उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, August 26, 2014

दे दे बाबा ! प्रजातंत्र का नाम पर लीडर ऑफ अपोजिसन पद दे दे

घपरोळया , हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      
                     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )


अचकाल जख जा  चर्चा जोरों पर च बल  कॉंग्रेस भौत जोरूं से लोकसभा मा लीडर ऑफ अपोजिसन पद का बारा मा पुठ्या जोर लगाणी च अर भाजपा , कम्युनिष्ट वाळ बुलणा छन बल कॉंग्रेस भीख मंगणि च।  ब्याळि (22 /0/8/ 2014   )  मि तैं लग बीच चौराहा पर कॉंग्रेस  गरीब जनानी का भेष मा घायल  मल्लिकार्जुन खड़गे तैं टूटीं फूटीं हथ गाड़ी मा बिठैक भीख मगणि च। 
कॉंग्रेस - दे दे बाबा ! वोट ना सै कुछ त दे जा  बाबा !
मर्सडीज कु यात्री -शिट ! अब त पॉलिटिकल पार्टी बीच चौराहा मा चंदा मांगण लग गेन।  ये कॉंग्रेस ! उन त तू 90 करोड़ रुपया यंग इंडिया या नेसनल हेराल्ड तैं खूब दींदी अर भीक मांगणो चौराहा पर खड़ी हूंदी ? क्या लगा रखा है ये ?
कॉंग्रेस - मि चंदा मंगणो थुका खड़ु हुयुं छौं। 
मर्सडीज कु यात्री - तो विधान सभा बान वोट मांगणो यु क्वी तरीका नी च। 
कॉंग्रेस - सेठ जी महाराज !  मि तै पता च कि हमन विधान सभा चुनाव बि हरणी च।  मि वोट नि मांगणु छौं। 
मर्सडीज कु यात्री - वोट बि ना अर नोट बि ना ? फिर बीच चौराहा मा खड़गे जी तैं कोढ़युं लिवास से सजैक  भीक मांगणो क्या तरीका च यु ?
कॉंग्रेस - आपन अबैं दैं भाजपा तैं खूब चंदा दे तो नरेंद्र मोदी तुमर अवश्य सूणल  त जरा मेकुण बि मांगि ले। तू मुझे कुछ दिलाएगा तो भगवान आपको माइनिंग लाइसेंस दिलाएगा ! दिला दे बाबा प्रजातंत्र का नाम पर मै तैं बि दिला दे। 
मर्सडीज कु यात्री - फंड जा भै।  मि नरेंद्र भाई से अफुकुण मांगुल कि त्वै कुण मांगुल ? जा मिडल क्लास से मांग। 
खड़गे जी (कॉंग्रेस का कंदुड़म )- नौ मण नंदुक खावन अर नंदु कौम छांचिक जावन।  ये अपर  क्लास इंडियनन हमारी क्वी सहायता नि करण। 
 कॉंग्रेस - ठीक च मि तै मारुती वाळ से मांगदु। 
कौंग्रेस - ये मारुती कार वाळ मिडल क्लास ! दिला दे बाबा ! मि तैं लोकसभा मा लीडर आफ अपोजिसन पद दिला दे! 
मध्यम वर्गीय  - क्या दिला दे ?
कॉंग्रेस - लोक सभा मा विरोधी दल कु नेता पद दिला दे ! तू मर्सडीज के लायक   भय्ये पर मि तैं लोकसभा मा लीडर आफ अपोजिसन पद दिला दे! 
मध्यम वर्गीय  - केक नाम पर लोकसभा मा लीडर आफ अपोजिसन पद दिला दे ?
कॉंग्रेस - लोकतंत्र का नाम पर।  मि  तंत्र की दुहाई दींदु कि लोकतंत्र बचाणो खातिर मि तैं लीडर ऑफ अपोजिसन पद दिला दे ! 
मध्यम वर्गीय  - कनो तब लोकतंत्र कख छौ जब ना तो इंदिरा गांधी ना ही राजीव गांधीन कैं विरोधी दल तैं लीडर ऑफ अपोजिसन पद दिलाई?
कॉंग्रेस - आप समझणा नि तब लोकतंत्र तैं विरोधी दल की आवश्यकता छैं नि छे ना ! आज नरेंद्र मोदी कु एकाधिकारवाद से  लड़णो बान लीडर ऑफ अपोजिसन अवश्य जरूरी ह्वे गे। 
मध्यम वर्गीय  - कनो इंदिरा गांधीक एकाधिकारवाद तैं प्रजातंत्र कु खंभा बुले जालु ?
खड़गे - हे माराज भीख मत दो पर अपने कुत्ते को हम पर तो मत छोडो। हे मध्यम वर्ग ! हम तैं लीडर औफ अपोजिसन पद नि दिलाइ सकदा तो हमर कुत्सित भूतकाल की याद तो नि दिलावो। 
मध्यम वर्गीय  -- जावो जावो आम जनता से लीडर ऑफ अपोजिसन का पद मांगो। 
कॉंग्रेस - ले स्यु मध्यम वर्ग बि धोकाबाज ह्वे गे।  अब आम जनता से ही भीक मांगण पोड़ल। 
कॉंग्रेस - दे दे बाबा प्रजातंत्र का खातिर लीडर ऑफ अपोजिसन पद दिला दे हे जनता !
आम जनता - लीडर ऑफ अपोजिसन पद चयाणु च त लोकसभा अध्यक्ष का पास जावो ना !
कॉंग्रेस - तीन मि तैं कखि जोग लैक नि राख।  लोकसभा अध्यक्षा  न्यायसंहिता अर पुरण रिवाजुं सौगंध लेकि बुलणी  कि कॉंग्रेस अधिकृत विरोधी दल लैक नी च। 
आम जनता - तो कोर्ट मा जावो 
कॉंग्रेस - गे छया पर कोर्ट लोकसभा अध्यक्ष का फैसला मा हस्तक्षेप नि कर सकुद। 
आम जनता - ह्यां पण त्वै तैं लीडर ऑफ अपोजिसन पद क्याकुण चयेणु च ?
कॉंग्रेस - जनसेवा अर प्रजातंत्र की रक्षा का वास्ता मि तैं लीडर ऑफ अपोजिसन का पद चयाणु च।
आम जनता - वाह ! जब सरकार मा छया तो जनसेवा नि कौर सकी  बल्कि स्कैमुँ मा व्यस्त रैई  अर अब जब विरोध मा छे तो त्वै तैं जनसेवा अर प्रजातंत्र याद आई ?
कॉंग्रेस - दे दे हे जनता ! प्रजातंत्र अर जनसेवा  नाम पर कॉंग्रेस तैं लीडर ऑफ अपोजिसन पद दिला दे ! 
आम जनता - जरा हमतैं अच्छे दिन दिखण दे फिर 2019 मा दिखला कि त्वै तैं कु पद दीण। 
कॉंग्रेस - पदविहीन रैक त कॉंग्रेस हमेशा असहाय ह्वे जांद।  
खड़गे -बगैर पद का क्वी बि कॉंग्रेसी ज़िंदा ह्वेक बि मुर्दार ही रौंद। 
कॉंग्रेस - दे दे बाबा ! नेहरू -गांधी खानदान की नाक बचाणो बान मि  तैं लोकसभा मा लीडर ऑफ अपोजिसन पद दिला दो बाबा ! 


Copyright@  Bhishma Kukreti  23/0/8/ 2014       
*लेख में  घटनाएँ , स्थान व नाम काल्पनिक हैं । 


  
Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language, Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar;