उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, April 7, 2015

पेड़ बचला तो आदिम बचला ( बाल नाटक )

बाल  प्रहसन नाटिका संकलन ::: भीष्म कुकरेती 


 [अन्ध्यर , इन लगणु च क्वी कै तै जबरदस्त धक्का दीणु च। बार बार धक्का की आवाज। उज्यळ हूंद त एक बल्द पेड़ पर जोरका धक्का दीणु च।   उळकाणु भयभीत च ]
                           उळकाणु
ये क्या करणु छै ?
                            बल्द 
मी डाळ भीम गिराणु  छौं। 
                          उळकाणु
बंद कर। 
                            बल्द 
क्या ?
                          उळकाणु
बंद कर।  यु म्यार घर च। अर तू म्यार कूड़ उजाड़नु छै। 
                            बल्द [घंघतोळ मा ]
त्यार ड्यार ?
                          उळकाणु
हाँ मि इख रौंद। 
                            बल्द 
सच्ची ?
                           उळकाणु
अबै हमर क्वी जीजा स्याळो रिस्ता च जु मि मजाक करणु हों।
                            बल्द 
मतलब तू इख ?
                          उळकाणु
हाँ तो उळकाण डाळ मा नि रै सकदन।   
                            बल्द 
हुक्कां !  हुक्कां ! अलग हू।  मीन पेड़ गिराण। 
                          उळकाणु
त्वे कुण हाथ जुड़्यां छन।  एक घड़ी सूण त सै। 
                            बल्द 
अच्छा चल बोल।
                          उळकाणु
पेड़ म्यार बसेरा च। मि इक रौंद।  यु नि राल तो मि नष्ट ह्वे जौल।
                            बल्द 
मि कुछ नि कर सकुद।  पेड़ गिराण मेरी लाचारी च।
                       उळकाणु
पर किलै ?
                            बल्द 
बिरळन काम दियुं च। 
                          उळकाणु
बिरळ तैं पेड़ गिरैक क्या फैदा।? 
                            बल्द 
पता नी च।  वु मि तैं पेड़ गिराणो पैसा दींदु अर मि प्रश्न नि करदु। 
                          उळकाणु
अरे बिरळक ठसक का वास्ता   मीन अपण ड्यार नि उजाड़न दीण।  
                            बल्द 
वु पेड़ गिराणो बदल म्यार परिवारो वास्ता घास दींद , दाणा दींदु। पेड़ नि गिरौलु त म्यार परिवार भूक मरि जाल। 
                          उळकाणु
कुछ बि ह्वे जाव मीन पेड़ नि गिराण दीण।  सैकड़ों साल से हम लोगुं अर हौर जानवरूं परिवार साख्युं से रौंदन इक।  तू क्या चांदि कि  हम बेघर ह्वे जौंवां ? 
                            बल्द 
मीन अपर परिवार पळण। 
                           उळकाणु
अरे पर दुसर तरीकों से बि त परिवार पळे सक्यांद कि ना ?
                            बल्द 
पता नई च।  मि तैं त पेड़ इ गिराण आंद।  मीन जनम भर ई काम कार।
                          उळकाणु
क्वी त विकल्प होलु ? जै काम मा त्वै तै मजा बि आंद हो। 
                            बल्द 
हाँ हाँ ! मि तै हौळ खैंचणम मजा आंद।  धरती पर चीरा लगाणम आनंद आंद। 
                          उळकाणु
देख न विकल्प मिल गे ना ? तो तू हौळ खैंच ना ! 
                            बल्द 
पर पेड़ गिराणम ज्यादा पैसा मिल्दन। 
                          उळकाणु
यीं दुन्या मा पैसों से बि अधिक महत्वपूर्ण बत्था छन।
                            बल्द
जन कि /
                       उळकाणु
जन कि प्रकृति तैं उनि रखण जन कि रखण चयेंद। 
                            बल्द 
हम थूका प्रकृति तै  बदल्दा। 
                          उळकाणु
पता च बगलक जंगळ पेड़ गिरैक कन खतम ह्वे ?
                            बल्द 
हाँ मीनि त सब पेड़ गिरै छौ। अर बिरळ कथगा खुश ह्वे छौ। 
                          उळकाणु
हाँ ! पर बिचारा जानवरूं तै कथगा तकलीफ ह्वे।  कतगौंकि तो साखी मतलब जनरेसन ही खतम ह्वे गे।  जानवरूं तैं सुरक्षित जगा ढुँढणो बान कख कख नी डबखण पोड आ कथगा तो नया घर तै अनुकूलन याने एडजस्ट नि कर सकिन अर खजे गेन। 
                            बल्द 
देख ना फिर बि वु जगा खुजे इ लीन्दन कि ना ?
                          उळकाणु
जरा सुचदि यदि सब पेड़ इनि गिराये जाल तो क्या ह्वाल ?
                            बल्द 
इन नि ह्वे सकद।
                           उळकाणु
किलै नि ह्वे सकद ?
                            बल्द 
यदि सब पेड़ गिराये जावन तो क्या ह्वे जाल ?
                          उळकाणु
हम सब जानवर नया घर की ढूंढ मा इना -उना फुळे जौंला अर तू अर बिरळ हम तै कबि मिलल फिर। क्या तू चांदी कि हम फिर कबि नि मिलां ? 
