उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, June 22, 2010

च्यूं क सूखी भुज्जी ( Dry Vegetable of Mushroom leaves)

Garhwali cuisines, Kumaoni Cuisines, Uttarakhand cuisines, Himalayan Cuisines
च्यूं क सूखी भुज्जी ( Dry Vegetable of Mushroom leaves)
Bhishma Kukreti
मीन गढ़वाळ मा च्यूं की भुज्जी कबी नि खाई . पण स्ब्युन मुखं सुन्युं च बल च्यूं क साग ( Mushroom Curry ) भौति सवादी होंद .
च्यूं फफूंदी परिवार क एक बनस्पति च , गढ़वाल मा फफूंदी कुणि कुयडु बुल्दन पण च्यूं कुणी कुयाडू नि बोले जांद . च्यूं बरसात मा सड़यूँ ल्ख्डों पर जमद अर एक किसम बिसैली होंद त दूसरी किशम खाण लैक होंद, जणगरो च्यूं क छतरी क रिंगणी (Rings of mushroom) देखिक पता लगान्दन की को बिसैला च अर कु खाण लैक च्यूं च
साग :
जादातर च्यूं साग ही बणये जांद . च्यूं क लाबों तैं ध्वे धाई क सुदारिक, काटिक तेल मा छौंके जांद , मैणु मसाला उन्नी डाल़े जान्द जन शिकार मा डाले जान्द . तरीदार च्यूं को साग उन्नी बणदो जन क्वी बि रसदार साग बणदो .
ग्व़ाठम कुछ प्रयोग
कत्ति लोग ग्वाठम प्रयोग करदन . कुछ सुदरयों च्यूं तैं पथर मा थिंचदन , कुछ तैं काटे जांद , फिर थींच्यूं अर कट्यू च्यूं तैं लूण , पिस्युं मर्च , मसालों द गड़ तेल मा राळदन अर साल का तीन चार तह वाळ पुड़का पुटुक बुजिन बणऐक बंद करी दीन्दन. फिर आग /रंगुड़ मा (धीमी आंच ) पकये जांद. फिर पक्युं च्यूं तैं तवा मा गरम /पकये जान्द . ये सूखी च्यूं की भुज्जी कुछ अलग ही सवाद क हुन्द . रुट्टी मा च्यूं की सूखी भुज्जी मजा से खये जांद

Curtsey Shri Ramesh Jakhmola of Jaspur, Dhangu Patti, Pauri garhwal
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010