचराट :::   भीष्म कुकरेती   

-
भौत सा लोक खासकर प्रवासी गढवळि बुल्दन बल कौकटेल पार्टी  बकबास करणो तरीका च , समय बर्बाद करणो  तरीका च अर पैसा उड़ानों एक व्यसन  च।  असल मा गलत बुल्दन। कौकटेल पार्टी से आप स्यु सीख सकदन जु मैनेजमेंट क्लास मा नि सीख सकदा , उन आम क्लास मा नि सीख सकदा अर वु चीज ब्वे बाबुं से नि सीख सकदां जु कौकटेल पार्टयुं से सीख सकदां। 
 मीन गढ़वळयूं द्वारा गढ़वळयूं खुणै कौकटेल पार्टयुं मा इ सीख कि हम गढ़वळि ना अपितु प्रवासी छंवां। 
मीन गढ़वळयूं द्वारा गढ़वळयूं खुणै कौकटेल पार्टयुं मा इ जाण कि गढ़वाळ का गढ़वळि अब अळगसि ह्वे गेन , निकज्ज ह्वे गैन अर यूंन खेती छोड़ आल। 
मीन गढ़वळयूं द्वारा गढ़वळयूं खुणै कौकटेल पार्टयुं मा इ जाण कि अब गढ़वाळम कुछ नि धर्युं च  , गढ़वाळम   रौणै जगा नि च , अधिकांश कूड़ खंद्वार ह्वे गेन। 
मीन कौकटेल पार्टी मा हरेक  दोस्त से सूण  कि मेरी घरवळि बुलणि छे बल टीवी कॉमर्शियल  मा   दिखाए जाण वळ रोटी मेकर रुटि ना इकड़ी रुटि बणान्द मतलब खाकरा बणान्द।  मतलब  हरेक दूर ढोल सुहाना हूंदन , हरेक चीज ज्वा चमकदि च सोना नि हूंद अर हरेक टीवी कॉमर्शियल चैनल मा जु डिमॉन्स्ट्रेशन हूंद वु प्रैक्टिकल हो यांकी  गारंटी ना तो मनमोहन सिंघन दे , ना नरेंद्र दामोदर द्यालो अर राहुल गांधी से तो कॉंग्रेस बि नाउम्मीदी की उम्मीद करदी । 
मीन डेढ़ साल पैल गढ़वळयूं द्वारा गढ़वळयूं खुणै कौकटेल पार्टयुं मा इ सूण याल छौ कि खंडूड़ी अर कोशियारी तो सतहत्तर साल से अळगाक छन ,डा  निशंक पर भ्रस्टाचार का आरोप साबित नि ह्वेन पर छ्वीं त लग छन , टेहरी राणी जी अबि ताजी ताजी एमपी बणी च तो चार्युं मादे कैतै बि  मोदीन मंत्री नि बणान।  इन मा अजय टमटान ही मंत्री बणण।  कौकटेल पार्टयुं मा इ सूण कि यदयपि खंडूड़ी ,  कोशियारी,  डा  निशंक , टेहरी राणी जी अर बगैर एक फुट रेल पटरी दियां रेल पुरुष बण्या भद्र पुरुष याने सतपाल महाराज जी नि चांदन कि अजय टमटा मंत्री बौणन।
 मीन गढ़वळयूं द्वारा गढ़वळयूं खुणै कौकटेल पार्टयुं मा इ जाण याल कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश मा कांग्रेसक चुनाव प्रचार कौर बि लेली पर वींन  उत्तराखंड म प्रचार नि करण। जनि पता चौालल कि प्रियंका उत्तराखंड आणि च तनी  भाजपा न आरोप लगै दीण कि प्रेम नगर छ्वाड़ रॉबर्ट बाड्रा की बेनामी जमीन च। 
मीन कौकटेल पार्टयुं मा इ जाण कि मुंबई से अधिक सुख अमेरिका मा च , बच्चों का वास्ता रोजगार का अवसर अमेरिका मा मुंबई से अधिक छन अर  कौकटेल पार्टयुं मा ईबी  जाण कि अमेरिका मा अपसंस्कृति अर तनाव मुंबई से अधिक च किलकि  अमेरिका मा काम करण पड़द। 
मीन कौकटेल पार्टयुं मा इ जाण कि नरेंद्र मोदीक आण से द्वी नंबरों पैसा सर्कुलेशन से गायब ह्वे गे अर रियल्टी याने प्रॉपर्टी मार्केट टाइट चलणो च।  तो फ्लैट नी बिकणा छन।  किन्तु फ्लैटों दाम कम नि होणा छन किलैकि अधिकासं बिलडरों फाइनेशर , भामाशाह तो राजनैतिक नेता इ जि छन। 
मीन गढ़वळी  द्वारा गढ़वळयूं खुणै कौकटेल पार्टयुं मा इ जाण कि गढ़वाळम दारु पीणो रिवाज भौत बढ़ गे अर गढ़वाळम स्थति बद से बदतर हूणि च।  जैदिन जैं कौकटेल पार्टी मां या बात जाण वैदिन होटल का बिल मि तैं चुकाण पद किलैकि जैन होटलम कौकटेल पार्टी रखीं   छे वैका क्रेडिट कार्ड नो मनी अवेलेबल दिखाणु छौ।  
क्षमा कर्याँ मि हौर अधिक नि लेख सकुद किलकि मीन एक जगा 'शराब से शरीर अर बुद्धि दोनों का नाश  ' पर भाषण दीणो जाण अर वैक बाद एक गैर गढ़वाली दोस्त की कौकटेल पार्टी मां जाण अर उख जु बि सिखुल मि तुम तैं बथौंलु।    

-
6 /7/2016 ,Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai India 
*लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल हौंस , हौंसारथ , खिकताट , व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।

-
 Best of Garhwali Humor Literature in Garhwali Language , Jokes  ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language Literature cocktail Parties, Jokes  ; Best of  Uttarakhand Wit in Garhwali Language Literature , Jokes  cocktail Parties; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language Literature ; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language  Literature , Jokes cocktail Parties ; Best of  Ridicule in Garhwali Language Literature , Jokes  cocktail Parties; Best of  Mockery in Garhwali Language Literature  , Jokes    ; Best of  Send-up in Garhwali Language Literature  ; Best of  Disdain in Garhwali Language Literature  , Jokes  ; Best of  Hilarity in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language  Literature   ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language Literature  from Pauri Garhwal , Jokes  ; Best of Himalayan Satire Literature in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal cocktail Parties ; Best of Uttarakhand Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal  ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal  ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal  ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal   ;  Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal  ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal   ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar   cocktail Parties ;
Garhwali Vyangya, Jokescocktail Parties  ; Garhwali Hasya , Jokes ;  Garhwali skits cocktail Parties, Jokes  ; Garhwali short Skits cocktail Parties, Jokes , Garhwali Comedy Skits , Jokes , Humorous Skits in Garhwali , Jokes, Wit Garhwali Skits , Jokes  
गढ़वाली हास्य , व्यंग्य ; गढ़वाली हास्य , व्यंग्य ; गढ़वाली  हास्य , व्यंग्य,  गढ़वाली जोक्स , उत्तराखंडी जोक्स , गढ़वाली हास्य मुहावरे