उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, October 28, 2012

जंवै, जेठू , जीजा कु जंजाळ

गढ़वाली हास्य व्यंग्य चबोड़ इ चबोड़ मा जंवै, जेठू , जीजा कु जंजाळ

चबोड्या : भीष्म कुकरेती

अजकाल जब बिटेन सोनिया गांधी जंवै रौबर्ट बड्रा कु जमीनो घोटालौ/ जटना छ्वीं भैर ऐन जंवै, जेठू , जीजा कु जंजाळ पर मीडिया मा खूब जवानी खर्च हूणु च। बड्रा क बचाव मा भारत सरकार का मंत्री जंगम गुल्म (पैदल सिपायिओं सेना) बौणिक जंगळी जन लड़ण लग्याँ छन . कौंग्रेस का बड़ा बड़ा औहदादार , प्रदेश का जंगी लाट (प्रधान सेनापति ) जंग्रैती (मेहनती) बौणिक बचावी जंग मा शामिल छन।जंवै, जेठू , जीजा/स्याळु को जंजाळ हून्दी इन च बल जगदादी (ब्रह्मा ) , जगन्मय (विष्णु जगदबेल (शिव), जगन्मयी , जगन्मोहनी बि कुछ नि कौर सकदन। जेठू बवालों स्याळु ब्वालो की खुलेआम छ्वीं महाभारातौ टैम पर धृतराष्ट्र क राज मा खूब लगी होला . मीडिया तब इन नि छौ पण छुंयाळु से इ छ्वीं सरा समाज मा सौर्दी छे त जरूर धृतराष्ट्र कु जेठू शकुनी की जबरई (अन्याययुक्त ) छ्वीं सरा जम्बूद्वीप लगदी रै होलि अर जरूर धृतराष्ट्र या दुर्योधन का जंगी जोधा अर महामंत्री जेठू शकुनी क बचाव मा इनि ऐ होला जन जंवै रौबर्ट बड्रा कु बचाव माँ भारत का न्याय मंत्री सलमान खुर्शीद , कोर्पोरेट मंत्री मोअली ऐन .धृतराष्ट्र का कथगा इ चमचो न त बोलि बि होलु बल जेठू शकुनी कि छ्वीं महात्मा विदुर छुंयाळु मा भैर फैलाणा छन। धृत राष्ट्र-गांधारी खाली जेठू क जफाइ (अन्यायी ) कारनामो से इ परेशान नि रै होला बल्कण मा जंवै जयद्रथ से बि परेशान रै होला। जयद्रथ न जब द्रोपदी पर बलात्कार अधिकार करण चाई त वैन गन्धर्वो मार खूब खाई अर पैथर जीजा क बान दुर्योधनन बी खूब मार खाई बल्कण मा गन्धर्वोन दुर्योधन तै भितर बि ग्वाड़ अर फिर पांडवो न जीजा जयद्रथ अर दुर्योधन तै छुड़ाइ। जा पर दुर्योधन आत्महत्या करणों तैयार ह्वे गे छौ . जीजा , जेठू अर जँवाई मार बि खलै सकदन अर तुम तै आत्महत्या करणों मजबूर बि करी सकदन . जंवै जयद्रथ न धृत राष्ट्र-गांधारी तै भौत दै क्या मोरदा मोरदा शर्मशार कार। मर्यु अभिमन्यु तै लत्याणे जरुरत क्या छे ? पण जंवै जयद्रथन मर्यु अभिमन्यु तै लत्याई अर फिर अपण क्या अपण बुबा की मौत बि भट्याइ। जंवै कामक नि ह्वाओ त सैकड़ो साल से सालै कमाईं इज्जत आबरू पर बि आंच ऐ जांद . मान सिंग बि त अकबरौ जेठू या स्याळु छौ अर मेवाड़ /राजस्थान का देशभक्त लोगु तै अकबरो गुलाम बणाण मा जेठू न क्वी कमी कार क्या ? मान सिंग अपण जंवै/जीजा कुण सयाणा छौ पण अपण कौमौ कुण कमीना छौ . गढ़वालो इतिहास मा कटोच अर कठैतु की कटोच गर्दी अर कठैत गर्दी कुप्रसिद्ध च। कटोच अर कठैत गढवाली राजों जेठू / स्याळ छया . इतिहास माँ भलो या बुरो बदलाव एक दिन मा नि आँद बल्कण मा बदलावों पौद सैकड़ो साल पैलि बुए जांद . गढवाल माँ गुर्ख्याणी क बीज त कटोच गर्दी अर कठैत गर्दी ब्वे गे छया . जेठू/स्याळु क कुकर्मी बीजु कारण गढवाली राजा तै सैकड़ो साल पैथर राज पाठ से हाथ धूण पोड़ अर कंगाली का दिन बि दिखण पोड़ीन . लालू प्रसाद यादव तै बि जेठू / स्याळ क कारनमा या कुकर्मो बारा मा खूब अनुभव च कि जेठू / स्याळ क्या क्या कौरी सकदन। इटली कु कोत्रेचे बि त रिस्तौ हिसाब से राजीव गांधिक जेठू या स्याळु छौ अर अबि बि कोत्रेचे राजीव गांधी क आत्मा तै चैन से नि रौण दींदु अर अचकाल नेहरु -गांधी खानदान मा रॉबर्ट बड्रा याने जंवै की छ्वीं जोरो पर छन . ठीक च कौंग्रेसी सरकार आज त रौबर्ट बड्रा जंवै तै क्लीन चिट दे द्याली पण बेरहम इतिहास कु कोंग्रेसी क्या कारल ? बेरहम इतिहास आज बि इतिहास प्रसिद्ध जंवै, जेठू , जीजाओ कुकर्मो तै खोजि खोजिक लोगु तै दिखान्दो . आज ना सै भोऴ त रौबर्ट बड्रा जंवै की छ्वीं इनी करे जालि जन हम जेठू शकुनी , जंवै जयद्रथ , जेठू कटोच अर कठैतु की छ्वीं करणा छंवां . चूंकि जेठू , जंवै , जीजा मा असलियत माँ क्वी अपणी शक्ति , अपणी सक्यात , अपणों क्वी गरूर , अपणो क्वी अचीवमेंट , अपणो विशेष इतिहास, अपणी ख़ास औकात त होंदी नी च त जब इ जेठू , जंवै , जीजा कै शक्ति पीठ का रिश्तेदार बणदन त एक समानांतर शक्ति पीठ बणाणो इच्छा यूँ तै शकुनी, जयद्रथ , कटोच, कठैत जन कुकर्मो करणो मजबूर करी दींद . असल माँ यी जेठू , जंवै , जीजा हीन भावना का शिकार हून्दन अर फिर यी शक्ति /सक्यात जमाणो बान अन्यायी रस्ता अख्तियार करण बिसे जान्दन अर बिसरी जान्दन कि युंका कुकर्मो से असली शक्तिपीठ तै नुक्सान होलू .

Copyright@ Bhishma Kukreti 29/10/2012