उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 12, 2012

बच्चों नजर मा भारतै खेती---गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य


गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य
                    बच्चों नजर मा भारतै खेती
                                चबोड्या - भीष्म कुकरेती
 
 
[हास्य व्यंग्य साहित्यगढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य ; उत्तराखंडी हास्य व्यंग्य साहित्य ; मध्य हिमालयी हास्य व्यंग्य साहित्य ;हिमालयी हास्य व्यंग्य साहित्य ; उत्तर भारतीय हास्य व्यंग्य साहित्य; भारतीय हास्य व्यंग्य साहित्य, एशियाई हास्य व्यंग्य साहित्य लेखमाला ]
" चलो चलो, सावधान ह्व़े जाओ. मी स्कूल इन्स्पेक्टर छौं . बच्चो आज मि भारत मा कृषि पर सवाल पुछलु . अब तक जु बि मास्टरूं न तुम तै रटाई वां से सम्बंधित सवाल पुछुलु. ब्वालो बच्चो तैयार"
" जी हम तैयार छंवां "
" भौत बढिया. भारत एक कृषि प्रधान देस च. अर हमारा किसान भाई इख भौत सा अनाज, खाणो चीज पैदा करदन. बोल जनार्दन उर्फ़ जौनी तु बता. नक्वळ/नास्ता क क्वी चीज बता जु हमारा किसाण पैदा करदन"
" जी केलोंग कु राईस फ्लेंक "
' बिलकुल गलत "
"पण इसंपेक्टर जी ! हम त सुबेर सुबेर केलोंग राईस फ्लैंक्स कु ब्रेकफास्ट खांदा."
" वो ठीक च कि तुम सुबेर सुबेर नक्वळ/ब्रेकफास्ट मा राईस फ्लैंक्स खांदा पण किसाण फ्लैंक्स पैदा नि करदन "
'मास्टर जी ! जु किसान फ्लैंक्स पैदा नि करदन त फिर कखन फ्लेंक आंदो?"
" अबे ! किसान सट्टी पैदा करदन अर फिर याँ से अमेरिकी कंपनी फैक्टर्युं मा फ्लैंक्स बणान्दी "
"सौरी इन्स्पेक्टर जी म्यार घौरम केल्लोंग की बडै होंदी . म्यार मौम- डैडी सौब रोज बुल्दन बल हम किलौंग का आभारी छंवां जैन इथगा स्वास्थ्य वर्धक फ्लेंक बणाइ "
" चलो छोडो अब निर्मला उर्फ़ निम्मु तु बता कि नक्वळ मा कु मान्शाहरी चीज च जु किसान पैदा करदन ."
" हम त सुबेर सुबेर नास्ता मा नॉन वेज मा सिर्फ ऑमलेट खांदा बस."
" बेटा निम्मु ! किसान ऑमलेट पैदा नि करदन बल्कण मा अंडा पैदा करवांदन"
"पण इन्स्पेक्टर जी ! अंडा त घोंसला मा होन्दन फिर किसान ..?"
"बच्चो ! किसान पोल्ट्री फ़ार्म मा मुर्गी पालन करद अर फिर मुर्गी पोल्ट्री फ़ार्म मा अंडा दीन्दन . "
" इन्स्पेक्टर जी ! दैट्स वेरी इंट्रेस्टिंग "
" गबरू ! तु बता वु को अनाज च जु किसान पैदा करद अर हम वै तै बुकान्दा छंवां "
' यू त सरल सवाल च . बटर पौप कोर्न "
" ओह! तुम मी तै लगणु च कि कृषि विषय पर ध्यान नि दीन्दा . बटर पौप कौर्न क्वी फसल नी च . पौप कौर्न मुंगरी से बणदु अर किसान मुंगरी पुंगड़ो मा पैदा करदन . "
