उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, June 9, 2014

हरीश रावत से भाजपा नेता किलै निरस्याणा छन ?

 घपरोळया , हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
भाजपा नेता -भै ये मुख्यमंत्री हरीश रावत का चालचलन हम तैं ठीक ठाक नि लगणा छन। 
मि ------ कनो क्या अफवाह फैलीं  च कि हरीश रावत बि डा रमेश निशंक जन अपण जवानो  जवान नारयण दत्त तिवारी का रस्ता पर हिटणा छन ?
भाजपा नेता -ना भै ना ?
मि ------तो क्या समाज मा छवि बण गे कि हरीश रावत जी बि हड़क सिंग जीक तरां बेटी -ब्वार्युं दगड़ छेड़खानी करदन। 
भाजपा नेता -वी त रूण च कि हरीश रावत पर जनान्युं प्रेमी जन अभियोग नि लगणु च। मि त बुलणु छौं कि हरीश रावत जी कॉंग्रेसी कल्चर पर नि चलणा छन। 
मि ------हैं ! क्या हरीश रावतन राहुल गांधी तैं लीडर ना जोकर ब्वाल ?
भाजपा नेता -नै नै हरीश रावतन इन क्वी बयान नि दे कि राहुल गांधी जयूँ बित्युं लीडर च , किदलु च।  पर हरीश रावत कॉंग्रेस हिसाब से काम नि करणा छन। 
मि ------क्या हरीश रावत जीन  उत्तराखंड से उर्दू भाषा हटाई आल कि जु तुम बुलणा छंवां कि हरीश रावत कॉंग्रेस का हिसाब से काम नि करणा छन। 
भाजपा नेता -नै भै हरीश रावतन बि उत्तराखंड मा उर्दू गिरती दशा पर अत्यंत चिंता जताई।  पर फिर बि हरीश रावत गैर कॉंग्रेसी मुख्यमंत्री तरां व्यवहार करणा छन। 
मि ------गढ़वाली -कुमाउनी भाषा पर कथगा खर्च करे जाव यो पुछणो उत्तराखंड  का मुखिया  हरीश रावत जी दिल्ली राहुल निवास नि जांदन ?
भाजपा नेता (गमगीन ह्वेक )-नै नै !  ये मामला मा हरीश रावत पक्का कॉंग्रेसी छन अर हरेक हफ्ता हनुमान मंदिर की जगा राहुल निवास मा आरती उतारणाs जांद छन। 
मि ------द लगा सुंगरुँ दगड़ मांगळ ! भै जब हरीश रावत हर हफ्ता राहुल गांधी चरण स्पर्श का वास्ता दिल्ली भागणा रौंदन तो आप कनै बोल सकदन कि हरीश रावत गैर कॉंग्रेसी मुख्यमंत्री जन व्यवहार करणा छन।  
भाजपा नेता (गंभीर ह्वेक ) -ठीक च कि हरीश रावत सोनिया वंदना हेतु हर हफ्ता दिल्ली जांदन किन्तु उ जू बि उत्तराखंड मा करणा छन वो कॉंग्रेसी मुख्यमंत्री का हिसाब से नि करणा छन।  
मि ------क्या हरीश रावत भूतपूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणाक तरां निठ्ठला बैठ्याँ दिख्यांदन ?
भाजपा नेता  (एकदम से गुस्सा मा भड़किक )- वांकि त रूण च कि हरीश रावत निठ्ठला बैठ्याँ नि दिखेंदन। 
मि ------तो क्या हरीश रावत  निर्णय कि मंत्रीमंडल बैठक अल्मोड़ा मा हो क्वी बुरु काम च , गैरमुनासिब काज च ?
भाजपा नेता (चिरड़ेक )- वांकि त रूण च कि हम भाजपा वाळ हरीश रावत  निर्णय की आलोचना नि कौर सकणा छंवां।  हम बस औपचारिक रूप से ही बरानामौ विरोध जताणा छंवां। 
मि ------क्या गैरसैण मा विधान सभा सत्र बुलाण क्वी गैर वाजिब कार्य च ? 
भाजपा नेता (भुनी मुंगरी दाणि जन उछिन्डेक)   -भीषम जी ! लगता है तुम कॉंग्रेस  हाथों बिके हुए लेखक हो।  यही तो रूण च कि हम गैरसैण मा विधानसभा सत्र बुलाणो विरोध नि कौर सकदवां। 
मि ------ जरा विरोध करिक दिखावा त सै जैं जनतान  तुम तैं लोकसभा चुनाव जिताइ वै जनता जुते द्याली। 
भाजपा नेता (ह्यळीक भौण मा रुंद सि )  -वही तो मै कह रहा हूँ कि हरीश रावत जी गैर कॉंग्रेसी मुख्यमंत्री  तरह व्यवहार कर रहे हैं। 
मि ------क्या हरीश रावत केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्य निरक्षणौ बान केदारनाथ नि गेन ?
भाजपा नेता (तिड़केक )  -ओहो रूण यांकि त च कि हरीश रावत बबरट्या  कामगति मुखिया जन काम करणा छन।
मि ------क्या हरीश रावत विकास अर जनकल्याण का काम नि करणा छन ?
भाजपा नेता (अत्यंत गुस्सा मा ) -गुड़गोबर यी त हूणु  च कि हरीश रावत विकास अर जनकल्याण पर ध्यान दीणा छन अर अपण कुर्सी बचाण पर ध्यान नि दीणा छन। 
मि ------क्या हरीश रावत अनिर्णय की स्थिति मा छन ?
भाजपा नेता (बिकराळ ह्वेक )  -काण्ड यी त लगी गेन कि हरीश रावत की छवि एक निर्णय लीण वाळ मुख्यमंत्री की बणनि च। 
मि ------कनकै 
भाजपा नेता (निराशा मा ) -हरीश रावत का जनसम्पर्क हम भाजपा वाळु तरां च। 
मि ------जन कि ?
भाजपा नेता (आंख्युं मा अंसदारी ) -जन कि र गणमान्य लोगुं तैं अर मीडिया तैं रोज सुबेर इंटरनेट से पता चल जांद कि आज मुख्यमंत्री कु क्या प्रोग्राम च अर ब्याळि मुख्यमंत्रीन क्या क्या कार। 
मि ------नेता  यु त उत्तराखंड की दृष्टि से भलो काम च कि लोगुं तैं पता लगणु च कि उत्तराखंड मा कुछ कामकाज हूणु च अर हमर मुख्यमंत्री कामगति मुख्यमंत्री च। 
भाजपा नेता (किड़कताळी मारद )   -अरे जनता का बीच  मेसेज -सूचना पंहुचो कि मुख्यमंत्री कामगति च अर निर्णायक च पर तो नरेंद्र मोदी जी को एकाधिकार छौ। 
मि ------पर आप तैं क्या परेशानी च कि हरीश रावत काम करणा छन अर ऊंक जनसम्पर्क करणो ढंग बि प्रशंसनीय च 
भाजपा नेता (जन बुल्यां क्वी सगा संबंधी मोरी गे हो ) -यदि मुख्यमंत्री बढ़िया ढंग से काम करण लग जाल तो हम भाजपा वाळुन क्यांक विरोध करण ? 
मि ------तो आप रचनात्मक विरोधी की भूमिका निभावो। याने कंस्ट्रक्टिव अपोजिसन की भूमिका !
भाजपा नेता -बाइ द वे ! यी कंस्ट्रक्टिव अपोजिसन हूंद क्या च ?


Copyright@  Bhishma Kukreti  9/6/2014   
    

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।   

Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language,Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य    श्रृंखला जारी