उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, October 7, 2012

खुज्यांदा रैग्याँ :गढ़वाली कविता,गी


कवि : पूरण पन्त पथिक देरादून

(गढ़वाली कविता, गढ़वाली गजल, गढ़वाली गीत, , गढ़वाली पुराने गीत, गढ़वाली नये- पुराने गीत, गढ़वाली में आधुनिक गीत, गढ़वाली में अति आधुनिक गीत, गढ़वाली लोक गीत आधारित गीत, , गढ़वाली लोक गीत आधारित गढ़वाली नई कविता, गढ़वाली पद्य, गढ़वाली में व्यंग्य गीत, गढ़वाली में आधुनिक व्यंग्य गीत, गढ़वाली में आधुनिक कविताओं ने व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक कविताओं  में राजनैतिक व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक  गीत में राजनैतिक व्यंग्य ,  गढ़वाली में आधुनिक कविताओं सामाजिक व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक  गीत में सामजिक व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक कविताओं  में शिक्षा  पर  व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक गीत में शिक्षा पर व्यंग्य,  गढ़वाली में आधुनिक कविताओं में स्त्री प्रताडन पर व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक गीत में स्त्री प्रताडन पर व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक कविताओं  कृषी नीति पर व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक गीत में कृषि नीति पर व्यंग्य   लेखमाला 
 

हमत भैजी तुम्हारी सांग ब्वक्दा ही रैग्याँ ,
तुम बडादिम,झर्रा-फ़र्रा, दिखदा ही रैग्याँ .
साढ़े तीन बरस ,लाटा-काला  बण्या रां
तुम्हारी कोठी भूला-भटका दिखदा ही रैग्याँ .
तुम्हारो झंडा -लट्ठा -दरी ,ब्वाक्दा ही रैग्याँ
कूड़ी खंद्वार,हमरी,हम निगुसैं का रैग्याँ .
पित्रकुडी छोडी कना, फुन्द्या तुम बण्या ,
ब्वे को दूद बिसरी बिंडी बड़ा किले बण्या
लटमुंडळया ढुंगा हमत लमडणा लग्यां
शर्म झिझक अपण्यास  शब्द बिसरिग्यां.
धुर्पळिम  खिरबोज खांसे ,बिसरदा रयां
सिल्ल मां वो मूळा  हैंसी ,सड़दा  ही रयां .
चौड़ा गिच्चा कैरी-कैरि बडादिम बण्या
लीगैन चोर लूटी ,हम जग्वल्दा रयां .
एको-वेको -कैको क्या बल गणत करदा रयां
अपणी कूड़ी आग लगे ,द्यखदा ही रैग्याँ.
कचम्वाली खै,डंकार  लें ,लेन ही लग्यां
सिल्ल  चुल्ला परैं 'पथिक'आग खुज्यान्द रैग्यां.
 

@पूरण पन्त पथिक देरादून ४-अक्तूबर२०१२ 

गढ़वाली कविता, गढ़वाली गजल, गढ़वाली गीत, , गढ़वाली पुराने गीत, गढ़वाली नये- पुराने गीत, गढ़वाली में आधुनिक गीत, गढ़वाली में अति आधुनिक गीत, गढ़वाली लोक गीत आधारित गीत, , गढ़वाली लोक गीत आधारित गढ़वाली नई कविता, गढ़वाली पद्य, गढ़वाली में व्यंग्य गीत, गढ़वाली में आधुनिक व्यंग्य गीत, गढ़वाली में आधुनिक कविताओं ने व्यंग्य कि कविता ,गढ़वाली में आधुनिक कविताओं में राजनैतिक व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक गीत में राजनैतिक व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक कविताओं सामाजिक व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक गीत में सामजिक व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक कविताओं में शिक्षा पर व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक गीत में शिक्षा पर व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक कविताओं में स्त्री प्रताडन पर व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक गीत में स्त्री प्रताडन पर व्यंग्य , गढ़वाली में आधुनिक कविताओं कृषी नीति पर व्यंग्य, गढ़वाली में आधुनिक गीत में कृषि नीति पर व्यंग्य   लेखमाला  जारी ...