उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, May 4, 2015

यवन राजा मेनान्द्र /मिलिंद और हरिद्वार, बिजनौर , सहारनपुर का इतिहास

 Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King in context History of Haridwar, Bijnor, Saharanpur

             यवन राजा मेनान्द्र /मिलिंद और हरिद्वार, बिजनौर , सहारनपुर का इतिहास
                                      Ancient  History of Haridwar, History Bijnor,  History Saharanpur  Part  -  115                     
                           
                                         हरिद्वार इतिहास ,  बिजनौर  इतिहास , सहारनपुर   इतिहास  -आदिकाल से सन 1947 तक-भाग -  115                    

                                               इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती  


        बाख़्तरी -यूनानी राजाओं में मेनान्द्र अथवा मिलिंद का नाम भारत में बहुत प्रसिद्ध है।  बौद्ध धर्मी साहित्यकारों ने मेनान्द्र पर रोचक प्रकाश डाला है [मिलिंद पन्हा ). 
             विद्वानो का मत है कि मेनान्द्र अथवा मिलिंद की राजधानी सकाल में थी (सियालकोट ) दिमित्रस Iके पश्चमी भाग पर युक्रादित ने अधिकार कर लिया था। 
                            मेनान्द्र का अफगानिस्तान , पंजाब , राजस्थान , काठियावाड़ , भरुच (भरुकच्छ ) था और पूर्व में हिमाचल प्रदेश,  उत्तराखंड , रुहेलखण्ड , यमुना -गंगा दोआब , मथुरा आगरा तक फैला था। 
मेनान्द्र के सिक्के शिमला जिले के सबाथु , रामपुर , मथुरा और आगरा के पास भूतेश्वर में मिले हैं। 
                      स्त्रावो के अनुसार मेनान्द्र/Menander ने सिकंदर सी अधिक भारतीय भूभाग पर अधिकार किया।  उसने अपने राज्य की सीमा व्यास नदी से इसमस नदी तक विस्तार किया था । इसमस नदी की पहचान कुमाऊं से रुहेलखण्ड-कन्नौज तक भने वाली तक काली नदी (इक्षुमती या इच्छुमति ) से की जाती है।
                               मेनान्द्र/Menander का राज्यविधि समय 
विद्वानों ने मेनान्द्र/Menanderकी राज्यविधि समय 175 - 90 BC के मध्य निर्धारित किया है -
बौन गुटस्मिद -175 BC
लामोत - 163 -150 BC 
स्मिथ - 160 -140 BC 
रैप्सन - 160 BC 
नारायण -155 -130 BC 
डी सी सरकार - 115 -90 BC
      अब तक पांचाल के 12 से अधिक राजाओं के सिक्के प्राप्त हो चुके हैं अतःमेनान्द्र/Menander का पांचाल पर अधिक दिनों तक अधिकार नही रहा होगा।
मेनान्द्र/Menander की मृत्यु व मृत्यु समय पर विद्वानो के अलग अलग विचार हैं।  कुछ कहते हैं कि मेनान्द्र/Menander की मृत्यु बैक्ट्रिया सामंतो से युद्ध के समय हुयी। कुछ कहते हैं कि पाटलिपुत्र पुष्यमित्र ने जब साकल पर आक्रमण किया तब मेनान्द्र/Menander की मृत्यु हुयी।  यूनानी लखकों के अनुसार मेनान्द्र/Menander की मृत्यु अपने साम्राज्य की रक्षा करते हुयी। 



** संदर्भ - ---

डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड  इतिहास - भाग -२
राहुल -
 मध्यएशिया का इतिहास
राजतरंगणी
कनिंघम , क्वेसन्स ऑफ एन्सिएंट इंडिया
*Polibius, The Histories, Book XI, Chapter 34, vol -1
Pantjali, Mahabhashya
Dr J.N.Benarji  
D. C Sarkar 


Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India /5/2015 
   History of Haridwar, Bijnor, Saharanpur  to be continued Part  --

 हरिद्वार,  बिजनौर , सहारनपुर का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास  to be continued -भाग -

      Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  AncientHistory of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient  History of Telpura Haridwar, Uttarakhand  ;Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,    Ancient  History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ;  Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,   Ancient  History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ;  Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient   History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand  ;  Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King, Ancient  History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand  ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient  History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,    Ancient  History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar;    Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,    History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,   Ancient History of Bijnor;    Ancient  History of Nazibabad Bijnor ;    AncientHistory of Saharanpur;   Ancient  History of Nakur , Saharanpur;    Ancient   History of Deoband, Saharanpur;     Ancient  History of Badhsharbaugh , Saharanpur;   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,  Ancient Saharanpur History,   Menander I or Milinda : An Indo- Greek  King,    Ancient Bijnor History;
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास