उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, April 9, 2012

छित्यकी पदनचरी : A Garhwali Poem By Dr Narendra Gauniyal

Poem By Dr Narendra Gauniyal

हमारा पदान जी
बुना छन
तुम फिकर नि कारा
तुमर नौं कि बांठी
तुमतै द्यून्ला 
पण
दगड़या पञ्च-परवान
जिद्द कना छन
कैकु खट्टा पर सी सोर
सर्या बोक्ट्या पर
क्वी बुना छन सिरी
क्वी बुनू फट्टी  
 क्वी मुन्डली
अरे निर्भग्यो
इनि लड़ना रैला
इनि झगड़ना रैला
खींचा-खींच करना रैला
त फिर
कख रै तुम्हारो
मान-सम्मान
तुम केका पञ्च-परवाण
इनि बि क्याच या
छित्यकी पदनचरी .. 

  Copyright@    डॉ नरेन्द्र गौनियाल