उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, April 29, 2012

Philosophical Hindi Poetries by Dr Narendra Gauniyal

Philosophical Hindi Poetries  by Dr Narendra Gauniyal
डा. नरेंद्र गौनियाल की हिंदी कविताओं में दर्शन,
Philosophical Hindi poetries by Asian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  South Asian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  SAARC Countries Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Indian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  North Indian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Himalayan Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Mid Himalayan Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by Uttarakhandi  Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Kumauni Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by Garhwali  Hindi Poets series
एशियाई हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, दक्षिण एशियाई हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, सार्क देशीय हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, भारतीय  हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, उत्तर भारतीय हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, हिमालयी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, मध्य हिमालयी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, उत्तराखंडी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, कुमाउनी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, गढ़वाली हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन लेखमाला 

*******भाव *********
कवि: डा. नरेंद्र गौनियाल

रात के अँधेरे में
सड़क पर चलते हुए
एक दिन
लापरवाही में अचानक
बहुत ऊंचाई से
गिर गया नीचे
कठोर जमीन पर
घुटने थिंच गए
पसलियाँ भचक गयी
दोनों आँखों के बीच
नाक के ऊपर
गहरा घाव हो गया
कुछ देर अचंभित
हाथ-पैर टटोले
घाव पर रुमाल रखकर
चुपके से उठ गया
लचकते-लचकते
घर पहुँच गया
चोट-घाव का उपचार करके
रात को
निश्चिन्त सो गया

मै खुद
अपनी गलती से
लापरवाही से
गिरा था
किसी ने
धक्का नहीं दिया
मेरे गिरने में
कोई व्यक्ति
कारण नहीं बना

बनता तो
भाव बदल जाता
मेरा रक्तचाप
बढ़ जाता
विवाद हो जाता
नींद भंग हो जाती
शरीर की पीड़ा के साथ
मन की पीड़ा होती
अपने इलाज की
चिंता से अधिक
बदले की भावना होती

कोई कारण न था
मन में
कोई पीड़ा न थी
शरीर की पीड़ा
जल्दी ही
दूर हो गयी
नहीं विकृत हुआ
मन का भाव
जल्दी ठीक हो गए
शरीर के
गहरे घाव ..
   डॉ नरेन्द्र गौनियाल (दृष्टिकोण  से )
 
Philosophical Hindi poetries by Asian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  South Asian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  SAARC Countries Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Indian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  North Indian Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Himalayan Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Mid Himalayan Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by Uttarakhandi  Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by  Kumauni Hindi Poets, Philosophical Hindi poetries by Garhwali  Hindi Poets series to be continued….
एशियाई हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, दक्षिण एशियाई हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, सार्क देशीय हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, भारतीय हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, उत्तर भारतीय हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, हिमालयी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, मध्य हिमालयी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, उत्तराखंडी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, कुमाउनी हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन, गढ़वाली हिंदी कवियों की हिंदी कविताओं में दर्शन लेखमाला जारी ...
डा. नरेंद्र गौनियाल की हिंदी कविताओं में दर्शनशाश्त्र लेखमाला जारी ....