उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, June 9, 2014

गढ़वाली हास्य व्यंग लेख : जुगाड (चबोड़्या -चखन्यौर्या - गीतेश सिंह नेगी , मुम्बई )

(चबोड़्या -चखन्यौर्या- गीतेश सिंह नेगी ,मुम्बई ) 

परसी दफ्तर मा भारतै बौद्धिक सम्पदा फर बहस हूँणी छाई ,ये विषय फर सब्बि बुद्धिजीवी अप्डा -
अप्डा  हिसाबळ बौद्धिक जुगाली करण फर लग्यां छाई ,बहस इत्गा जोरदार ढंग से चलणी छाई की बहुराष्ट्रीय कंपनी कु माहौल कब राष्ट्रीय विचारधारा तरफ पैट ग्याई पता नी लग्गू ,वे दिन  उन्न त ना छबीस जनवरी छाई ना पन्दरा अगस्त पर ऑफिस मा सब्बि भारतीय  विज्ञानिक राष्ट्रवाद अर राष्ट्र प्रेमौ रस मा इन्ना तरबर हूँयाँ  छाई जन्न चासणी मा जलेबी ,अर बग्त बग्त समाजवाद मा मुलायम  अर सेकुलरिज्म मा लल्लू  तर-बर् हुयां रैंदी |

"जब जीरो दिया मेरे भारत ने "से ज़ोरदार शुर्वात कन्ना बाद बुद्धिजीवीयूँळ आर्यभट्ट से लैकी ब्रह्मभट्ट तक्का छुईंयूँ का भट्ट भुज दीं ,वराहमिहिर थेय भारतीय ज्योतिष गौरव तर्पण दिणा बाद वूंल कुतुबुद्दीन अर इल्तुतमिस का पितृ पूजणा मा बी कुई कसर नी छ्वाडी ,अज्कालै प्लास्टिक सर्जरी अर शल्य चिकित्सा का जलमदाता "सुश्रुत " थेय विचारौंक  सादर सुमन चढाणा बाद 
वूंल चरेखा का  चरक कु इन्नु बखान करी की सुणिक चरेखा डांडा का लोग इन्ना उन्ना देखण बैठी ग्यीं ,बात तब और बढ़ी ग्याई जब माभारत-रामैण कु जिकर आई बल विश्वकर्मा , मै-दानव ,अश्विनी कुमार -नल नील से बडू कुई सल्ली क्या ही पैदा व्हालू ?
बल भैज्जी हनुमान जी मा इन्नी टेक्नोलॉजी छाई की वू हवा मा बथौं बणिक उड़ सक्दा छाई ? क्या छाई वा टेक्नोलॉजी  ?
अरे भुल्ला बल दुनिया मा विमान शास्त्र का जलम गुरु अर असल ज्ञाता हमरा ही गुरु छाई ?
बेट्टौं सूण नी तुमुल -माहर्षि भरद्वाजळ कत्गे साखियुं पैल्ली विमान सहिंता लेखि याळ छाई ? कुबेर अर रावणै पुष्पक विमान फर चर्चा कन्ना बाद सब्बियुंळ एक डौल मा राईट ब्रदर्स का पित्र पूजीं |
बल बेट्टौं  और त औरी दुनिया मा सबसे पैल्ली "बैलेस्टिक मिशेल " अर " एंटी बैलेस्टिक मिशेल "बी हमरा देश मा ही चली छाई !
 अच्छा  ?
दा बल सुण नी माभारत मा "ब्रह्मास्त्र " चला छाई ? अर अर्जुन ता वे थेय कंट्रोल बी करण जणदू छाई ?
अज्जी भैज्जी बल सूणयूँ ता इन्न बी च की शब्दभेदी बाण चल्दा छाई वे टैम फर बल ?
अरे भुल्ला बल राम-रावणा लड़ै की  जैड यू  शब्दभेदी  बाण ही ता छाई असल मा  ,येका बाद माभारत अर रामैण का एक एक नायक कु वैज्ञानिक विधि से इन्नु चरित्र चित्रण करे ग्याई की बेद्व्यास अर माऋषि बाल्मिकी की आत्मा बी सोच मा पोड ग्यै व्होलि |
खैर या ता व्हाई दफ़्तरै बात पर म्यार ख्याल से बात जक्ख तक जुगाडै च ता जुगाड ये मुल्कै हर मनखि  रग रग मा रल्यूं मिस्युं चा अर ये  जुगाड रूपी बौद्धिक खज्यनू फर हम भारतवासियुं जलम सिद्ध अध्यकार च ,अर मी ता ब्वल्दु जू  जुगाड नी जणदू वू भारतवाशी व्हेय ही नी सक्दु ,बिगैर जुगाड  भारत अर बिगर भारत जुगाडै बार मा सोच्णु बी पाप समान च ,जुगाड एक इन्नु तीर च कि अगर ठीक जग्गाह फर लग्गी जा ता समझा "प्रोब्लम खतम "

