उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 12, 2012

युद्ध असला बजार मा तिसर दुनिया क दे


गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य
                     युद्ध असला बजार मा तिसर  दुनिया क देस
                            चबोड्या - भीष्म कुकरेती
 
 
[हास्य व्यंग्य साहित्य ; गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य ; उत्तराखंडीहास्य व्यंग्य साहित्य ; मध्य हिमालयीहास्य व्यंग्य साहित्य ; हिमालयी हास्य व्यंग्य साहित्य ;उत्तर भारतीय भाषा हास्य व्यंग्य साहित्य ; भारतीय भाषा हास्य व्यंग्य साहित्य ; दक्षिण एशियाईभाषा हास्य व्यंग्य साहित्य ; एशियाई भाषा हास्य व्यंग्य साहित्य लेखमाला ]
एक असला ब्यौपारी- अरे सावधान ! सि तीसरी दुनिया क गरीब देस युद्ध असला बजार मा आणा छन.
दुसर ब्यौपारी- अरे हाँ सावधान. सौब एक जुट ह्व़े जाओ . हाँ ! यूँ तै डिस्काऊन्ट दीणै जरूरात नी च हाँ !
एक हैंकु युद्ध असला ब्यौपारी - अरे यार बीच मा यि द्वी तीन मानव कल्याण कारी कौंळ का ब्यापारी किलै हमारा बजार मा दुकान लगैक बैठ्या छन. फ़ोकट मा हमारो सौदा -नफा खराब करी दीन्दन.
चौथू असला ब्यौपारी - रौण द्याओ रै यूँ तै बि. बरडाणा इ त रौंदन इ. धंधा त यूँ से हूंद नी च बस भांची मारणो रौंदन बैठ्या
एक- अरे शरू कारो . धंधा . उनि बि अच्काल हमारो देस मा रिसेसन याने मंदी च त तिसर देसु तै युद्ध अस्त्र शास्त्र बेचिक मंदी ख़तम करे जाओ.
एक व्योपारी- ले लो नया नया मिसाइल ले ल्याओ
हैंक ब्यापारी- ले ल्याओ ! नया नया ऐटम बम ले ल्याओ
तिसरो ब्यौपारी- आज इ बण्यु ताजा टैंक ले ल्याओ
चौथू ब्युँपारी- केमिकल औजार ले ल्याओ . पड़ोस्यू जनता तै मारणो पूरी गारेंटी
एक मानव कल्याणकारी विक्रेता- भूक मिटाणो औजार ले ल्याओ
हैंक कल्याण कारी ब्यौपारी- हमर इखन कुल्याणो औजार ल़ी जाओ
तिसर दुनिया क एक देस (असला ब्यौपारी क समणि ) - अच्छा सूण ब्याळि , म्यार पडोसी न त्वे मांगन आधुनिक मिसाइल ल्याई . त मी तै उनि मिसाइल वै से दुगुण संख्या मा दे अर दगड मा एंटी मिसाइल मिसाइल बि बाँधी दे.
असला ब्यापारी- ठीक च . मि आधुनिक मिसाइल अर एंटी मिसाइल बाँधी दींदु . जरा भितर त आ कुछ नया नया टैंक अयाँ छन अर अबि तलक त्यार पडोसी तै पता बि नी च . जु तू हजार टैंक लेली त मि शर्तिया त्यार पडोसी तै यि टैंक नि द्योलु.
तिसर दुनियाक देस - पडोसी क सेना अर जनता तै तै मारणो बढिया टैंक छन ना ?
असला ब्यापारी- अरे पड़ोस्यू सेना अर जनता मारणो याँ से बढिया टैंक बौणि इ नि छन अबि तलक .
तिसर दुनिया क देस- भलो भलो ! इन कारो त द्वी हजार टैंक बि बाँधी द्याओ . कुछ डिसकौंट ?
ब्यापारी- ना डिसकौंट त हम नि दीन्दा पण मि एंटी टैंक मशीन आधा दाम पर दे द्योलु
तिसर दुनिया देस- ठीक च चालीस पचास एंटी टैंक बि बाँधी द्याओ . अच्छा सूणो ओ सेना तै लिजाणो ट्रक कख मिल्दन.
ब्युँपारी- इख बिटेन दसवीं दुकान च वा दुकान मेरो साडो भाई क इ च . मि वैकुण फोन कौरी दींदु .
[तिसर दुनिया क देस वै मिलिट्री ट्रक क दुकान ज़िना जान्दो , बीच मा वै तै मानव कल्याण कारि दूकान्यू क रस्ता म ह्वेक जाण पोड़द ]
एक मानव कल्याणकारी दुकानदार (अवाज दींद) - हमर इख सिक्षा बढ़ाणो सामान मिल्दो . च क्वी...
