उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, April 15, 2015

उ त खंयां पियां मुंडीत का छन (व्यंग्य )

सुनील थपल्याल घंजीर

लाटा काला !

दलेदर दा समिन्या !

कख छै रै कुंपा डबकुंणू ?

कुंपा :  भैजी मि अचगाल जंयां बित्यां लोग ढुंडुणुं छौं ! पूरी दुन्या छांण याल पर मीथै जंयां बित्यां लोग नि मीला !

यां खुंणै हि ब्वलदीं बल लाटा काला लोग !

हबै ! तुत फस्ट डिविजनेर छै राजनीतिशास्त्र मा ! कन बोल सकदी त्वे जंयां बित्यां लोग नि मीला ?

कुंपा : भैजी मां की कसम ! मी नि दिख्याया अपंणी जिंदगी मा जंयां बित्यां लोग !

अरै अगर तु पिंपरी ब्वाडै औलाद नि हुंदु ना त मेरी इतगा जंई बितीं गाली खांदु कि एक जंयू बित्यूं आदमी त त्वे यखमै दिखे जांदु !

हब्बै म्यारा दैंणदूसा तिल नेता नि देखा कभि ? यूं से जंया बित्यां लोग कख मिलला त्वे ! म्यारा लाटा !

कुंपा : न भैजी ! नेता जंया बित्यां लोग नि हूंदा !

अच्छा ! म्यारा लैमचूस त त्वी बथा फिर नेता लोग कैं कैटगिरी मा अंदि ?

कुंपा :  खंयां पियां मा !

हे मेरी मति तु कख छै हरचीं !

सर्वाधिकार @ सुनील थपल्याल घंजीर