जुगाड हर समस्या कु समाधान अर हर रोग कु रामबाण ईलाज बी च ,जुगाड साखियुं पुरणी कला कौंल च ,इतिहास गवाह च कि जुगाडै  जत्गा जरुरत मन्खियुं थेय च  उत्गा ही जरूरत देब्तौं थेय बी च | दुनिया मा कुई इन्नु आदिम नी च जैथेय कुई दुःख -समस्या ना व्हा अर दुनिया मा कुई इन्नी समस्या बी नी जैकू कु उपाय समाधान ना व्हा पर फिर बी गर कै समस्या कु ईलाज खोजिक बी नी मिल्णु व्हा ता इन्मा खोज हूँन्द  "जुगाड  टेक्नोलोजी " की |

इन्न बात नी च की  " जुगाड टेक्नोलोजी " फर बस हमरू ही काम -काज चल्णु च अज्जी दुनिया ता जुगाड फर साखियुं भटेय टिक्कीं च
पर भैज्जी लोग ता बुल्दीन की दुनिया भगवानै भरोसू चलणी चा अर आप बुल्णा छौ दुनिया जुगाड फर चलणी च ?
 किल्यर कारा सच्ची बात क्या च ?
 यीं बात फर भारी तुडम तुडा व्हेय पर वूंकी समझ मा  "जुगाड टेक्नोलोजी " कु महत्व अज्जी तक नी आ साकू ,हम बी परेशान व्हेकि सोच मा पोडी ग्यो अर मुंड ख्ज्याँण बैठी ग्यो
तबरी भगवान जी प्रकट व्हेय ग्यीं बल बेट्टौं क्या बात आज भारी सोच विचार मा छौ बैठयाँ  ?

हम दुया भगवानै खुट्टौं मा मुंड धैरिक बैठ ग्यो
मिल ब्वाल प्रभु उन्न ता आप्की माया अपार च पर फिर बी एक डौट हूँणु च ,फैसला कार नथिर आज हम थेय नीन्द नी आणि
इन्नु बतावा की या दुनिया कन्नुकै चलणी चा ? तुम्हरा सारु फर या "जुगाड " फर ?

एक घडी ता भगवान जी बी खोल्यै सी ग्यीं फिर कुछ सोच विचारिक अपडा अस्त्र- शस्त्र ,शंख सब धैरिक निछ्न्त व्हेकि बैठी ग्यीं ,फिर बल एक काम करला चला रौन्ड मारिक पता करला की दुनिया भगवान भरोसा चलणी  च कि "जुगाड " फर ?
मिल ब्वाल चला इन्नी सै जन्न् आप्की इच्छा

सबसे पैल्ली हम एक गौं मा पौंछो जक्ख एक बुढयकि सांग लिजाणा तैयरी हूँणी छाई अर एक बुढडी रुण फर लग्गीं अर बुन्नी
हे विधाता कन्न् रूठी ,हे भगवान अब त्यारु ही सारु च ...
सुणिक भगवान जी खुश व्हेय ग्यीं कि चला नाक कटेंण से बच ग्याई
वेका बात हम दूसर गौं कि इस्कोल मा पौंछो
द्याख कि इस्कोल मा इस्कोल्या अप्डा-२ बस्ता इन्ना उन्ना धोलिक  बैठयाँ अर उट्टकाम करण फर मिस्याँ अर एक कुण फर भोजन माता  चुल्खंदी मा भात पकाण फर लग्गीं तबरी एक बुढया उन्दु जान्द मिली
मिल पूछ ब्वाडा क्या बात इस्कोल कन्न् चल्णु चा
बल बेट्टा क्या बताण इस्कोल ता अब भगवानै भरोसू चलणी चा
भगवान जी इत्गा सुणिक फिर खुश व्हेय ग्यीं अर हम ऐथिर सटिग ग्यौ
फिर हम  पोखड़ा अस्पताल मा गौ ,वक्ख साब मरीजौं भारी भीड़ लग्गीं ,खुट्टू धरणै बी जग्गाह नी ,कैथेय मुंडारु ,कैथेय खाँसी ,कैकु हत्थ निख्ल्युं कुई घुणदा पीडा म्वन्नु ,हमल स्वाच सैद डाग्टर भोत बढिया व्हालू ,हमल पूछ भै इत्गा भीड़ क्यांकू अर कन्न चल्णु च अस्पताल
सब्बियुं एक ही जवाब -बल भै  भगवान भरोसा चल्णु च अब वेकि सारु च

