उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, June 13, 2014

पर्यावरण पर कुछ मजाकिया बचन

 Funny Environmental Quotes

                      घपरोळया , हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

मार्क ट्वेन बुल्दन बल जब जवान निराशावादी बात करद तो वांसे अधिक दुखदायी -कष्टदायी वातावरण ह्वेइ नि सकद ।
पी जे रौरके त खुलेआम धै लगांद छा बल कॉलेज मा पर्यावरणवादी विद्यार्थी पर्यावरण बचाणो बान कै बि हद तक जाणो तयार छन किंतु बायोलॉजी याने जीविवज्ञान पढ़णो कतै नि छन। 
पीजे रौरकेक इन बि बुलण छौ कि विज्ञानिकों तैं जानवरूं  पर  प्रयोगशाला मा प्रयोग छोड़िक राजनीतिज्ञों अर पत्रकारों पर जैविक प्रयोग करण चयेंद। 
डॉग कूपलैंड पुछदा छा बल यदि तुम पेड़ प्रेमी नि छंवां त क्या छंवां ? क्या पेड़ विरोधी ?
रोशी फिलिप कपलियु एक जगा लिखदन बल एक योगी -महात्मा तैं पूछे गे बल मोरणो बाद कख जाण पसंद करल्या ? तो सदाचारी कु जबाब छौ -मि नरक जौलु जख सब्युं तैं मेरी जरूरत च। 
विटनी ब्राउन कु बुल्युं याद आंद - मि निरामिष /नॉन वेजिटेरियन इलै छौं बल मि जानवरों से प्रेम करदु अर मि शाकाहारी इलै छौं किलैकि मि वनस्पतियुं से घृणा करदु। 
जैक्स डेवल कु प्रसिद्द वचन च बल - भगवानन  पक्षियों से प्रेम कार तो पेड़ों रचना कार अर मनुष्यन पक्षियों से प्रेम कार तो पिंजड़ा की रचना  कार।
डफ व्हीलर कु बुलण छौ बल पर्यावरण बचाण तो मनुष्य तैं पर्यावरण जन सुचण पोड़ल। 
व्होपी गोल्ड़बर्ग  कु बुलण याद रखण लैक च बल प्रकृति मया की खाशियत च कि वा कै तैं नि पुछदि कि तेरि जात क्या च अर तेरी इनकम क्या च ?
राल्फ नाडर का  बुलण मा दम च बल सोलर इनर्जी कु प्रयोग इलै नी बढ़णु च किलैकि तेल कंपन्यूँ अधिकार सूर्य पर नी च जैदिन तेल कंपन्यूँ मालिक सूर्य का मालिक ह्वे जाल वैदिन से सोलर इनर्जी क खपत बढ़ जालि।
मेरी ददि बुल्दि छे बल यदि तुम  तंदुरस्त रौण चांदा तो सर्वप्रथम पड़ोसियों स्वास्थ्य की चिंता कारो।
 
Copyright@  Bhishma Kukreti  13/6/2014   
    

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।   


Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language, Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language Uttarkashi Garhwal; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar;

[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य    श्रृंखला जारी