उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, April 9, 2012

घरवळि क हिदैत a Satircal write up

Satircal write up
चबोड़ इ चबोड़ मा
                          घरवळि क हिदैत
 
                                 भीष्म कुकरेती
मि तीन चार सालंम  इखुलया इखुलि ड़्यार गौं जांदू . पैल जब गौं मा टेलिफोनै सुभीता नि छे त   
छुट्यु क असली रौंस आंद छे. ना त बौशौ फोन आर ना इ फोन पर घरवळि हिदैत. पण जब बिटेन गौं मा
टेलिफोनै सुभीता ह्व़े त मेरो छुट्यु क मजा इ भ्याळ जोग ह्व़े गेन. अर जब बिटेन मोबाइल आई त ए
मेरी ब्व़े ! क्यांक छुट्टी?
मि जब गाँ आंदो त चांदो बल दिन दुफरा तक सियूँ रौं . जब तलक मोबाइल नि छयो त वीं सगोरी बादणौ इ सौं
मी सुबेर नि बिजदो छौ बल्कण मा ग्विर्मिलाकौ समौ बिजदौ छौ. कति दें त सगोरी बादणौ गाणा अर भरतू बादी
क हुडकी अवाज से मि बिजदो छौ.
अर अब! सुबेरी पांच बजी बौशौ मोबाइल फोन घणघणान्द ," मिस्टर कुकरेती ! सौरी टु बौदर यू. असल मा मि तै निंद नि
आणि च मीन स्वाच त्वेमांगन ब्याळै सेल्स फीगर इ डिस्कस करे जाओ. .."
अब बौश तै मुख ऐथर गाळी त दियांदी नी च पण मन इ मन मा त ज्यू बुल्यान्दो बोली द्यों," ये भै त्वे फर निसिणि
रोग लग्युं च त मेरी निसिणि किलै करणि छे?" पर मि समणि बोल्दु," सर , इट्स माई ग्रेट लक दैट आपै दगड
सुबेर सुबेर छ्वीं लगी गेन ..." अर फिर एक घंटा तलक बिजिनेस की अकळाकंठी पर छ्वीं...
इना बौशौ फोन बन्द ह्व़े कि घरवळि फोन ऐ जान्दो.
आज बि मि गौं कि छुट्टी मा दिन दुफरा तक सीण चाणो छौ कि पैल बौशौ फोन आई अर अब घरवळि क फोन .
घरवळि न सीधा पूछ,' सुबेर सुबेर इथगा देर तलक फोन पर छ्वीं लगान्द तुम तैं शरम नि आँदी."
मीन ब्वाल," बौशौ फोन छौ."
घरवळि न ब्वाल," फिर ठीक छौ . एक वी च तुम तैं अडै सकुद . हाँ तुम बिज़ी ग्यवां कि ना ?"
मीन ब्वाल,' जु मि बिज्युं नि छौं त तेरो दगड को च बात करणु ? "
घरवळि न ब्वाल," म्यार मतबल च , बिस्तर छोड़ी याल कि ना ?"
मीन बोल,' बस अब कुछ इ देर मा ..."
घरवळि न ब्वाल," सुणो ! दांत मल्टी नेशनलौ टूथ पेस्ट से इ मंजैन हां! कखि टिमुर से दांत
नि मंजैन. नवां टिमरू न दान्तुं मीर मा घौ ह्व़े जावन धौं . "
मिन बथाई ," फिकर करणै जरुरात नी च बल ब्याळि इ गौं का छ्वटा बड़ा छ्वारा बुलणा छ्या बल ऊं तै पता इ नी च बल
कि कबि गढवाळ मा टिमरू बि होंद छा. "
घरवळि न पुळे क ब्वाल,' या त भली खबर च कि गढवाळ बिटेन टिमुर निबटी गेन . निथर मी तैं एकी फिकर रौण
छे बल कखि तुम बि गंवड्या लोगूँ तरां टिमुरन दांत मंजैल्या अर तुमत मीर्युं पर घौ ह्व़े जालो त ..! अर सूणो ...!'
मीन बोल,' हाँ सुणा !'
घरवळि न हिदैत दे ,' ह्यां ! चुलु मा गरम कर्युं पाणीन मुख नि ध्वेन हाँ ! "
मीन पूछ,' या नै बात ...?"
घरवळि न राज ख्वाल,' मीन ब्याळि इन्टरनेट मा पौढ़ बल चुल्ल मा पाणी गरम करद दै चुलौ धुंवा पाणि मा मिल जांद अर
वां से मुख मा कालिमा या ब्लैकनेस ऐ जांद . आई डोंट वांट यू बिकम ब्लैकर .."
मीन राज ख्वाल,' फिकर नि कौर ! सरा गौं मा सब्यूँ चुल्ला खन्द्वार बण्या छन अर इख अब क्वी बि लखड़ नि जगान्दन."
