उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, June 22, 2010

गढ़वाल कुमाऊं में भोजन सम्बन्धी रस्म रिवाज-२ : सस्कंडी

Cusines of Uttarakhand, Cuisines of Garhwal, Garhwali Dishes, Cuisines of Kumaon, Komaoni Cuisines
Food in Uttarakhand, Ethnic Food of Uttarakhand.Recipes from उत्तराखंड
गढ़वाल कुमाऊं में भोजन सम्बन्धी रस्म रिवाज-२ :
सस्कंडी (A first Gift for Mother in Law and her Friends)
Bhishma Kukreti
सस्कंडी गढ़वाळ-कुमाऊं मा एक अभिनव रिवाज च जखमा ब्योली ब्यो परांत बरात क दगड पैल दें ससुराल /सासुराड़ आन्द त दगड़ ma
सासू अर वींक दगड़याणयूँ कुणि कंडी फर एक भेंट लांदी जै पर सासू को ही हक्क होंद . वीं कंडी मा पूरी, पक्वड़ अर अरसा होंदा छा (अब रिवाज कम ह्व़े गे )
बर क (दुल्हे की ) बरात बौड़णा दुसर दिन सासू अपणि दगण्याणयूँ तैं बुलैक सस्कंडी क पूरी, पक्वड़ अरसा खानदा छ्या अर फिर सहेल्यू तैं यू कल्यो बांटे बि जांद छौ
ब्योऊ क क्ल्योऊ पर पैलो हक्क गाँव वालुं कु :
जब ब्योली( Bride) बरात क दगड मैत बिटेन पैली दें ससुराल आंदी त दगड मा ससुराड़ी गाँव वाळउन्खुणि अरसा, पूरी पक्वड़ कु क्ल्योऊ (भोज्य भेंट ) बि लांदी . अर ये पैलो क्ल्योऊ पर बर (Groom ) परिवार को क्वी हक्क नि होंद छौ . यू क्ल्योऊ संजैत क्ल्योऊ माने जांद छौ अर सरा गाँ मा बरोबर बांटे जांद छौ . यो ही कारण च बल सासु कुणि
अलग से सस्कंडी आंदी छे

Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010