उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, October 9, 2012

राजनीतिक दलौ कुण धुर्या प्रवक्ता चयेणा छन


व्यंग्य साहित्य गढ़वाली में
चबोड़ इ चबोड़ मा, हौंस इ हौंस मा
                                                राजनीतिक दलौ कुण धुर्या प्रवक्ता   चयेणाछन
                                                           चबोड्या: भीष्म कुकरेती
 
[व्यंग्य साहित्य; गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; उत्तराखंडी व्यंग्य साहित्य; मध्य हिमालयी व्यंग्य साहित्य; हिमालयी व्यंग्य साहित्य; उत्तर भारतीय व्यंग्य साहित्य; भारतीय व्यंग्य साहित्य; एशियाई व्यंग्य साहित्य; जसपुर वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; ढांगू वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; गढ़वाली द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; उत्तराखंडी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; मध्य हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; उत्तर भारतीय द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; प्रवासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; गढ़वाली प्रवासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; प्रवासी उत्तराखंडी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;प्रवासी मध्य हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;प्रवासी हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;प्रवासी उत्तर भारतीय द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;मुंबई वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;महाराष्ट्र वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य ;राजनैतिक गढ़वाली व्यंग्य, सामाजिक गढ़वाली व्यंग्य , धर्म विषयी गढ़वाली व्यंग्य ; शिक्षा संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; खेल संम्बधी गढ़वाली व्यंग्य ; आर्थिक नीति संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; भाषा संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; सांस्कृतिक गढ़वाली व्यंग्य ; रोजगार संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; वैचारिक स्तर के गढ़वाली व्यंग्य ; पारिवारिक सम्बन्धो संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; स्त्री उत्पीडन के गढ़वाली व्यंग्य ; बाल उत्पीडन के गढ़वाली व्यंग्य ; कृषि संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; पलायन संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; युवाओं की समस्या संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ;ग्राम विषयक गढ़वाली व्यंग्य; शहर संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; महानगर संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; सिंचाई संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; घोटालो संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; वन घोटालो संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; जंगल माफिया राज संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; वन व्यवस्था संबंधी गढ़वाली व्यंग्य, पोलिस संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; विदेसी धौंस संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; शराब संबंधी गढ़वाली व्यंग्य , सार्वजनिक निर्माण संबंधी गढ़वाली व्यंग्य , क्षेत्रीय राजनैतिक दल संबंधी गढ़वाली व्यंग्य, लेखमाला ]