घरवळि न भौत खुस ह्वेक ब्वाल," या त भौत इ बढिया खबर च कि गाँ सौब चुल्ल बांज पडया छन निथर में तै एकी फिकर रौण छे कि कखि
तुम ड़्यार बिटेन धुंवौ पाणिन मुक काळो कौरिक ऐल्या त मि इख मुक दिखाण लैक नि रौलु . अर सूणो."
मीन ब्वाल,' सुणा !"
घरवळि न ब्वाल," अर सुबेर सुबेर काच गैथुं रुटि नि खैन कुजाण कखि कचै ह्व़े जाओ त ."
मीन ढाढस दे ," अब हमर गाँ इ ना सरा अडगें /क्षेत्र मा क्वी गैथ /गहथ नि बोंदु. अब त पूजा मा बि कुटद्वर बिटेन लयां चार या पांच गैथुं दाण धरे जान्दन "
घरवळि न प्रसन्न ह्वेक ब्वाल," हाँ यो ठीक ह्व़े कि गाँ वळु न गैथ बूण बन्द करी आलीन. निथर मै तैं कचै चिंता रौणि छे. अच्छा सूणो ! "
मीन बोल,' ठीक च सुणा !"
घरवळि न ब्वाल,' ओ ग्राम -प्रेम मा भ्यूंळौ सिर्सवळन नि नयेन हाँ. भ्यूंळौ सिर्सवळन कखि तुमर मुक पर रिंकल नि पोड़ी जावन ."
मीन सांत्वना दे," फिकर करणै ज्रोरात नी च . अब गौं की सार्युं से भ्यूंळ इ निबटी गेन अर फिर मल्टीनेशनल कम्पन्यूँ विज्ञापन से
इखाक लोग गाँ की हरेक चीज से घीण करण लगी गेन ."
घरवळि न आल्हादित ह्वेक ब्वाल,' भलो ह्व़े गौं की सार्युं से भ्यूंळ इ निबटी गेन अर तख लोग गाँ कि हरेक चीज से घीण करण लगी गेन .
निथर कखि भ्यूंळौ सिर्सवळन नयाण से तुम पर झुर्री / रिकल पोड़ी जांदा त लोक में खुण बुडड़ी बुलण बिसे जांदा. हां ! सूणो"
मीन बोल,' हाँ सुणा !"
घरवळि न ब्वाल," और सुणो . कै बि हिसाब से फाणु-बाड़ी, झंग्वर , पळयो, छंछ्या, कंडळि, कपिलु, उड़द कि दाळ कुछ बि नि खैन हां.. मी बोलणो छौं हाँ .... "
मीन बिंगाणो कोशिश कार," ह्यां इख अब ..."
घरवळि न गुस्सा ह्वेक ब्वाल," तुम अबि तलक गंवड्या का गंवड्या छंवां . बीच मा बात कटण असभ्यता कि निसाणि च. तख तुम
फाणु-बाड़ी, झंग्वर , पळयो, छंछ्या, कंडळि, कपिलु खैल्या त तुम तै यूं चीजुं तै खाणो ढब पोड़ी जाण अर फिर तुमन इख मुंबई मा
बि यूं चीजुं पकौणो मांग करण अर आई हेट टु कुक एंड टेक सच रुरल फूड आइटम्स. मतलब में तैं गंवड्या खाणकौ नाम से इ चिरड़ च."
मीन भर्वस द्याई,' भै ! इख अब खेती इ नि होंद त फाणु-बाड़ी, झंग्वर , पळयो, छंछ्या, कंडळि, कपिलु, उड़द कि दाळ कखन बणण भै ? इख बि
बस हरड़ की दाळ अर भात बणदो अर ग्युं की रुट्टी बस.."
घरवळि न उत्साहित ह्वेक ब्वाल," यू ठीकि ह्व़े . नाऊ आई कैन बि वरीलेस . अछा सूणो .."
मीन बोल,' सुणा !"
घरवळि न समजाणो भौण ब्वाल," तुम तै स्याम दै पीणै आदत च. त तख इखुलि पेन . गौंका बुड्यों दगड पीणै
कतई जरोरात नी च . बुड्यों दगड पेकी बि तुम पर बुड्याण ऐ जाण . आई हेट यू बिहेव लाइक ओल्ड मैन ."
मीन ब्वाल, "वांक क्वी चिंता नि कौर अब इख गाँ मा बि पन्दरा सोळा सालक नौन्याळ बि खूब दारु शराब घटकाण
सीखी गेन . घाम अछल्यांद नी च कि सौब जवान छ्वारा म्यार इख दारु पीणो निडे जान्दन अर दगड मा अर्बन मंचिंग (शहरी चखणा ) बि लै आन्दन. "
मेरी घरवळि न भौती खुस ह्वेक ब्वाल," यो त भौती खुसी बात च कि तुम जवान छ्वारों दगड व्हिस्की पींदा. जवान लोगूँ दगड बैठिक तुम बि जवान ह्व़े जैल्या."
अर घरवळि न मोबाइल बन्द कौरि दे .
Copyright@ Bhishma Kukreti