उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, June 6, 2016

घुघती कविता की रिकॉर्ड प्रशंसा

घुघती कविता की रिकॉर्ड प्रशंसा 
-
-

दो तीन दिन पहले मैंने जयपाल सिंह रावत 'छिपडु दा ' की कविता घुघती फेसबुक में पोस्ट की बहुत दिनों बाद किसी कविता को ऐसा प्रासाद व प्रशंसा मिली है।  पाठकों ने पढ़ा है 
 इसका अर्थ है यदि कविता में कवित्व वाला दम है और कविता को बहुतायत पाठकों तक पंहुचाया जाय तो गढ़वाली को पाठक मिलेंगे , मिलेंगे अवश्य मिलेंगे।  
 घुघुती : प्रतीकात्मक कविता

कवि- जय पाल सिंह रावत (1954 ग्राम मालई। चौंदकोट , पौड़ी गढ़वाल ) 
-
-
एक डाळम
घघुती बैठीं छे
छिपडु दादा
छैलम बैठी ग्याई
बल !
हे घघुती !
भूलि ह्या
जरिस
गीत लगा दे
त्यारा बोल
मिठा छिंई
मि थक्युं छौं
मयारू मन
ब्यळमा दे I
घुघुती न ब्वाल
भैजी!
ओ ज़माना गाया
जब गीत लगदा छाया I
मित
अंगरेजी
स्कूलम पढयूँ छौं
सटुल्यूं कि स्कूलमा
टीचर लग्युं छौं
तुम खुणै मि
सुदि हुंयूं छौं ?