                   चूंकि सबि पुराणा प्रवक्ता घूस, भष्टाचार क वजै से जेल भितर चली गेन त हमारी राजनीतिक पार्टी तै ताबड़तोड़ -धुर्या, लम्पट, लुच्चा , लफंगा , ठग विद्या क विद्वान , बकवास करण वाळ प्रवक्ता चयाणा छन. यूँ प्रवक्ताओं ख़ास गुण इन हूँण जरुरी छन. विरोध्युं दगड अंग्वळी (गुत्थम गुथा ) माँ नम्बर एक हूँण चयेंद. अकडू त हूँण इ चयेंद. पार्टी बान पब्लिसिटी अगेटणों (हथियाना) बान सबसे अगवाडि हूँण चयेंद. कुछ बि ह्वाओ पण व्यवहार माँ अकुलु (ओछा) हूँण जरूरी च. कै तै बि अखरौण माँ , बहलाण फुसलाण माँ उ सब्युं बुबा हूँण चयेंद. अफु खुणि जसि अर विरोध्युं कुणि अपजसी हूँण जरूरी च यांकुण सर्टिफिकेट दिखाण पोड़ल. विरोध्यु कुणि अडमारा (तंग हालात) पैदा करण वालु तैं इ पद दिए जालो . गुरा जन कंचुळ छुडण वाळ प्रविर्ती क आदिम/ मनिखिणि हूँण चयेंद याने आज एक रूप त भोळ दुसर रूप. कुत्ता जन भुकण वाळ गुण त पैलि जरुरात च जू बि पार्टी की बुराई कारो वैपर बगैर जण्या -सुण्या भुकण पोडल. जैन बि पार्टी क काट कार वैकि लथा लीण वाळ इ हमारी पार्टिक प्रवक्ता ह्वे सकदन. अर जू बि हमारी पार्टिक शीर्ष आर हमारो कुंवर साब की काट कारो वै तै खदुळ कुकुर जन कटण मा अग्वाड़ी रौण चयेंद जन कि अच्काल कोंग्रेस का नेता रौबर्ट बाड्रा की काट करण वालु तै खदुळ कुत्ता जन कटणा छन.
क्वि बि हमारी पार्टिक नेताओं तै भ्रष्ट ब्वालो त वैपर हाइना जन आक्रमण करण पोडल जन कि अच्काल कोंग्रेस का कै बि सदस्य पर लांछन लगाद त ईं पार्टिक लोक आक्रमणकारी ह्वे जान्दन. जन कि जब कलमाडी पर भगार लग त कौंग्रेस का सबि प्रवक्ता हाइना जन अकर्मणकारी ह्वे गे छया.
                 स्याळु जन धोका दीणे ख़ास कौंळ मा हमारा प्रवक्ता तै बचपन से इ पारंगत हूण चयेंद त दुसरो पर बिच्छू जन डंक मारण मा सिध्हस्त हूणि पोडल.
बेईमानी, लम्पटगिरि, ठगी, हमारी राजनीतिक पार्टिक प्रवक्ता क ख़ास आभूषण हूंद . जन कि अच्काल टी.वी न्यूज चैनेलों मा राजनैतिक बहसों मा या अपण पार्टिक प्रेस कौंफ्रेंस मा कथगा लोक रोज , हर समय दिख्याणा इ रौंदन.करैं तरां करकर करण वाळ तै अति प्राथमिकता दिए जालि.
              राजनैतिक प्रवक्ता तै कोयल से कुछ सिखण पोडल .कोयल अपण अंडा कवा क घोंसला मा डाळी दीन्दी उनी हमारी राजनैतिक पार्टिक प्रवक्ता क ख़ास आदिम विरोधी पार्टिक ईख हूणि चएंदन.चिलंगु जन दूरै चीज दिखणो गुण त एक हुनर च अर हमारा राजनैतिक प्रवक्ता माँ बि जरूरी च मतबल विरोधी क कमजोरी दिखणो गुण चिलंगु से सीखो या अच्काल भारत का कै बि राजनैतिक प्रवक्ता से सीखो एकी बात च
                 हमारी राजनीतिक पार्टिक प्रवक्ता मा एक खासियात या बि हूण चयेंद जन कबूतरों मा एक गुण हुन्द कि बिरळ समणि बि ह्वाओ त कबूतर आंखि बंद करी दींदु. उनी जब बि क्वि हमारा नेताओं क विरुद्ध क्वि सबूत लाओ त आँख बूजि दीण चयेंद. जन अच्काल कौंग्रेस अर भारतीय जनता पार्टी, या हौर राजनैतिक दल का प्रवक्ता अपण पार्टिक भ्रस्टाचार पर आंखि बूजि दीन्दन. दुसर पार्टिक भ्रष्टाचार तै हमेशा इ भयंकर भ्रष्टाचार मानण चएंद पण अपण पार्टिक भ्रष्टाचार तै शिष्टाचार मा बदलणे कौंळ हमारा प्रवक्ता मा हूणि चयेंदन.
               हमारा राजनैतिक प्रवक्ता माँ रंग बदलण माँ गौलु, छिपडु, गिरगिट से अगनै हूँण चएंद. या कौंळ नि आँदी त ममता बैणि से सीखि ल्याओ. जब तलक ममता बैणि यूं.पी. ए माँ रै त कुछ नि बुलणि राइ पण अब जब यु .पी.ए से भैर ह्वाई त किराणि च बल यूं.पी.ए भ्रष्टाचार माँ लिप्त च. हमार समज से हमारो प्रवक्ता तै रंग बदलण सिखण त ममता बैणि से सिखण इ ठीक रालो.
                      हमारा प्रवक्ताओं तै दिन माँ कति दें ऊटपटांग वक्तव्य देणि पोड़दन . चूँकि भारत माँ पागल जन बुलणो क्वी प्रशिक्षण संस्थान या कार्यशाला अबि तलक नि खोले गेन त हमारा प्रवक्ता तै ऊटपटांग वक्तव्य बुलण सिखणो बान दिग्गी बाबू क वक्तव्यों पर ध्यान दीणि चयेंद.
                   कछुआ से हमारा प्रवक्ताओ तै प्रशिक्षण लीण पोड़ल की जब भीत ह्व्वाओ त कन अपण मुंड भीतर कुच्याण. अर जब भला दिन ह्वावन त कुत्ता जन भुकण.
               हमारा प्रवक्ता तै गैंडा की खाल से बि सिखण पोड़ल कि करोड़ो जनता क रूण पर बि कन बेअसर रौण.
हमारा राजनैतिक प्रवक्ता मा चिंचुड़ जन गुण हूँण बि लाजमी च कि जनता क ल्वे चूसो अर दे दनादन चौड़ अट्टा हवे जाओ याने कि जनि नेता बौणो तनि बैंक बैलेंस बढाण मा अग्ल्यारी ल्याओ .उन हमारा प्रवक्ता यो काम जूंक से बि सीखि सकदन कि कने जनता क खून चूसे जांद
                 जब बि क्वी हमारा शीर्षस्थ हाई कमांड कि क्वी बुराई कारो त चीता, बाग़ जन आक्रमण कारो, बिरळ जन घुघराट कारो अर अपण हाई कमांड क समणि कुत्ता जन पूंछ हिलाओ .
उन इन काम सिखण जादा कठण नी च बस द्वि चार दिन टी.वी चैनेलु माँ न्यूज चैनेल द्याखो अर यी सुब टूटब्याग अफिक सीखि जैल्या .
जु                          तुम अफु तै धाकड़ ठग, धुर्या, मक्कार, लुटेरा, लम्पट , कपटी, अफखवा, बदजात, अनाचार या अत्याचार से दुखी नि हूँण वाळ, घड़ियाली आंसू बगाण वाळ, दुराचार क संगती, चालु, चकचुन्द्र्या, समजदवां त तुरन्त हमारि राजनैतिक पार्टी क प्रवक्ता बौणि जाओ। हमारी पार्टी हौरि पारट्यु से थ्वडा अलग च .

