उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, August 7, 2014

राहुल गांधीन संसदौ कुंवा मा फाळ किलै मार ?

घपरोळया , हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      
                     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

 ब्याळी ( 6/8/ 2014) संसद मा कॉंग्रेसौ जनमजाती राजकुमार राहुल गांधीन  संसदौ कुंवा मा फाळ मारि दे अर इंडिया त छ्वाड़ा अमेरिका मा बि लोग गस खैक पोड़ि गेन बल ये निंदाड़ गळया बौड़ तैं इथगा चरबरी कखन आयि।  अमेरिकी राष्ट्रपति तैं सीआईएन अपण रिपोर्ट इन भ्याज। 
सोनिया गांधी (संसद मा पैल पंगत से )- ये राहुल इना आदि बुबा !
राहुल गांधी (तिसर पंगत से ) - मम्मी ! यु म्यार उंगण या सीणो बगत च।  मि तैं अनावश्यक डिस्टर्ब नि कौर।  आइ ऐम नैपिंग नाउ। 
सोनिया गांधी (अफिक )- तेरी निसेणीन त मि तैं रोज लोकसभा आण पड़द कि तू जोर से नि से जै। पैलाक सि दिन थ्वड़ा छन कि तू लोकसभा मा फकोरिक सियीं रौंद थौ अर  टीवी कैमरामैन ऊना कैमरा घुमान्दु हि नि छौ।
सोनिया गांधी- राहुल इना आ हाँ ! निथर मीन त्यार पीजा अर पास्ता बंद करी दीणन हां।  फिर नास्ता मा त्वै तैं निखालिश इंडियन ब्रेकफास्ट याने पूरी -भाजी खलाण हाँ !
राहुल गांधी (तिसर पंगत से पैल पंगत का तरफ आंद)  -मम्मी तू बि ना ! हमेशा मि तैं ब्रेकफास्ट का वास्ता ब्लैक मेल करणी रौंद हाँ !
सोनिया गांधी- अब तू ध्यान से सूण।  त्वै तैं लोकसभा का कुंवा मा जोर से याने अग्रेसिबली फाळ मरण पोड़ल।
राहुल गांधी -पर मम्मी यु संसदौ कुंवा मा फाळ मारणो काम तो चतुर्थ  श्रेणी या ज्यादा से ज्यादा तृतीय  श्रेणी का कॉंग्रेस्यूं च।   
सोनिया गांधी-अरे पता नी च कि भौत सा कॉंग्रेसी बुलण मिसे गेन कि राहुल गांधी मा नेता बणनो क्वी औकात नी च। 
राहुल गांधी -मम्मी बेकार की बात च।  अहमद पटेल अंकल , दिग्विजय अंकल , मिस्त्री अंकल ही ना जय राम रमेश अंकल बि बुल्दन कि मि जन्म जात नेता छौं।  आइ ऐम ए बोर्न लीडर !
सोनिया गांधी-हाँ उ ठीक च पर भौत सा कॉंग्रेसी त्वै पर अनावश्यक भगार लगाणा छन , तोहमत लगाणा छन कि तू लल्लु नेता छे।
राहुल गांधी -हाँ पर मम्मी यूँ बेकार का नेताऊं तैं हमन कॉंग्रेस की प्राथमिक मेंबरशिप से निकाळ याल कि ना? मि ये मामला मा सुपर सेंसिटिव छौं अर सुपर ऐक्टिव बि छौं। 
सोनिया गांधी-हाँ भौत सा कॉंग्रेसी  बुलणा छन कि मि तैं अर त्वै तैं कुछ दिनों कुण छुट्टि  पर चलि जाण चयेंद।
राहुल गांधी -रबिश ! मा इन फ़ालतू कॉंग्रेस्यूं तैं हमन पार्टी क अनुशासन भंग करणो बान सद्यान्यौ कुण निकाळ त आल।  अब क्यांक डौर ?
सोनिया गांधी-अरे पर पत्रकार अर मीडिया बि त इनि बुलणु च कि राहुल गांधी एक किदालु , केंचुवा नेता च।  जैमा नेतृत्व करणो एक बि गुण नि छन।
राहुल गांधी -इन सालों को मै सत्ता में आने के बाद देख लूंगा। 
सोनिया गांधी-अब जगा जगा कॉंग्रेसी पोस्टर लगाणा छन कि राहुल भगाओ -प्रिंयका लाओ 
राहुल गांधी -यूं  अहमकों तैं कॉंग्रेस से भैर करणो बारी ऐ गे।  
सोनिया गांधी- ये ल्वाळ ! यी बिचारा तो हमारा भक्त कॉंग्रेसी छन जु चाणा छन कि कॉंग्रेस मा कुछ जोश आऊ , कॉंग्रेस बचीं राउ।
राहुल गांधी -मतबल क्या च त्यार ? क्या प्रियंका दीदी तैं राजगद्दी दिए जाव ?
सोनिया गांधी-ना ना ! वी त हम नि चाणा छंवां।  हम त चाणा छंवां कि त्वी इ राजगद्दी समाळी।  पर कॉंग्रेसी चाणा छन कि तू जरा अग्रेसिब दिखे , जनता तैं लगण चयेंद कि तू एक जोशीला , फुर्तीला , कार्यशील , ऐक्टिव नेता छे ।
राहुल गांधी -तो मि तैं क्या करण चयांद?
सोनिया गांधी- जा अबि साम्प्रदायिक दंगौं नाम पर जोर से हल्ला कौरिक लोकसभा क कुंवां मा फाळ मार दे।
राहुल गांधी -ठीक च मि साम्प्रदायिक दंगों नाम पर संसदौ कुंवा मा फाळ मारदो।  पर एक बात त बता कि यी साम्प्रदायिक दंगा कै देस मा अर कख हूणा छन ?
सोनिया गांधी-एक मिनट हाँ ! खड़गे जी ! खड़के जी ! यी साम्प्रदायिक दंगा कै देस मा हूणा छन ?
खड़के - जी भारत मा अर उत्तर प्रदेश अर महाराष्ट्र मा !
राहुल गांधी -ठीक च मि अब्याक अबि संसदौ कुंवा मा फाळ मारदु। 
सोनिया गांधी-ये नासमझ बौंळ त बिटा !
राहुल गांधी (बौंळ बिटैक संसदौ कुंवा तरफ बढ़द ) -हमें लोकसभा में बोलने नही दिया जा रहा है।  एक ही आदमी की चलती है।  
(पैथर बिटेन  ढिबर चाल मा तृतीय -चतुर्थ श्रेणी  कॉंग्रेसी बि संसदौ कुंवा मा ऐ गेन )


Copyright@  Bhishma Kukreti  7/8/ 2014       
*लेख में  घटनाएँ , स्थान व नाम काल्पनिक हैं । 

  
Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language, Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar;