उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, February 12, 2015

ऋग्वेद कालीन असुर

  Characteristics of Anarya or Asura in Rigveda 
                                                                    ऋग्वेद कालीन असुर 

                                                                        History of Haridwar, Bijnor, Saharanpur  Part  --57     

                                                                    हरिद्वार,  बिजनौर , सहारनपुर का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -57                                                                                    
                              
                                                               इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती    

   असुर /दास /अनार्य लोगों को कृष्ण वर्ण का कहा गया है। ये असुर /दास /अनार्य हिमालय के ढालों में बसते थे। 
१- असुर पर्वत वासी थे जो घुमन्तु किस्म के थे। 
२- असुर दुर्गों में रहते थे। 
३- दास /असुर या अनार्य सम्पत्तिशाली व मायावी (छापमारी युद्ध कलावंत ) थे। 
४-पर्वतीय व पर्वतीय ढालों में रहने वाले अनार्य शिश्न पूजक थे 
५- इन्हे दास , असुर , राक्षश , दानव , नाग नाम दिए गएँ हैं 
६- ऋग्वेद में इन्हे हराने के लिए आर्यों को देवताओं की आवश्यकता पड़ती थी। 
ऋग्वेद में इन जातियों को हीं समझते थे। 
७- उत्तराखंड  हिमाचल व निकटवर्ती जगहों के वासी कृषक व पशुचारक थे। 
८- पशु स्थाई व अस्थाई खरकों में रखे जाते थे जो हिमालय में अब भी एक संस्कृति है। 
९- गाओं के अतिरिक्त शिवालिक पहाड़ियों के ढालों -भाभर /तराई में छोटे नगर भी थे 
१०- दास स्वतंत्रता प्रेमी थे। 
११- आयुधजीवी थे


** संदर्भ - ---
वैदिक इंडेक्स
डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड  इतिहास - भाग -२
राहुल -ऋग्वेदिक आर्य
मजूमदार , पुसलकर , वैदिक एज 
Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India  10 /2/2015 

Contact--- bckukreti@gmail.com  
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास; बिजनौर इतिहास, सहारनपुर इतिहास  -भाग 58   
Rig- Vedic Asura or Das & History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Telpura Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & Haridwar; Rig- Vedic Asura or Das & History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Bijnor; Rig- Vedic Asura or Das & History of Nazibabad Bijnor ; Rig- Vedic Asura or Das & History of Saharanpur
कनखल हरिद्वार का इतिहास तेलपुरा हरिद्वार का इतिहास सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास भगवानपुर हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी हरिद्वार का इतिहास बहदराबाद हरिद्वार का इतिहास ;लंढौर हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहासनगीना ,  बिजनौर इतिहासनजीबाबाद ,नूरपुर बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास