उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, March 31, 2014

इना उना का कुछ ख़याल , कुछ विचार

चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती        

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )  
 आज चबोड़ लिखणो ज्यु नि बुल्याणु च च याने व्यंग्य लिखणो मूड  नी च तो इनै उनै की ही  लगाये जाय। 
एक खबर च बल सबि कॉमेडी शोऊँ टीआरपी डाउन ह्वे गे याने कम ह्वे गे।  अब जब बिटेन चुनाव अधिसूचना आयी अर नेता लोगुन टीवी मा करतब दिखाण शुरू कार तो लाइव कॉमेडी छोड़िक कु स्क्रिप्टेड कॉमेडी द्याखल भै ?
इन  खबर च बल टीवी मा संस्पेंस अर हॉरर शो बि नि चलणा छन।  अब जब हम दर्शकुं तैं टीवी मा सहरानपुर से कॉंग्रेसी  सभा प्रत्यासी इमरान मसूद का डायलॉग "मै मोदी की बोटी बोटी कर दूंगा " दिखणो मीलल संस्पेंस अर हॉरर शो की कखम जरुरत च ?
खबर च बल स्पोर्ट चैनेल मा टी ट्वेंटी टूर्नामेंट की टीआरपी बि कम च।  अब सुबेर स्याम क्रिकेट देखिक बिखलाण नि पोड़लि ? जब पुटुक खै खैक सम्म हुयुं हो , अघळ हुयुं हो त रसमलाई खाणो ज्यु बि नि बुल्यांद। 
टीवी से जाण कि कॉंग्रेस्युं कुण यदुरप्पा पापी च , भ्रस्टाचारी च किन्तु अशोक चौहान पुण्यात्मा च।  इनी भाजपा वाळु कुण यदुरप्पा का भ्रस्टाचार भ्रस्टाचार की गणत मा नि आंद किलैकि केस कोर्ट मा च किन्तु भाजपा की परिभाषा अनुसार अशोक चौहान कु कुकृत्य भ्रस्टाचार माने जालु। 
अचकाल टीवी पत्रकार आपस मा बात करदन ," कै पार्टी से चुनाव लड़णो विचार च ?" याने "अचकाल कै पार्टी क प्रशंसा गीत लिखणु/लिखणी  छे ?" चारण संस्कृति कबि बि ख़तम नि ह्वे सकद।  जै बि व्यासन महाभारत लेखी होलु अवश्य ही वु पांडवुं चारण रै होलु। 
समाचार  छन बल नारायण दत्त तिवाड़ी अर ऊंक नया नया अपनायुं नॉन शेखर तिवारी द्वी नैनीताल मा रोड शो करणा छन।  नयो नयो ब्यौ अर नया नया बण्या बाप -बेटा कु प्रेम ही अलग हूंद। 
उन  कत्युं विचार च बल तिवाड़ी जी रोहित शेखर तैं आठ दस साल पैल पुत्र मानि लींद तो आज हरीश रावत की जगा रोहित शेखर तिवाड़ी चीफ मिनिस्टर हुँदा। 
परसि रीता बहुगुणा कु भाजपा द्वारा बुड्या नेताओं की अनदेखी अर बेज्ज्ती पर बयान सुणिन , बयान देखिन।  सुश्री रीता कु बुलण छौ बल भाजपा वाळ अपण बुजुर्ग नेताओं बेज्ज्ती करणा छन।  क्वी बि रीता बहुगुणा तै याद नि दिलाणु च कि कॉंग्रेस मा हर बार जथगा बेज्ज्ती संजय गांधींन  बिचारा बुजर्ग हेमवती नंदन बहुगुणा की कार वैक तुलना मा अडवाणी या जसवंत सिंह की बेज्ज्ती कुछ बि नी च। 
सुणन मा आयि कि अबि अबि भाजपा मा भर्ती हुयां सतपाल महाराज की पत्नी कॉंग्रेस मा ही राली।  बात बि सै च कैक बि सरकार रावो सत्ता सुख तो महाराज  परिवार तैं मिल्दु इ रालु कि ना ?
सरा उत्तराखंड मा एकी छ्वीं लगणा छन बल  हरिद्वार का भाजपा नेता मनोज कौशिक कॉंग्रेस मा कब भर्ती होला ? डूबती नया मा बि सवार हुए जांद त केवल राजनीती मा ही ह्वे सकद कि ना ?
इन सूण कि उत्तराखंड क्रांति दल (ए ), उक्रांद (बी ), उक्रांद (सी ) से लेकि उक्रांद (जेड ) तक की सभी उक्रांदी पार्टी चुनाव लड़णो तैयार छन।  जैदिन  प्रत्यास्यूं का पास जमानत कु जुगाड़ ह्वे जाल वै दिन प्रत्यासी पर्चा भरणो जाल। ए से जेड तलक हरेक उक्रांद पार्टीक समस्या  चुनाव जितण नी च बल्कि जमानत का पैसा कट्ठा करण च।  

Copyright@ Bhishma Kukreti  29 /3/2014 

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।  
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]