हम पुंनग्डों मा गौ अर पता कार कि भै कन्न चलणी खेती पाती
बल भै कैक्की खेती अर कैकी पाती,यक्ख ता सरया दिन गूणी- बान्दर अट्गाण मा कटेणा छीं अर राति सुंगर -बाघ अर रीक्ख अट्गाण मा ,यक्ख ता सब भगवान भरोसू चल्णु च भुल्ला

इत्गा सुणिक हम झट्ट से हैंक जग्गाह पौंछी ग्यो ,ग्राम सभाौ द्वार फर स्वजल योजना कु बोर्ड तिरछां व्हेकि हमरू स्वागत कन्नु छाई ,गौं मा पौंछिक हमल द्याख कि स्टैण्डपोस्ट इन्नु खडू व्ह्युं छाई जन्न भटेय वेकु करगंन्ड  टूटयूँ व्हा ,हम्थेय समझ नी आई कि करगंन्ड  स्टैण्डपोस्टा  टूटयाँ छाई कि स्वजल योजना का ,पर या बात साफ़ छाई कि ये गौं मा विकास योज्नौं गदना आणा बाद बी भारी सुखु प्वडयूँ छाई,हमल इन्ना उन्ना द्याख ता एक बोडी कस्यैरा उन्द पाणी सरद देखे ग्याई ,
मिल ब्वाल बोडी क्या बात स्टैण्डपोस्ट व्हेकि बी पाणी रौल्युं भटेय सरेणु च ?
बल बुब्बा क्या ब्वन्न बरसूँ ता योजना पास हूँणा मा कटै ग्यीं अर बरसूँ तलक बस पैप ही सरणा रौ ,फिर सालौं मा स्टैण्डपोस्ट बण पर पाणी अज्जी तलक नी आई,पाणी सरद सरद हमरी ज्वनी खप्पी ग्याई ,हम फर बुढापा आ ग्याई पर पाणी अज्जी तलक नी आई ,
अब ता परमेश्वर ही मालिक च ,वेकु ही सारु च

हम गौं -गुठियार धार खाल -इस्कोल -अस्पताल -बिलोक सब्बि जग्गाह घूमी ग्यो पर सब्बियूँ एक ही जवाब "बस भगवान भरोसू चल्णु च काम "

ब्यखुंन दा भगवान जी अप्डा दिव्य अस्त्र-शस्त्र शंख -सुदर्शन -मुकोट,फूल फाल सजैकी खड़ा व्हेय ग्यीं
बल बेट्टौं अब ब्वाला -दुनिया कन्नुकै चलणी च ?

मिल ब्वाल परमेश्वरा लोग बी इन्नी  बुन्ना छीं कि "दुनिया भगवान भरोसू चलणी चा " पर म्यार विचार से हम्थेय  गौं छोडिक बजार-कस्बौं-शहरुँ जन्हे जाण चैंन्द अर हाँ अब्बा दौ हम चुपचाप जौला ताकि कुई बी हम्थेय हेर नी साक पर हम सब्बियुं थेय हेर सक्कौं
ठीक च ,भगवान जील टीटमोरयाँ सी गिच्चू कैरिक ब्वाल

