उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, June 26, 2014

मीन अपण ड्यारम मुर्गा बांधणाइ

घपरोळया , हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      
                     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

मि -चचि ! त्वैकुण कथगा बोलि आल कि तू मिस काल नि कर्या कौर।  त्यार मोबाइलौ बिल मि मुंबई मा भरणु रौंद। 
चची -अरे ! काण्ड लग गेन।  इख गांव  मा मिस काल करणै आदत जि पड़ी गे।  त मि बिसर जांद कि त्वैकुण  फोन करणु छौं।
मि -अच्छा बता फोन क्यांकुण फोन किलै कार ?
चची -वु म्यार बिचार बौण गे कि चौक मा एक मुर्गा बंधे जाव। 
मि -अरे वाह ! यी त बढ़िया सोच च कि तख गां मा मुर्गी पालन करे जाव। 
चची -ओहो तू बि त
मि -चचि ! तू मुर्गी पालन करलि तो तू बि व्यस्त ह्वे जैलि।  गां वाळु तैं अंडा अर मुर्ग्युं बान इना ऊना दुसर गां नि डंडखण पोड़ल। 
चची -त्वै तै पता नी च अब रोज कोटद्वार बिटेन दूधक टेम्पो मा अंडा , ब्रेड , मक्खन अर मुर्गी बि आंदन तो अंडा -मुर्गी बान अब गांऊँ  मा नि डंडखण  पड़द।
मि -हाँ पर जब तू मुर्गी पालन करलि त लोगुं तैं गाँवी मा अंडा -मुर्गी मिलण मिसे जाल तो बढ़िया ह्वे जाल कि ना ?
चची -मै लगद तू अबि बि सुदबिज छे !
मि -नै। 
चची -त फिर मुर्गी पालन की छ्वीं किलै लगाणु छे।  अरे जब तेरी नौकरी लग त मीन खेती करण बंद करी छौ कि ना ?
मि - हाँ जनि मेरी नौकरी लग त गाँव वाळु सलाह पर तीन खेती करण बंद कार कि अब जब मन्योडर आइ जाल त खेती पर किलै हडका तोड़े जावन !
चची -अब जब सुंदरु (चचिक नौनु ) की नौकरी लग त मीन क्या कार ?
मि -तीन देखादेखी अर सकासौरी मा गौड़ी भैंस बेचीं देन। 
चची -ये जब दु दु कमाण वाळ ह्वे जावन त कैक दिमाग खराब हुयूं च जु मेनत कार।
मि -हाँ हम द्वी भायुंन बि ब्वाल कि बंद कौर सि खेती अर गौड़ -भैस पाळण।  
चची -जब तुमरि तनखा बढ़ तो मीन क्या कार ?
मि -तीन सग्वड़म साग भुज्जी बोण बंद कौर दे।   
चची -तो तू क्या समझणी छे मि मुर्गी पालन करलु ?
मि -पर त्वी   .... .... 
चची -अरे मी मुर्गी पालन करुल तो गां मा मेरी नाक नि कट जालि कि परिवार मा द्वी नौकरी करणा छन अर मि गुजर बसर का वास्ता मुर्गी पालन करणु छौं ? क्या ब्वालल लोग मेखुण ?
मि -हाँ पर तीनि त ब्वाल कि तू मुर्गा बाँधणी छे। 
चची -हाँ मीन मुर्गा बांधणो बात कार मुर्गी पालन की बात थुड़ा कार ?
मि -मुर्गा ? क्यांकुण चयाणु च मुर्गा ?
चची -सुबेर सुबेर बांग दीणो बान चयेणु च मुर्गा !
मि -सुबेर सुबेर बांग दीणो बान चयेणु च मुर्गा ? बांगक बान मुर्गा ?
चची -हाँ ! अचकाल बिजण मा तकलीफ ह्वे जांद।  क्वी सुबेर बिजाळण वाळ इ नी च।   भौत सा बगत त मि दुफरा मा बिजुद अर कबि कबि त दुसर दिन स्याम बिजुद। 
मि -पर द्वी घड़ी अलार्म वाळ छन।  एक मेकैनिकल अर एक इलेक्ट्रॉनिक घड़ी। 
चची -एक पर मि बार बार चाबी दीण भूल जांद अर दुसर घड़ी पर पता इ नि चलद कि कब बैटरी बदलण।  इनमा मि तैं कु  बिजाळलु ? 
मि -मोबाइल पर बि त अलार्म च ?
चची -अरे बिजोग पड़ जांद। मोबाइल मा 7 AM की जगा 7 PM सेट ह्वे जांद।  एक दिन मि मोबाइल कु अलार्म का चक्कर मा सुबेर सात बजिक जगा स्याम सात बजी बिजु। 
मि -हाँ त बगल मा कुटुंब की बोडी बि त च।  बोडी बि त बिजाळ सकदी च ? 
चची -हां पर तेरी बोडी  तै बि बिजाळण वाळ क्वी हूण   चयांद कि ना ? फिर हम द्यूराण -जिठाण छंवां तो हफ्ता मा एक दिन हम झगड़ा नि करदां तो हमर खाणक नि पचद।  त जब हम अबच ह्वे जाँदा त हम एक हैंक तैं बिजाळणो धै बि नि   लगौंदा।
मि -हाँ पर गां मा हौर बि जनन छन वो त बिजाळ सकदन कि ना ? 
चची -हाँ पर जब हमम कुछ काम नी च त हम सब समय बिताणो बान जब झगड़ा झगड़ा खिलदा तो वै टैम पर क्वी कै तैं नि बिजाळदु।  
मि -मतबल , सुबेर बिजणो बान मुर्गा आवश्यक च ? 
चची -हाँ ! घड़ी , मोबाईल , द्यूराण -जिठाण पर पूरा भरोसा ह्वे नि सकद त मुर्गा ही एक विश्सनीय चखुल च जै पर भरवस करे सक्यांद।
मि -त ठीक च  सुबेर सुबेर बांग दीणो बान बाँध दे मुर्गा चौक मा.  
चची -आज ही तू बीस हजार रुपया म्यार खाता मा ट्रांसफर कर दे । 
मि -बीस हजार रुपया मा मुर्गा ?
चची -ना ना ! बढ़िया मुर्गा तो द्वी सौ रुपया मा मील जालो।  मुर्गा कुण चौक मा मुरगाखाना बणाण पर बीस हजार रुपया खर्च आलो।
मि -ठीक च मी बीस हजार रुपया ट्रांसफर कर दींदु। 




Copyright@  Bhishma Kukreti  23 /6/2014   
    

*लेख में  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । 

Garhwali Humor in Garhwali Language about social and custom changes, Himalayan Satire in Garhwali Language about social and custom changes, Uttarakhandi Wit in Garhwali Language about social and custom changes, North Indian Spoof in Garhwali Language about social and custom changes , Regional Language Lampoon in Garhwali Language about social and custom changes, Ridicule in Garhwali Language about social and custom changes , Mockery in Garhwali Language about social and custom changes, Send-up in Garhwali Language about social and custom changes, Disdain in Garhwali Language about social and custom changes, Hilarity in Garhwali Language about social and custom changes, Cheerfulness in Garhwali Language about social and custom changes; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal about social and custom changes; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal about social and custom changes; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal about social and custom changes; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal about social and custom changes; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal about social and custom changes; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal about social and custom changes; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal about social and custom changes; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal about social and custom changes; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar about social and custom changes;