                            बल्द 
ना ना ! मेर समज से  ना। 
                          उळकाणु
तीतै कुछ करण चयेंद। निथर सब पेड़ खतम ह्वे जाल अर हम सब्युं कुण कुछ नि बचल। 
                            बल्द 
क्या मतबल मीम बि कुछ नि बचल ?
                          उळकाणु
अरे यदि सब पेड़ गिर गे त तीम फिर काम कख रालु।  है ना ? पेड़बिहीन संसार मा काम रालु क्या ?
                            बल्द
हैं मीन इन स्वाच  इ नी च।                       उळकाणु
सोच , सोच अर विचार कर।  
                            बल्द 
रुक रुक ! रुक , अबि त इथगा पेड़ छन कि म्यार ज्यूंद रौण तक त पेड़ राला ही।
                          उळकाणु
अर त्यार बच्चा ?
                            बल्द 
म्यार बच्चौंक क्या ?
                          उळकाणु
जै हिसाब से पेड़ गिराये जाणा छन तै हिसाब से तो ऊंकुण पेड़ इ नि बचला। 
                            बल्द 
हाँ पर हम पेड़ लगै द्योलां।
                          उळकाणु
पेड़ लगाणो बाद सालों लग जांदन एक पेड़ तै युवा हूण मा। इथगा सालुं मा तो हम जानवरूं दसियों साखी जनरेसन जनम लीन्दन अर खतम ह्वे जांदन। 
                            बल्द 
हाँ या बात त गंभीर च ना ?
                           उळकाणु
हाँ।
                            बल्द 
 हम तै अधिक से अधिक पेड़ लगाण चयेंद। 
                          उळकाणु
इथगा काफी नी। च 
                            बल्द 
यार कुछ तो खराबी च।  तू भौत अधिक विचार करदि। 
                          उळकाणु
अर तू भौत कम विचार करदि। 
                            बल्द 
तेरी बथुं पर विश्वास नि हूंद।
                          उळकाणु
देख अबि बि हरेक जानवरकुण घर नी च।  अर पेड़ गिरण से अधिकतर जानवर बेघर ह्वे जाला। पेड़ गिरण से जनवरूं कुण भोजन की कमी ह्वे जाली।
                            बल्द
हाँ कमी तो ह्वेलि इ। 
                         उळकाणु
फिर पडूँ से स्वछ हवा बि मिल्दी। 
                            बल्द 
अच्छा ? स्वच्छ हवा मिल्दी ?
                           उळकाणु
हाँ।
                            बल्द 
कनकैक ?
                          उळकाणु
जैं हवा तै हम भैर फिंकदा पेड़ वीं हवा से सांस लींद अर हमर लैक हवा भैर फिंकद।    
                            बल्द 
सच्ची ?
                          उळकाणु
शहरूं मा धुंवा दिखदि। उख पेड़ नामात्रौ छन तो। 
                            बल्द 
हाँ भौत बुरी हालात च।
                          उळकाणु
यदि पेड़ नि राला तो धुंवा इ धुंवा ह्वे जाल अर फिर कुछ नि बचल।
                            बल्द 
इन सच्ची होलु ?
                       उळकाणु
यदि तू इनि पेड़ गिराणि रैली तो वु दिन दूर नी च कि दुन्या पेड़ विहीन -
                            बल्द 
पर मि तै बि त परिवार पळण।  हाँ पेड़क कुछ हिस्सा  चल सकद ? 
                          उळकाणु
नै नै।  अर तीतै पता च तापमान कथगा बढ़ गे। 
                            बल्द 
ना पूछो।  बुरा हाल छन। हर साल गरमी बढ़नी च। 
                          उळकाणु
किलैकि पेड़ कम हूणा छन। 
                            बल्द 
क्या मतलब ?
                          उळकाणु
अरे जब हम सांस फिंकदा या कारखानो से धुंवा या कार से धुंवा उठद त गरमी बड़द।  पर पेड़ हूण से गरम हवा ठंडी ह्वे जांदी।  
                            बल्द 
त्यार दिमाग भौत चलद हाँ।  बात त सै च।
                           उळकाणु
फिर यांसे र अति गरमी , अतिठंड अर अति वर्षा शुरू ह्वे जांद। हर चीज अति।
                            बल्द 
मतलब पेड़ बचण चयेंदन। 

                          उळकाणु
हाँ जंगळ बचण चयेंदन। 
                            बल्द 
ठीक च। मि ये पेड़ तैं नि गिरांदु।  चलो एक सौदा ह्वे जावो। 
                          उळकाणु
प्रकृति से सौदा नि हूंद।  अच्छा मि चलणु छौं।  चलो बच्चो जरा खाण पीणो इंतजाम करे जाव। बल्द जी फिर मिलला हाँ। 
[उल्लू जांद ]
                            बल्द 
   जंगळ सुंदर त छन।  नी ? पेड़ नि ह्वाल तो फिर जंगळ बी बदसूरत ह्वे जाल।  उल्लू की बात मा दम च कि पेड़ बचाये जावन। 

        

2/4/15  , Bhishma Kukreti , Mumbai India