उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, May 15, 2015

जल्ठ , डबराल स्यूं के दार्शनिक व् समाजसेवी श्री गुलाब सिंह बिष्ट

(गंगासलाण की विभूतियां शश्रृंखला  )
        इंटरनेट प्रस्तुति - भीष्म कुकरेती 
 श्री गुलाब सिंह बिष्ट का नाम मुंबई प्रवासी समाज में बड़े आदर से लिया जाता है।  वे सामजिक कार्यों में लगातार सक्रिय तो रहते ही हैं साथ ही आध्यात्मिक शक्ति विकास हेतु सभी को हर तरह से प्रेरणा देते रहते हैं।  उनका मानना है कि मनुष्य बनने के लिए पशुत्व छोड़ना आवश्यक है। 
अब तक श्री गुलाब सिंह ने निम्न पुस्तके प्रकाशित की हैं और उन्हें हर घर में पंहुचाने का काम करने में संलग्न रहते हैं -
आध्यात्मिक एवं सांसारिक लघु दर्पण - भाग -१ 
आध्यात्मिक एवं सांसारिक लघु दर्पण - भाग -२
आध्यात्मिक एवं सांसारिक लघु दर्पण - भाग -३ 
श्री गुलाब सिंग बिष्ट का जन्म ग्राम जल्ठ , डबराल स्यूं , पौड़ी गढ़वाल में ३ जुलाइ १९४० को हुया।  उनके पिता का नाम स्व एल इस बिष्ट व माता का नाम स्व सतेश्वरी बिष्ट था। अपनी मान से उन्हें आध्यात्म की शिक्षा मिली।  उन्होंने १२ वीं तक संस्कृत में शिक्षा प्राप्त की और फिर मुंबई में बेस्ट उपक्रम में नौकरी की जहां उन्होंने ३४ साल तक काम किया। 
 सम्पर्क सूत्र है -०२२ -२५९४५८८७ है