उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, May 19, 2014

क्या मुझे भी इस्तीफा दे देना चाहिए ?

 हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
घरवळि -तुमसे त बेहतर त वी छौ। मीनि गलती कार निथर बुबाजी त पैथर इ पड्यां छा। 
मि -कु छौ में से बेहतर ?
नौनु -पापा देहरादून में नही है वे इस्तीफा  अंकल ! जो जब चाहो इस्तीफा दे देते हैं।  अभी पाकिस्तान में जरदारी चुनाव हारे तो उन्होंने मॉरल ग्राउंड पर मुहल्ला  कुत्ते  रोको समिति से इस्तीफा दे दिया था। 
मि -अरे वी ना , जैन ऑस्ट्रेलया चुनाव बाद नैतिक जुमेवारी लेते हुए मुहल्ला किरम्वळ अभियान समिति से त्यागपत्र दे दे छौ। वैक क्या ? 
नौनु -मम्मी की शादी की बात इस्तीफा अंकल से चली थी किन्तु तभी इंदिरा गांधी चुनाव जीत गई और इस्तीफा अंकल ने नैतिक उत्तरदायित्व लेते हुए सरकारी नौकरी से इस्तीफा दे दिया। 
मि -हाँ पण मीन रेजिग्नेसन किलै दीण ?
घरवळि -मुहल्ला मा सबि त्यागपत्र दीणा छन।  एक तुमि छंवां जैन त्यागपत्र नि दे।  मुहल्ला मा नाक कटेणि च। 
मि -अरे पर   .......
घरवळि -नै तुम अब्याक अबि रिजाइन कारो। 
मि -ह्यां पण मि नौकरी से रिजाइन करलु त हमन खाण क्या च ?
घरवळि -मि नौकरी से त्यागपत्र दीणो बात थुडा करणु छौं। 
मि -तो ?
घरवळि -मि त मॉरल ग्राउंड की बात करणु छौं। 
मि -क्यांक नैतिक उत्तरदायित्व ?
घरवळि -ओहो जन आसाम  मुख्यमंत्री गोगाईन नैतिक जुमेवारी ले अर सोनिया गांधी तैं त्यागपत्र भेजी दे। 
मि -गोगाई तैं इथगा इ हाइ मॉरल ग्राउंड की पड़ीं छे तो इस्तीफा तब दींदु जब पार साल उख दंगा ह्वेन।
घरवळि -पर अब त इस्तीफा दे कि ना ?
मि -अरे सब ढकोसला च।
घरवळि -अब सुणण मा आणु च कि समाजवादी पार्टी का सबि जिला अध्यक्ष नैतिक जुमेवारी नियम का तहत इस्तीफा दीण वाळ छन। 
मि -यी समाजवादी गुंडा गर्दी बढ़ाण बंद करी द्यावन तो तब माने जाल कि यूँ तैं चुनाव मा हारणो शरम लग।
घरवळि -पर सि चेन्नाई मा डीएमके कु स्टालिनन त हाइ मॉरल ग्राउंड पर इस्तीफा दे कि ना ?
मि -ढोंग अर स्वांग तो डीएमके कु पुराणो रोग च।  जब करुणानिधि कु जवाईं भ्रष्टाचार मा लिप्त पाये गे , बेटी कळमुंडी स्कैम मा पकड़े गे -जेल गे , जब 2G स्कैम मा ए राजा जेल गे तो स्टालिन -करुणानिधिन  धै लगै कि बल ए राजा दलित च इलै वै तै फंसाये गे।  तब कख छौ मर्युं वु मॉरल ग्राउंड ?
घरवळि -ह्यां पर अब त दिल से स्टाइलिनन इस्तीफा दे कि ना ?
मि -हाँ अर दिल से ही करूणानिधिन बोलि बि दे कि स्टाइलिनन क्वी इस्तीफा नि दे।  ढोंगी कहींके ! राजनीति का कोढ़ !
घरवळि -ठीक च पर नीतीश कुमारन बिहार मा इस्तीफा तो दे कि ना ?
मि -नितीश कुमार ! वाह ! सौ चूहे खाके मिंया हज को चले ! सेक्युलर की सबसे बड़ी बेज्जती करण वाळुं बादशाह ! सेक्युलर शब्द की घोर अवमानना करण वाळुं सरदार ! सेक्युलरिज्म तैं इरैलीवेंट , असंगत बणाण वाळुं चक्रवर्ती सम्राट से नाटक की ही आशा करे जै सक्यांद।
घरवळि -मतलब नीतीश कुमारौ इस्तीफा केवल एक ड्रामा च , एक स्वांग च , ढोंग च , नाटक च ?
मि -हाँ सिरफ़ और सिर्फ एक ड्रामा च।
घरवळि -फिर बि तुम इस्तीफा द्यावो। 
मि -ह्यां पर यू तेपर इस्तीफा कु रबत किलै लग्युं च। 
घरवळि -मुहल्ला मा सबि कजैयूँन  नैतिक उत्तरदायित्व  का ऐवज मा इस्तीफा दे आल 
मि -पर इन क्या ह्वाइ ?
घरवळि -मुहल्ला मा खबर च कि सोनिया गांधी अर राहुल गांधी चुनावी हार की नैतिक जुमेवारी लीण वाळ छन अर इस्तीफा दीण वाळ छन। 
मि -नाटकबाजूं फैक्ट्री च यो नेहरू -गांधी परिवार !
घरवळि -क्या मतबल ?
मि -देख अब क्या हूण वाळ च
घरवळि -क्या ?
मि -सोनिया गांधी अर राहुल गांधीन इस्तीफा दीण अर फिर स्वार्थी , चमचा कॉंग्रेस्यूंन हार को ठीकरा मनमोहन सिंग पर फोडन अर सोनिया अर राहुल गांधी तैं इस्तीफा वापस लीणो मिन्नत करण। 
घरवळि -तुमर बुलणो मतबल च कि यु सब नाटक हूण। 
मि -हाँ  19/5/2014 दिन   कॉंग्रेस कार्यकारणी मा एक इनि नाटक देखि लेन। 
घरवळि -मतबल के सीरीज सीरियलों से बि मजेदार नाटक दिखणो मीलल ?
मि -हाँ सन 2014 कु सबसे बड़ो हास्यास्पद, प्रीडिसाइडेड नाटक 19/5/2014 दिन   कॉंग्रेस कार्यकारणी मा होलु जब सोनिया अर राहुल गांधी इस्तीफा एपिसोड मा त्यागपत्र आलु अर भारतीय जन प्रेम , स्क्युलरिज्म बचाणो नाम पर अफिक इस्तीफा नामंजूर ह्वे जालु। 
घरवळि - ठीक च तुम बि इस्तीफा द्यावो अर हम परिवार वाळ अपण परिवार का  खातिर तुमर इस्तीफा नामंजूर कर द्योला।

      Copyright@  Bhishma Kukreti  19/5/2014   
    

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।  
Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-upin Garhwali Language, Disdainin Garhwali Language,Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulnessin Garhwali Language
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य    श्रृंखला जारी