उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, May 5, 2016

Tow Garhwali Modern Poems

Garhwali Poem by Dr Ptritam Apachhyan

झुणमुण झुणमुण झुमणिगेझणमण पाणी बूंद
तुणमुण तुणमुण टिन बजेदणमण धुर्पळि चूंद
(ठीक ठीक अनुवाद संभव नहीं. मतलब है कि बारिश हुईछत के टिन बजने लगे और छत टपकने भी लगी. कोई विद्वान साथी इन ध्वनियों का अनुवाद करे तो जरूर बताइएगा)

मौज हुईं छन (A Satirical Garhwali Poem )
Darshan Singh

मौज हुईं छन मौज हुईं छननेतौं की यख मौज हुई छन।
जै थै देखो नेता बण्यां छन,वोटर कू उ खोज करणा छन।। 

वोटर कू अकाळ प्वड्ंयूच, 
कख बटि मीलला गणवाणा छन।
अपणा बाना भयों भयों थै, 
बखै बखै की लडवाणा छन।।

जौं कु यख कभि जलम नि ह्वाई, 
आज तलक जू घार नि आई। 
डांड गाड ऊ जै नी सकदा, 
क्षेत्र विकास की बात करणा छन।।

ठुलठुला नेता जुगार लग्यां छन, 
बुंगडा नेता जुगाड़ करणा छन।
मुलक की मुश्किल सब मिटि जाली, 
म्यारु दगड रौ सब बुलणा छन।।

बुंगडा नेता भी कुछ कम नी छन, 
एक छनीं मा दस मिलणा छन। 
जौंल जमण्या कू गळ्या नि लांघू, 
उ जापान कि बात करणा छन।।

ठुलठुला नेता बिवरि बण्यां छन, 
बुंगडा नेता बिकण लग्यां छन। 
रामनगर कु बैल पड़ाव जनु, 
लैन लगै क खड़ा हुयां छन।।

ना क्वी रीति ना क्वी नीति, 
मतलब अपणू सीदु कना छन।
सौ साठ पैल्या साल बीकि गैं, 
बाकि बिकणा कू तैयार बैठ्यां छन।। 

मौज हुईं छन मौज हुईं छन, 
नेतौं की यख मौज हुईं छन।।
जमण्या -जगा कु नाम। जुगार -जुगाली 
सर्वाधिकार सुरक्षित @:-
दर्शनसिंह रावत " पडखंडांई "
दिनांक :-05/05/2016


Modern Garhwali poem from Garhwal; Modern Garhwali poem from Uttarakhand, Modern Garhwali poem from  Himalaya; Modern Garhwali poem from North  India ; Modern Garhwali poem from SAARC Country ; Modern Garhwali poem from South Asia