हैंक मानव कल्याण कारी दुकानदार - अर किलै छै अपण मुख बिगाड़णो. यूँ तिसर दुन्या वाळु न कुछ नि लीण ।
तिसर दुनया क देस एक मिलिट्रीट्रक क दुकानदारो इख- जरा मिलिट्री ट्रक त दिखा ..
दुकानदार- भै म्यार ट्रक त सौब बिकी गेन . तयार चारी पडोसी ऐ छया अर जथगा बि ट्रक छया सि ली गेन. बुकिंग करण पोडल.
तिसर दुनया क देस - ठीक च जथगा उं चरी देसूं न ट्रक खरिदेन उथगा ट्रक मी तै चयाणा छन. इ ले एडवांस .
दुकानदार (मन इ मन मा ) - कैन ब्वाल बल आर्थिक मंदी च युद्ध असला बजार मा त खूब चहल पहल च.
दुकानदार- अब कना जाणु छे ? कुछ पैसा बच्यां छन क्या ?
तिसर दुनया क देस- ना अब पैसा त बच्यां नि छन . म्यार साल भरो बजट त रक्षा खरीदी मा चलि गे.
युद्ध असला दुकानदार (मन इ मन मा ) तुमारो रक्षा बजेट से त हमार देस कु बजट चल्दो
दुकानदार- जब पैसा नी छन त कना जाणो छे?
तिसर दुनया क देस- जरा कल्याणकारी बजार बि त जाण . दिखुद छौं कुछ उधार पगाळ मा कुछ मील जाओ .
असला दुकानदार - अच्छा सूण . कुछ नई तकनीक का मिलिट्री ट्रक चार पांच मैना मा बि आण वाळ छन हाँ !
तिसर दुनया क देस- ठीक च बुक कौरी ल्याओ . अच्छा अब मि जरा जन कल्याणकारी बजार जाणु छौं
असला दुकानदार - ठीक च
जन कल्याणकारि दुकानदार - हाँ भै ह्व़े ग्याई सौब खरीदी
तिसर दुनिया क देस - अरे कख ह्वाई . अबि बि रक्षा बजट मा कमी च . पता नि क्या ह्वाल जु पडोसी देस में से जादा युद्ध असला जमा कौरी द्याला त ?
जन कल्याणकारि दुकानदार - अच्छा ब्वालो ! क्या चयाणु च ?
तिसर दुनिया क देस - चयाणु त क्या नी च? अच्छा भुकमरी रुकणो तकनीक बचीं च ? उन त चयाणो सिंचाई, शिक्षाबिरधि. कूड़ बणाणो सामान, रोड बणाणो ब्यूंत विधि सौब चयाणु च
जन कल्याणकारी दुकानदार - कुछ कैश बि च कि ना ?
तिसर दुनिया क देस - कख बच्युं च .उधार मीलल क्या?
जन कल्याणकारी दुकानदार - ना. हम उधार त नी दीन्दा पण जु ऐ.एम् ऍफ़ या वर्ल्ड बैंक वाळ गारेंटी दयावान त ..!
तिसर दुनिया क देस - अरे यूँ सौब बैंकु मांगन उधार पगाळ ले छ्यायो . पण पवा से कम कु काम ह्वाई. बकै आधा पौणा से जादा त उ करप्सन फंड मा चलि ग्याई . अब त ब्याज भरणो बान बि मी दुबर कर्ज मांगणु छौं.
जन कल्याणकारी दुकानदार - त ठीक च तुम इन कारो अपण जमीन गिरबी धौरो त जन कल्याण कु वास्ता तकनीक मीलि जाली
तिसर दुनिया क देस - अब क्या बुलण . इकोनौमिक रिफौर्म का नाम पर हमारी सौब जमीन बिकि ग्याई . अब जल , जमीन , जंगळ,कुछ बि हमारो नी च, सौब मल्टी नेशनल कम्पन्यू को नाम पर ह्व़े ग्यायी.
जन कल्याणकारी दुकानदार - त मि बि कुछ नि कौर सकुद. अब त यू .एन ओ मा जाओ त सैत च उ कुछ मदद कौरी द्याओ.
तिसर दुनिया क देस- ठीक च अब जन कल्याण कु बान भीक इ मांगण पोडल .

Copyright@ Bhishma Kukreti 10/8/2012
हास्य व्यंग्य साहित्य ; गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य ; उत्तराखंडीहास्य व्यंग्य साहित्य ; मध्य हिमालयीहास्य व्यंग्य साहित्य ; हिमालयी हास्य व्यंग्य साहित्य ;उत्तर भारतीय भाषा हास्य व्यंग्य साहित्य ; भारतीय भाषा हास्य व्यंग्य साहित्य ; दक्षिण एशियाईभाषा हास्य व्यंग्य साहित्य ; एशियाई भाषा हास्य व्यंग्य साहित्य लेखमाला जारी ...