उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, August 22, 2012

भकरभांड म्यर पहाड़

पहाड़ मा 
रोज 
औंस ही औंस 
भजणे रौंस
जूनी कि आस 
फिर निसास 
एका पिछने हैंको 
लगी लंगातार 
यी सिलसिला 
बारम्बार 
बांजी पुंगड़ी 
उजड़दी कूड़ी
भजदा मन्खी 
भकरभांड
म्यर पहाड़. 


****पहाड़ नि आन्दु रास****

निर्भगी बस्गाळ 
चिमचुन्य पाणि 
झुन्गारू न धान
काण्ड न मास 
न कुछ हौरि धाणि
खेती कि गाणि
एक थ्वपा बरोबर आस 
गूणि बांदर 
सुंगर सौला
करणा निरास
पकोड़ी न छकोड़ी
सिर्फ 
बास ही बास
पहाड़ का लोगोँ तै ही 
पहाड़ 
नि आन्दु रास .

        डॉ नरेन्द्र गौनियाल..सर्वाधिकार सुरक्षित narendragauniyal@gmail.com