" पण म्यार ब्व़े बाबु न कबि नि बताई कि मुंगरी बि क्वी फसल होंद. हम त इ समजदा छया कि पौप कौर्न पुंगड़ो मा पैदा होंद."
" ठीक च अब त समजी गेवां कि पौप कौर्न पुंगड़ो मा पैदा नि होंद"
"जी"
" अच्छा बंटू तुम बताओ कि क्वा फसल च जो मिट्ठू बणाण मा काम आन्द "
" कोको चौकलेट"
" भै, कोको चौकलेट भारतीय नी च. तु बता संटू"
" जी सुगर क्यूब्स"
" ओहो बच्चो ! सूगर क्यूब्स क्वी फसल नी च "
"त सूगर !'
' नहीं . सूगर गन्ना से बणदो अर भारतीय किसान गन्ना कि खेती करदन."
" पण सूगर त अग्रो प्रोडक्ट इ च ?"
" ओ ठीक च कि सूगर कृषी पदार्थ च पण सूगर पुंगड़ो मा पैदा नि होंद . पुंगड़ो मा गन्ना पैदा होंद."
" सरप्राइज ! "
" अच्छा बथाओ कि तुम नॉन वेज का बारा मा क्या जाणदवां जु किसान पालित होंद "
"कंटकी चिकन, मैक डौल .."
" अरे म्यार बुबौं ! यि त ब्रैंड छन."
" पण हम त इ जाणदा कि कंटकी चिकन ..."
" नही यि क्वी किसान नि पैदा करदन. किसान मुर्गी पालन करदन अर फिर यि विदेसी ब्रैंड अपण नाम से यूँ तै बिचदन."
" दैट्स व्ह्याई सो टेस्टी . सवादी ..."
" अछा कुछ अनाज क बारा बथाओ जो तुम खांदा छंवां "
"ब्रेड, बन्स, पाँव , बिस्कुट आदि "
' अरे सालो ! यि सौब फैक्टर्युं मा बणदन . असली फसल होंद ग्युं की "
" सर ! अब्युजिव भाषा असंवैधानिक च ."
' ओ. सौरी ! अच्छा बताओ कि साग, दाळ क्या होंद जु किसान पैदा करद ."
" जी बडी, पापड, चाऊ माऊ, बिरयानी, पुलाव, फिंगर चिप्स, फिंगर फ्राई पुलाव आदि "
'म्यार बुबाओ ! यि किसान नि पैदा करदन बल्कण मा किसान उड़द ,ग्युं, सट्टी, अल्लू पैदा करदन ."
'सौरी सर !"
' अच्छा इन बताओ कि दूध कख बिटेन आन्द ."
" हम त नि जाणदा कि दूध क्या होंद अर कु पैदा करद."
" अरे रोज इख स्कुलम तुम तै सरकार को तरफ से एक गिलास दूध मिल्दो फिर कनै बुलणा छंवां कि दूध क्या होंद ?"
' पण हेड मास्टर जी अर ज्वा खाणक बणान्दी वो रोज बुल्दन बल कनो काण्ड लगी कि स्कूलक बिराळो सौब दुध चट कौरी ग्याई."
' एस सर ! जरा आप ये बिरळ तै भगवै द्याओ .जु हम तै दूध मीलल त हम दूध का बारा मा बतै द्योला"
' अछा बताओ कि बिराळु क्या होंद ?"
"जी बिरळो काम स्कुलम स्कुलो बच्चों दूध पीणो हुंद ."
' ओह हे भगवान्! . अछा मि हेड मास्टर जी तै पूछिक बतान्दो कि ये बिरळो क क्या करे जाओ. अब इन्स्पेक्सन खतम ..."

Copyright@ Bhishma Kukreti 12/8/2012
हास्य व्यंग्य साहित्य ; गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य ; उत्तराखंडी हास्य व्यंग्य साहित्य ; मध्य हिमालयी हास्य व्यंग्य साहित्य ;हिमालयी हास्य व्यंग्य साहित्य ; उत्तर भारतीय हास्य व्यंग्य साहित्य ; भारतीय हास्य व्यंग्य साहित्य , एशियाई हास्य व्यंग्य साहित्य लेखमाला जारी ..