उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, July 4, 2017

थ्री चियर्स फॉर बेगैरत , बेशरम , शमलेस चीफ मिनिस्टर !

झूठिस्तान  रिपोर्टर -भीष्म कुकरेती  

             कल मुंबई के सात सितारा होटल में शराब निर्माता संघ का वार्षिक उत्स्व था जिसमे शराब विक्रेताओं को की इनाम दिए गए।  कुछ पारितोषिक इस प्रकार थे। 
 सर्वपर्थम पारितोषिक है 'कैच देम यंग ' जो  दिया जा रहा  है सभी प्रदेशों के आबकारी अधिकारियों को जो स्कूल व कॉलेजों के सामने  व बिलकुल पास शराब की दुकानें , होटल खोलने के लाइसेंसलज्जाहीन होकर  देते हैं।  हमें नाज है उन भूतपूर्व  घूसखोर अधिकारीयों पर जिन्होंने मुंबई के जोगेश्वरी में इस्माइल कॉलेज के ठीक सामने एक विदेशी-देसी  दारु की दूकान , ठीक सामने व कॉलेज की दिवार से सटी जगह में बार रेस्टोंरेंट खोलने की परमिशन दी।  थ्री चियर्स फॉर कैच दैम यंग अवार्डीज। 
              'नियमों की धज्जी उड़ाओ ' के लिए लाखों अभ्यार्थी थे किन्तु प्रोत्साहन हेतु सभी पारितोषिक बिहार के शराब माफिया व सरकारी अधिकारियों को दिया जाता है। कालू यादव उर्फ़ चक्कूसे छील  दूंगा  इन परितोषिकों को लेंगे। 
        'कंट्री लिकर इन ट्यूब' का अवार्ड मुंबई के खूंखार मुर्गी चोर उर्फ़ काणिया को दिया जाता है। 
     'आजीवन निर्लज्ज पारितोषिक' हर साल की तरह भी गुजरात के अवैध  शराब के सभी विक्रेताओं   को दिया जा रहा है जिन्होंने शराबबंदी का हर वक्त मजाक उड़ाया।  'क़ानून मेरी जूती से ' का पारितोषिक भी गुजरात के अधिकारियों को दिया जा रहा है जिनके सहयोग से गुजरात में होम डिलीवरी सिस्टम से सालों से अवैध शराब  कारोबार चल रहा है। 
  'पुलिस पटाओ , 'पुलिस को धमकाओ' , 'घुस खाओ और पिलाओ' आदि पारितोषिक लेने सभी मंच से अपने आप आएं और अपनी मर्जी से अवार्ड ले जाएँ। 
     और हर साल की तरह जिस पारितोषिक को लेने सभी सफेदपोश नेता, मंत्री , संतरी ललायत रहते हैं और वह  इनाम है - 'अभिनव दारु विक्रेता' ... याने 'इन्नोवेटिव लिकर सेलर ' . जैसे कि आप सब जानते हैं कि यह पारितोषिक सबसे बेशरम , बिलंच व लज्जाहीन व्यक्ति को दिया जाता है। 
    आपको पता है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से सभी राज्यों में हाई वे  का आस पास शराब बेचना या बार बंद करना पड़ा और उत्तराखंड में स्त्रियों द्वारा दारुबंदी आंदोलन में शराब की दुकानों को बड़ी हानि पंहुचायी जा रही थी।  हम लालचियों का धंधा ठप्प पड़ गया  था।  तब आये शराब निर्माताओं के चेहते , शराबियों  के पालनहार , बेशर्मों के बादशाह -उत्तराखंड सरकार !
  शराब बेचने के प्रबल समर्थक उत्तराखंड सरकार ने एक अभिनव तरीका निकाला। उत्तराखंड सरकार ने  शराब को मोबाइल वैन से बेचने का फैसला लिया और इससे सभी कानूनों की धज्जी भी उड़ गयी और हम मानव हन्ता , मानव कलंक , मानव भक्षियों का व्यापार भी खूब चलने लगा है।  
         इसलिए शराब निर्माताओं की ओर से सबसे शर्मनाक , लज्जाहीन , बेशर्म पारितोषिक 'अभिनव ब्योड़ा  विक्रेता' ... याने 'इन्नोवेटिव लिकर सेलर  पुरुष्कार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को दिया जा रहा है। 
थ्री चियर्स फॉर बेगैरत, बेशरम , शमलेस चीफ मिनिस्टर !  





Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai India 
*लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम सत्य  नहीं  हैं । लेख में  कथाएँ , चरित्र  , स्थान सत्यता दिखाने  हेतु उपयोग किये गए हैं।