उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, June 2, 2010

गंवार या घर्या चकुंडा क फाणु

Garhwali Vyanjan Garhwali bhojan , Garhwali culture Ethinic food
गंवार या घर्या चकुंडा क फाणु
भीष्म कुकरेती
गंवार या घर्या चकुंडा की सब्जी का बारा मा त सब्बी जाणदा होला पण भौत काम लोगूँ तै पाता होलू बल गंवार या घर्या चकुंडा क
फाणु बि सवादी होंदु (हाँ आप औंध्या नि होण चयांदा, औंध्या वू होई जै तै क्वी ख़ास खाणक से खास गंध औंदी )
गंवार या घर्या चकुंडा क फाणु बणाणो तरीका
धुयाँ गंवार तैं चाकू से अधा चौथाई काटो . फिर कट्यां गंवार तैं सिल्वट या मिक्सी मा मैणु मसाला, ल़ूण को दगड़ पीसी द्याव
हाँ ज़रा अजवाण , प्याज का जण दसेक दाण , तिल या राई का बीज बि दगड मा पीसी सकदवाँ
.आपको परिवार तै कनु स्वाद पसंद च वै को हिसाब गंवार तैं बरीक या गरगरु पिसण चयांद
अब पिस्युं लोट, लुगदी मगन कुछ हिस्सा से तेल मा कडक पदुड़ी बणाण नि बिसरैन. पटुडी तैं अलग धौरी द्याव
तेल मा जख्या , जीरो को छौंका जन लगये जांद उन्नी करो
फिर लुगदी या लोट या (Dough) तै कुछ देर तक भूनो अर फिर पाणी डालिक़ थड़काओ / पकाओ . आप पर निर्भर करदो बल बकुल अर पन्द्यर फाणु बनआण
जू आप तैं हरो भुज्जी पसंद च त कुछ पलिंगो (पालक) या प्याज या मुली को पता बि फाणु मा पकाओ
जब फाणु पकी जाओ त पटुडी तैं टुकडा टुकडा मा तोडी क फाणु मा धोल़ी द्याव
अब गंवार या घर्या चकुंडा को फाणु तैयार च . भात मा या झंग्वर मा फा णु खाओ अर मजा ल्याओ
Copyright Bhishma Kukreti