उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, December 3, 2014

कमीसन गीता - आधुनिक व्यास - पूरण पंत पथिक (देहरादून )

 हे पार्थ! तू उत्तराखण्ड मा सरकारी नौकरी हत्यौ. भाग -२ 

                                           आधुनिक व्यास - पूरण पंत पथिक (देहरादून )


                अथ सिरीकृष्ण-अर्जुन दूसरो अध्याय.(पर कृपा करी तैं यॉ तैं चबोड़्या/चखन्यौर्या/हास्य-ब्यग्य/हंसी-ठट्टा- मजाक मानिकै ही बिग्यॉ-समझ्यॉ-पढ्यॉ. कैकी बी भावनौं तैं ठेस पौंछाणो मेरो उद्देश्य नी छ. हाँ जौंक जिकुड़ी फुकणो लेखी उंक जिकुड़ी अवश्य फुके जैन )।  .            
          त साब कृष्ण माराज कळजुगि रथ ; जीप की डरेबरै सीट परैं बैठ्यॉ छया .जग्वाळ  कना कि अर्जुन अबि आल, अबि आल , अर्जुन तबि आलो।  
उनैं महाभारत सज्यूं छ. तुर्री रणसिंगा-भंकोर बजणा।  बस कृष्ण माराज का शंख की टंकोर बजणै जग्वाल होणी. हस्तिनापुर मा धृतराष्ट्र संजय तैं घच्वरणु बल  बोल- संजय क्या होण लग्यूं छ? कृष्ण कख छ ?अर्जुन क्या कनू  छ अर मेरो दुर्योधन कख छ?.                                     
      ऐग्ये अर्जुन- झकळयूँ  सि! कृष्ण माराजन पूछे- हे पॉण्डु पुत्र तू कख गैब हुयूं रै? देख सब तयार हुयॉ छन.उठौ अपणो गॉण्डीव- लगौ बाण अर शुरू ह्वै जा।  
         अर्जुन पर क्वी असर नि ह्वै।  वो चुपचाप अपणि सीट पर बैठ्यूं इनैं -फुनैं ह्यरण पर लग्यू रै।  
.                                हे पॉण्डु पुत्र ; क्या ह्वे;त्वे तैं क्या ह्वैग्ये. तुत इनो  बैठ्यूम थिंच्यूं- थंच्यू जन ब्वलेंद त्वे तै पद्म सिरी  का वास्त नामित नि करेग्ये.? हे वत्स ! औ कुरुक्शेत्र मा डटि जा.मि छौं त छौं  त्वे दगड़.।  
अर्जुनन  बोले- हे गोपाल-ब्याळि - परसी तुमन जो बी सुणाये- हजम नि ह्वे पाई..कुछ औरि बतावा जॉसे फटफटाक मेरो कल्याण ह्वै जावा।             
                   द्ववारिकाधीश अन्तरयामी जो ठैरा;बींगि गैं कि अर्जुनौ मन उचाट छ हुयूं.ब्वन लैगैं-हे गांण्डीवधारी अच्छु त तू इनो कैर कि उत्तराखण्ड मा डाक्टर की नौकरी पकड़.।  तू योग्य छई।  सरकारी डॉक्टर बण. सरकारी डिसिपेन्सरी बटि शुरुआत कैर।   नजीक मा अपणो प्राइवेट क्लीनिक खोल।   सरकारी दवै-वख जमा कैर।  .डिस्पेेन्सरीम  जो मरीज आन्द वेतैं अपणा किलीनिक मा आणौ बोल।   रुप्या बिटोळ . मेडिकल सर्टीफिकेट बणौ अर .रुप्या बटोळ , फिटनेस सर्टिफिकेट बणौ .रुप्या घूळ !  बड़ा प्राइवेट अस्पताल़ों से सम्पर्क कैर।  .मरीजों तैॉ वख जोग कौर ।  कमीशन खा।  मरीजुं तैं तपास , टपास , जांच, परीक्षण , टेस्टिंग  को झांसा मा फंसा ।.खून-टट्टी-पेशाब-एक्सरे-सीटी स्कैन-ईसीजी-यमआरआई अर तमाम , टपास , जांच करण  वाळु  से कमीशन फिक्स कौर अर अपण मवासी बणा , दूसरों मवासी पर गरीबी का धब्बा लगा ।  
अर्जुनकुछ कुछ बींगि पर फिर बि घंघतोळ दूर करणो वास्ता पूछ - तो परीक्षण सिफारिस का वास्ता क्या करण ?
कृष्णन समझाई - जै मरीज तैं पुटको पीड़ा हो तो खुट का परीक्षण बि करा अर पॉलीक्लिनिक से कमिसनो गुटका खा ! कपाळ पीड़ा हो तो अपण ईमान तैं गिरवी धरिक मरीज से घुण्ड मुंड का टेस्टिंग करवा अर अपण बैंक बैलेंस बढ़वा ! जैक कमर दर्द हो वैक आंखू टेस्टिंग करवा अर सुभद्रा कुण जेवरात बणवा  व अभिमन्यु कुण कार खरीदवा ! 
अर्जुनन शंका जताई - पर हे सर्वेश्वर ! डाक्टरी एक जुमेवारी काम च अर जीवात्मा , आत्मा , जमीर बि त कुछ हूंद कि ना /
भगवनन बिंगाई - हे युधिष्ठर बंधु ! आत्मा , चेतना अर जमीर बेवकूफों बान बणयां,  बौगाणो बान खिल्वणी छन।     फिर आत्मा तैं मार , जीवात्मा तैं ज़िंदा गाड़ याने जमीर को कत्लेआम कौर अर फिर कमीसनखोर डाक्टर बौण।  जमीर का इंतकाल ही त्वे तैं प्रसिद्ध डाक्टर बणाल!  
अर्जुनन पूछ - हे कंसमार ! मेडिकल टेस्टिंग का बहाना से कमीसन खाणो गुर तो मि सीखी ग्यों।  पर मेडिकल रेप्रेसेंटेटिव से कमिसन खाणो तरीका बि बताओ ! 

 भत्ता गीता भोळ  क्रमश:......जारी छ..
Copyright@ Puran Pant Pathik , Dehradun , 2/12 /2014