उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, June 30, 2014

गढ़वाळि व्यंग्य शब्दकोष -भाग 2

संकलन (बटोळन्देर)  - भीष्म कुकरेती 


अंडा -खुजनेर वैज्ञानिकुं मुसीबत बल ब्वै पैल कि बेटि पैल ?
अंङैल (जैक पेट मा अन्डा ह्वावन )- सरकारी नौकरी 
अंतक्रिया , अंत्येष्टि -जखमा लोग रिलैक्स महसूस करदन या रिलैक्स हुणों आंदन। 
अंतरिख , अंतरिक्ष - मंहगाईक  गंतव्य स्थान।
अक्रिय -सरकारी फ़ाइल 
अकल -ज्वा असल समय पर घास चरणों जांदी। ज्वा भैंस से छुटि च।  
अकलमंद  - ड्यार अयुं मेमान तैं भगाणम उस्ताद, दल बदलिक बि दलबदल कानून तैं चुषणा दिखाण वाळ। 
अखरा , झूठा -वकील या  गवाह कु एक मुख्य अवतार । 
उऋण , ऋणमुक्त - सरकारी बैंक से ऋण लीण वाळ. 
अखंड -लालकृष्ण आडवाणी की प्रधानमंत्री बणनै चाहत। 
अगम (जख क्वी नि जै सौक )  -सरकारी कमीसन रिपोर्ट 
अंछेरी, अप्सरा  -जैं से हरेक बुबा दोस्ति करण चांदो पर कबि नि चांदो कि वैंक नौनु पर वींक  छोप पड़ो। 
अतिमैथुन ,अत्याधिक  स्त्री प्रसंग - नारायण दत्त तिवारी।
अतिरंजना - अच्छे दिन आएंगे। 
अतिलंघन (लम्बो उपवास ) - जु अन्ना हजारे बस कु बि नीं  च 
अधिकारी -कर्तव्य बिमुखी , अधिकार मुखी अर अंडर दि टेबल हाथ पसर्या 
अर्थहीन - लोकसभा -राजयसभा मा बहस कुँ इक नाम
अल्पसंख्यक - रिजर्वेसन /आरक्षण का आशा रखण वाळ



व्यंग्य शब्दकोश जारी रहेगा ……।


Copyright@ Bhishma Kukreti 30 /6/2014