सबसे पैल्ली हम पौड़ी शिक्षा विभागै दफ्तर मा पौंछो ,द्याख कि इस्कोला मास्टर जी बाबू दगड घूचपींच करण फर लग्यां छाई ,मास्टर जी ट्रांसफर का अर बाबू "सुविधा शुल्क " मतलब कि च्या पाणी जुगाड मा लग्यां छाई ,
मास्टर जी बुन्ना छाई -भै तुम च्या पाणी चिंता नी कैरा ,तुम बस ट्रान्सफरै जुगाड कैरा ,
भगवान जील गुस्सा मा ऐथिर लपाग धार ता हम पाणी विभाग मा पौंछी ग्यो वक्ख ठेकादार अर इंजीनियर साब होलि मिलन समारोह कि तर्ज फर मूड अर माहौल बणाण फर मिस्याँ छाई
ठेकादर ब्वन्नू - भै या स्वजल योजना बी कत्गा बढिया योजना च ,पाणी पौन्चलू भाँ नी पौन्चलू हम खुण पैसा पहुंचा ही दिन्द
अब्बे सिन्न बात नी च -योजना सुद्दी नी बणदि ,यी देख फ़ैलौं कटगल,इत्गा मेहनत कन्ना बाद तब जाकी कुछ जुगाड हूँन्द ,अब हमर भाँ से गौं मा चाहे पाणी अयाँ चाहे नी  अयाँ,हमल ता अप्डू सरया बजट ख्पै याळ अर काग्जौं मा बी पाणी ग्राम सभा मा पैटा याळ बाकी लोग जण्याँ अर भगवान जण्याँ ,तू अब बस नेता जी से बात कैरिक अब दुस्सर ग्राम सभा मा पाणी योजना कु जुगाड कैर
 इत्गा बोलिक इंजीनियर मुर्गा टांग रमोडण फर मिस्सी ग्याई

सब्बि जग्गाह पौड़ी -कोटद्वार -सतपुली शहर कि इन्नी हालत देखि भगवान जी थेय भारी बौल उठी ग्याई अर वू सडम लपाग मारिक हम्थेय लेकि देहरादून पहुँची ग्यीं,वक्ख द्याख कि नेतौं भारी रगरयाट व्हयुं,मुख्यमंत्री जीक घार भैर मिडिया वलौं भीमणाट व्हयुं अर  भीतिर सुबेर भट्टी नेतौं कि बैठक चलणी
हमल एक पत्रकार मा पूछ -भैज्जी क्या बात आज भारी भीड़ लग्गीं च ,कुछ खास बात ?
देबा मौ खास बात ,वेक बाद वूंल फटाफट एक द्वी नेतौं का पित्र पूजीं ,
हमल ब्वाल क्या बात सरकार कन्न् चलणी चा ?
बल भुल्ला सरकार त ये प्रदेश मा बरसूँ भटेय भगवान भरोसा चलणी चा
हमल ब्वाल फिर इत्गा पट्गा पटग क्वौ हूँणी चा
बल भुल्ला सरकार बचाणौ "जुगाड " हूँणु च

वेक बाद भगवान जी थेय भारी मुंडारु शुरू व्हेय ग्ये अर हम बोडिक घार आ ग्यो ,भगवान जी अपडा असल रूप मा आ ग्यीं अर वूंल फिर से अप्डा अस्त्र-शस्त्र-शँख फूल-मकोट माला सब्बि गाढ़ी द्यीं अर भारी दुखीः वेकि ब्वाल -यार बेट्टा मी ता सोच्णु छाई कि दुनिया म्यार भरोसळ चलणी पर यक्ख त
मिल ब्वाल -देखा जी बुरु नी मन्या पर कुल मिलैकि साफ़ बात या च कि जैकी चलणी च वैकी जुगाड फर चलणी च जैकी कटैणी च वेकि तुम्हरा ही सारु-भरोसू फर कटैणी च ,बाकी तुम जाणा तुम्हरू काम जण्याँ

भगवान जी - ना भै या बात ठीक नी हूँणी ,इन्मा ता काम नी चल्णु
मिल ब्वाल ता क्या व्हालू तब्बा
बल बेट्टौं देखा धौं कुछ ता करण प्वाडलू "जुगाड "
इत्गा बोलिक भगवान जी गोल व्हेय ग्यीं

हमरा बी आँखा खुल ग्यीं हम बी नै-धोईक दुई रोट्टीयूँ "जुगाड " मा अपडा दफ्तर जन्हे पैटी ग्यो ,
जान्द -जान्द हम यीं  सोच मा प्वडयाँ रौ -क्या क्वी इन्नु जुगाड नी व्हेय सक्दु कि पाहड थेय द्वी रोट्टी पहाड मा ही मिल जाव अर हमरा गौं बाँझा हूँण से बच जाव ?

हे परमेश्वर कक्ख हर्ची तू ,कुछ ता कैर " जुगाड " अब त्यारू ही सारु च पाहड थेय

Copyright@ Geetesh Singh Negi ,Mumbai  08/06/2014 

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं। 

[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- महर गाँव निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; कोलागाड वाले द्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मल्ला सलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; पोखड़ा -थैलीसैण वाले द्वारा  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक द्वारा सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य ,अन्धविश्वास  पर चोट करतेगढ़वाली हास्य व्यंग्य  श्रृंखला जारी ]