Copyright@ Bhishma Kukreti 10/10/2012

व्यंग्य साहित्य; गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; उत्तराखंडी व्यंग्य साहित्य; मध्य हिमालयी व्यंग्य साहित्य; हिमालयी व्यंग्य साहित्य; उत्तर भारतीय व्यंग्य साहित्य; भारतीय व्यंग्य साहित्य; एशियाई व्यंग्य साहित्य; जसपुर वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; ढांगू वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; गढ़वाली द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; उत्तराखंडी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; मध्य हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; उत्तर भारतीय द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; प्रवासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; गढ़वाली प्रवासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य; प्रवासी उत्तराखंडी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;प्रवासी मध्य हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;प्रवासी हिमालयी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;प्रवासी उत्तर भारतीय द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;मुंबई वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य;महाराष्ट्र वासी द्वारा गढ़वाली व्यंग्य साहित्य ;राजनैतिक गढ़वाली व्यंग्य, सामाजिक गढ़वाली व्यंग्य , धर्म विषयी गढ़वाली व्यंग्य ; शिक्षा संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; खेल संम्बधी गढ़वाली व्यंग्य ; आर्थिक नीति संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; भाषा संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; सांस्कृतिक गढ़वाली व्यंग्य ; रोजगार संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; वैचारिक स्तर के गढ़वाली व्यंग्य ; पारिवारिक सम्बन्धो संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; स्त्री उत्पीडन के गढ़वाली व्यंग्य ; बाल उत्पीडन के गढ़वाली व्यंग्य ; कृषि संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; पलायन संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; युवाओं की समस्या संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ;ग्राम विषयक गढ़वाली व्यंग्य; शहर संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; महानगर संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; सिंचाई संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; घोटालो संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; वन घोटालो संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; जंगल माफिया राज संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; वन व्यवस्था संबंधी गढ़वाली व्यंग्य, पोलिस संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; विदेसी धौंस संबंधी गढ़वाली व्यंग्य ; शराब संबंधी गढ़वाली व्यंग्य , सार्वजनिक निर्माण संबंधी गढ़वाली व्यंग्य , क्षेत्रीय राजनैतिक दल संबंधी गढ़वाली व्यंग्य, लेखमाला जारी ...