उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, April 15, 2015

गढवली राशनी दुकान विद फ्रिज !

लिख्वार ---सुनील थपल्याल घंजीर ।

स्थान : पाँच छै गौं की एक लोकल बजार -बुनाखाल !

लोकल बजार बटै औथौराइज ठ्यका की दूरी - 15 कि मी ।

लोकल बजार मा राशनी दुकान आटु ,चौंल, दाल ,साबुन ,मैगी ,हल्दुराम अचार , नमकीन , कच्चीघानी कड़ु तेल ,अंडू, क्रीम व सब्जीयूंल भ्वरीं ।

अर दुकान मा एक बड़ू  2000 ली को फ्रीज भी !

एक ग्राहक दुकानदार से : ब्वाडा जि जरा फ्रीज को एक ठंडो पांणी दे द्यावा ।

औ !

अरै ! बेचैनसींग एक ठंडु निकाल रै।

हैंकु ग्राहक : एक गरम छैं चै !

बेचैनसींग एक गरम निकाल फ्रीज बटै ।

औ !

कतगै ग्राहक एका बाद हैंको ! हैंका बाद हैंको डिमांड बस द्वी : ठंडु गरम ! ठंडु गरम ।

दुकान बंद हूंणातक फ्रीजै सेल ठंडु - गरम रू:2529/-मात्र

राशन सेल : रू:129/- मात्र

सेल आइटमस !
ठंडु = बीयर !
गरम= रम !
राशन = मैगी !

सूरज अस्त बजार बंद ! जनता मस्त !

चलो रै घार बागौ टैम ह्वे ग्या भैर आंणा को ।

बूंण बाग भैर ।
घर्या बाग भितर ।

चम चमा चम !
चम चमकि घाम ठ्यका मा ,
सुबेर ल्हेकी लैन लगीं गेनी ।
राति की अभि भितरी छाई
सुबेरो को कोटा  भि लगी गैना ।

@ सुनील थपल्याल घंजीर ।