उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, October 31, 2013

चलो सरदार पटेल पर कब्जा करे जावो !

   चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 
     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
ब्याळि  सरा दिन एक घड़ि बि चैन लीणो टैम नि मील।  सरा दिन भर सरदार बल्लभ भाई पटेल पर कब्जा करण वाळु  चकरघिनी मा फंस्युं रौं। 
सुबेर सुबेर गां बिटेन बण्वा काकाक फोन आयि।   बण्वा काका तैं वूंकि घरवळि अर  नौनान भावी  ग्राम प्रधान घोसित क्या कार कि काका तैं  देस अर दुनिया चिंता सताण मिसे गे अब वु ओबामा की नीति अर ग्लोबलाइज़ेशन से तौळ बात नि करदन।  झाड़ा पिसाब करद बि बरड़ाणा रौंदन बल येस  ! आई कैन ! येस  ! आई कैन !। जब   क्वी अपण भाई तैं पिटणु ह्वावु त बण्वा काका किरैक बुलण  जांद "येस ! यू कैन ! येस यू कैन"।  जब गां वाळ देर से अयीं मोटर पर पथर्यौ करदन त बण्वा काका जोर जोर से बुल्दु बल "येस ! वी कैन ! येस ! वी कैन ! "
बण्वा काकान फोन पर पूछ -  भीषम ! तख ये सरदार पटेलक मूर्ति क्या भाव चलणा  ह्वाल ?
मीन पूछ - काका ! सरदार पटेलक मूर्ति क्या करणाइ ?
  भावी प्रधान बण्वा काका को जबाब छौ - अरे वू सरदार पटेलै  विरासत पर कब्जा करण छौ। मि चाणु छौं सरदार पटेल की गद्दी  मितै मिल  जावो। 
मीन ब्वाल  - सरदार पटेल तैं  मर्यां तिरसठ साल ह्वे गेन अर तुम  अब गद्दी बात करणा छंवां ?
 बण्वा काका ब्वाल - हैं ? सरदार पटेल मोरि गे ? पण कैन बि नि बताइ।  तेरी काकीन बताइ बल सरा क्षेत्र मा भावी पंच -प्रधान लोग सरदार पटेल कि मूर्ति लगैक पटेलौ गद्दी हथ्याणा छन त मीन स्वाच मी जि किलै पैथर रौं ! अच्छा सूण !
मीन ब्वाल -ब्वालो !
काका - त इन कौर तख बिटेन सरदार पटेल की एक   बड़ी फोटो ही भेज दे।  मी फोटो दिखैक गाँव वाळु तैं भरमाई देलु कि सरदार पटेल कु असली वारिस मी छौं।  फोटो भिजण बिसरि ना हाँ।  मी तैं पता च बल " यू कैन "! 
मि -ठीक च। 
इना बण्वा काकान फोन बंद कार उना ममकोट बिटेन सग्वारि मामीक फोन ऐ गे।  सग्वारि मामी बि अपण  ख्वाळ  वाळुक   भावी ग्राम  प्रधान च.
मामीन पूछ - ये भीषम ! ये सरदार पटेल की पार्टी मा शामिल ह्वेक म्यार पुरण दाग धुये जाल कि ना ? यु दाग मिटाण जरूरी ह्वे गै  जु मै पर त्यार मामा तैं बीस साल पैल पिटण पर लगी छा। 
मीन जबाब दे - मामी सरदार पटेल तैं मोर्यां तिरसठ साल ह्वे गेन।  सरदार पटेल कॉंग्रेसी छा। 
मामी - हैं ! त फिर सरा क्षेत्र मा   सरदार पटेल की पार्टी मा शामिल हूणै बात किलै हूणि होलि ? अच्छा तु  इन कौरs  सरदार पटेल की एक बड़ी लम्बी फोटो ही भेज दे मि फोटो दिखैक अपण पुरण दाग मिटै द्योलु। 
इना मामी फोन कट उना बस्ती जीजाक फोन आयि।  बस्ती जीजा मेरि भूलिs रिस्ता मा द्यूर लगद अर बस्ती जीजाक मुंडीत वाळुन बस्ती जीजा तैं भावी सरपंच घोसित कर्युं च। 
बस्ती जीजा -  सरा क्षेत्र मा हल्ला हुयुं च बल   सरदार पटेल की  मूर्ति लगाण से  चुनाव जीते जै सक्यांद।  भीषम ! ये सरदार पटेल की  मूर्ति अपण चौक मा लगाऊं या बीच चौबट मा लगौं ?
मि - पण मूर्ति लोहा कि होलि या पेरिस ऑफ प्लास्टर की ?
बस्ती जीजा - जै हिसाब से गां मा चंदा मीलल वै हिसाब से मूर्ति बणलि। 
मि -त पैल चंदा जमा कारो फिर मूर्ति की बात करे जालि। 
बस्ती जीजा - अच्छा सूण ! मूर्ति मा सरदार पटेल की  पगड़ीs  रंग बसंती रंग ठीक रालु कि लाल रंग ठीक रालु।  अर सरदार पटेल की दाढ़ी सुफेद छे कि काळि ? अच्छा सूंण !  सरदार  पटेल पंजाबी सलवार पैरदो छौ कि पैंट पैरदो छौ ?
मि -जीजा जी ! सरदार पटेल गुजराती छौ ना कि पंजाबी सरदार। 
बस्ती जीजा - हैं ! सरदार पटेल गुजरात  कु  छौ ? मि त समज कि सरदार पटेल क्वी पंजाबी सरदार होलु।  फिर ये पटेल तै सरदार किलै बुलणा छन लोग ?
मि - गांधी जीन बल्ल्भ भाई पटेल तै सरदार की उपाधि दे छे।  
बस्ती जीजा - त फिर इन कौर सरदार पटेल की  बड़ी फोटो भेजी दे।  मी बि आज से अफिक  सरदार बस्ती राम बौण जांदो अर सरदार पटेल की विरासत पर कब्जा करणो तिकड़म भिडांदु।   
इनी म्यार क्षेत्र से बीस पचीस भावी पंच -परधानु  फोन ऐन।  सबि सरदार पटेल की विरासत पर कब्जा करण चाणा छन पण कै तैं सरदार बल्ल्भ भाई पटेल का बारा मा कुछ बि पता नि  छौ कि सरदार पटेल कु छौ अर पटेलन क्या कौर छौ।  


  Copyright@ Bhishma Kukreti  1 /11/2013 



[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य श्रृंखला जारी ...]