उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, May 3, 2016

बणांग

बणांग 
भीष्म कुकरेती  
                 आग 
           अग्यो हि अग्यो 
           चरमसीमा परिकाष्ठा 
         बिणाश  , नाश  , सर्वनाश   
        तबाही , उजाड़ , बर्बाद , विध्वंस  , स्वार्थबस 
     डाळ एक का बाद हर डाळ जळणु च ,प्रज्वलित हूणु च  
बिकराल ज्वाला भड़कणी छन  , आगौ लपक  आसमान पौंछणी छन  
      धुंवारोळी  जंगळ , धुंवारोळी गाँव , धुँवारोळी कख नी च ?
                लोग भागणा छन 
             चखुलुं घर जळना छन 
          जानवरों चांठ -कांठ राख -रंगुड़ 
                   स्वार्थ 
                केवल स्वार्थ 
        मनिखाकि लगाई स्वार्थी बणांक !  
 





With Kind Regards

Dhangu, Gangasalan Ka Kukreti