उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 12, 2012

भ्रष्टाचार खतम करणौ आन्दोलन


गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य
                        भ्रष्टाचार खतम करणौ आन्दोलन
                                       चबोड्या - भीष्म कुकरेती
[भ्रष्टाचार पर व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर उत्तराखंडी व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर मध्य हिमालयी क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर हिमालयी क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर उत्तर भारतीय क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर भारतीय क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर एशियाई क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य लेखमाला ]
" पी.ए.जी ! सब तैयारी ह्व़े ग्याई कि ना ?"
"हाँ नेता जी ! सबि तरां मीडिया तै खबर कौरि आल. सबि टी.वी चैनेलुं मा धूम मचीं च कि नेता जी याने आप दस दिन उपरान्त भ्रष्टाचार उन्मूलन क्रान्ति लाणो बान रामलीला मैदान मा उपवास करणा छंवां"
" पी.ई जी! द्याखो हाँ ! मेरी खबर अडवाणी जी, अन्ना जी अर बाबा रामदेव से बड़ी होण चएंद हाँ ! "
"आप फिकर कतै नि कारो मीन अपण ख़ास जर्नालिस्ट एजेंटू कुण बोलि आल कि सफल आन्दोलन का बाद सौब तै राज्य मा पत्रकार कौलोनी क फ़्लैट मिल जाल "
" अच्छा त खबर पूरी जोर शोर से चलणि छन. "
" जी सब जगा घ्याळ हुयूँ च बल आपक भ्रष्टाचार उन्मूलन आन्दोलन अडवाणी, अन्ना हजारे अर बाबा रामदेव से बड़ो च , आपक विरोधी डर्याँ छन कि कुज्याण क्या होंद धौं "
" अर वु भीड़ क इंतजाम ह्व़े ग्याई कि ना ?"
" बस आबि से वै इ काम पर लगणु छौं."
" चलो मी बि तुमर दगड हाथ बंटान्दु "
'अजी फिर त लाख द्वी लाख लोग रोज रामलीला मैदान मा आला इ ."
" हलो! मी नेता जी बुलणु छौं. बधाई ह्वाओ ब्याळि आप चीनी घोटाला म जेल से भैर ऐ गेवां। "
"नेता जी यू सौब आपक मेहरबानी च. कि मि जेल से भैर ऐ ग्यों.ब्वालो काम ब्वालो !"
" अरे भै भ्रष्टाचार उन्मूलन सम्मलेन कि तैयारी चलणि च "
हाँ. मीन टी.वी चैनलुं मा खबर देखी आल. ठीक च सौ ट्रक लोग म्यार समजो.सुबेर स्याम इ लोग पंडाल मा इ राला . अर यूंक खाणो पीणो इंतजाम मि इ करुल."
' .पण मी तै पांच सौ बस या ट्रक मा लोग चयाणा छन "
" पांच सौ ट्रक मा लोग आई जाला जी . बस भीड़ का बनिस्पत आप से जाओ . मि अपण सौब भाई बन्धो तै बोलिक भीड़ जुटाई देलु"
"धन्यवाद. भीड़ खूब होण चएंद हाँ
" हलो ! अरे बिल्डर जी. मि नेता जी बुलणु छौं. अच्छा सुणो जमीन घोटाला कि अपराधिक सुणवै बन्द ह्व़े ग्याई कि ना ?"
" नेता जी. जै मुंड मा आपक हाथ ह्वाओ वै पर क्यांकि अपराधिक सुणवै ."
" अछा बिल्डर जी . वो यार भ्रष्टाचार उन्मूलन सम्मेलन को पंडाल पर भौत खर्च हूणु च . जरा.."
" वांक चिंता नि कारो. आपकी मदद से इ त मीन करोड़ो अरबों कमाई.त ठीक च पंडाल आदि क इंतजाम ह्व़े जालो."
" चलो धन्यवाद ."
" हलो ! मि नेता जी बुलणु छौं . कॉल गर्लूं धंदा कन चलणु च ."
" नेता जी आपकी मेहरबानी से काल गर्लूं धंदा बढिया चलणु च . टी.वी मा द्याख कि आप भ्रष्टाचार उन्मूलन आन्दोलन चलाण वाळ छंवां "
"हाँ अच्काल भ्रष्टाचार पर बुलणो फैसन चलण मिसे ग्याई त मीन स्वाच कुछ नाम कमाए जाओ."
" भौत बढिया कार आपन. हाँ ! अच्काल सौब भ्रष्टाचार ख़तम करणो पैथर पड्या छन "
" एक काम छौ."
"आप हुकुम त कारो सैकड़ो कनीज आपक बिस्तरा मा पड़ालि द्यूं ."
" अरे वु काम नी च आज"
" त फिर ?"
" मैं तै भ्रष्टाचार उन्मूलन सम्मेलन का वास्ता सौएक जनानी वोईलेंटर चयाणा छन."
" अजी सौ क्या पांच सौ जनानी वोईलेंटर चयाणा छन तोभी भेजी द्योलू ."
' नै नै सिरफ़ सौ स्वयं सेविका इ चयाणा छन
" ठीक च आपक भ्रष्टाचार उन्मूलन सम्मेलन मा सौ जनानी वोईलेंटर पौंची जाला"
" अच्छा सूण ! यि सौब जनानी सोसल वर्कर लगण चयान्दन हाँ. इन नि ह्वाओ कि कॉल गर्ल लगन .."
"नेता जी ! आप बि ना ! सौब सती का रूप मा राला अर इन लगल जन कि इं दुनिया मा यूँ से जादा क्वी धार्मिक जनानी नी ह्वेली .आज से इ मि सौ काल गर्लू तै सोसल वर्करो हभ्यास करांदु "
" थैंक यू डार्लिंग ! "
" सर !"
' हाँ ! पी.ए जी ! "
"सर कुछ भजन आदि "
"हाँ ! इन कौर ओ जो कलाकारों तै बेईमानी से विदेश लिजाण मा फंसी छया ना ?"
" समजी ग्यों वूं कुण मि बोली दींदु कि भजन कीर्तन का वास्ता कलाकारु इंतजाम कौरी देन "
" हलो ! मि नेता जी बुलणु छौं .क्या हाल छन ?"
"आपकी मेहरबानी से परसि इ जेल से भैर औं। नेता जी हुकुम कारो."
" अरे भाई यू त म्यार धरम च. अच्छा सुणो , भ्रष्टाचार सम्मेलन का वास्ता कुछ सौएक स्वयं सेवक चयाणा छन "
'नेता जी ठीक च म्यार सौ गुंडा स्वयं सेवक का भेस मा आपक सम्मेलन मा पौंची जाला .आजी मी ऊंकुण बुल्दु कि तमीज का हभ्यास करणा रावन.""
"पी.ए. जी! मै लगद सौब इंतजाम ह्व़े ग्याई. अब जरा भासण लिखणो कै फ़िल्मी राइटर तै बुलाई द्याओ."
' जी! एस नेता जी! आपक भाषण इन ह्वाला क भ्रष्टाचार डरण बिसे जाल कि इख भारत मा रौं कि कखि हौर चलि जौं "


Copyright@ Bhishma Kukreti 12/8/2012
भ्रष्टाचार पर व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर उत्तराखंडी व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर मध्य हिमालयी क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर हिमालयी क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर उत्तर भारतीय क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर भारतीय क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य; भ्रष्टाचार पर एशियाई क्षेत्रीय भाषाई व्यंग्य साहित्य लेखमाला जारी ...