उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, December 13, 2017

यदि सेना मा सिब्बल , अय्यर अर कर्ण जन सेनापति ह्वावन त हार निश्चित च

(Best  of  Garhwali  Humor , Wits Jokes , गढ़वाली हास्य , व्यंग्य )
-
 चबोड़ , चखन्यौ , ककड़ाट  :::   भीष्म कुकरेती    
-
  महाभारत की हर कथा हर युग मा द्वरे जांद , रिपीट हूंद अर रिपीट होली।  मि  जंगड़ ठोकि बुलणु छौं , मि गर्जना कौरी बुलणु छौं , मि होश मा लिखणु छौं बल महाभारत तब बि प्रासांगिक थौ , कांग्रेसौ कुण आज बि प्रासांगिक च अर भाजपा कुण 2019 मा प्रासांगिक रालो। 
     अबि गुजरात विधानसभा चुनाव चलणा छन , आज पैलो चरणौ मतदान हूणु च अर रोमन (इटली ) दिबता फॉर्चुना की कसम अबाक दैं अबि तलक यीं सदी  कु लाटु राजनीतिज्ञ , राजनैतिक गळ्या ,प्रजातंत्र कु परिवारवादी कोढ़ राहुल गांधीन क्वी मूर्खतापूर्ण हरकत नि कार , राजनैतिक आत्महत्या वळ बयान नि देन , उल्टां मंदिर जैक , जंद्यो दिखैक प्रधान मंत्री कुण अळजाट ही पैदा कार।  ये प्रजातंत्र पर काळो  धब्बा याने परवारवादी राजनीतिज्ञ का सबि सलाहकारों तैं सैकड़ों सलाम।  विरोधी पार्टी कु काम च सरकारी पक्ष तै कटघरा  मा खड़ करण ना कि स्वयं कटघरा  मा खड़ु हूण।  अब्याक दैं कुत्ता प्रेमी  किन्तु राजनैतिक  महामूर्ख राहुल गांधी तै सही सलाहकार मिलेन अर राहुल गांधी अपण भूमिका वास्तव मा सही तरां से निभाणु छौ । पटेल , दलित , ओबीसी कु गणित कॉंग्रेस का पक्ष मा सही छौ।  लाटु गळ्या तब चुनावी दंगल का  शुरवात मा , बीच मा तेज तर्रार बौड़ लगण लग गे छौ ।   कुडोज टु हिज कंसल्टेंट्स ! 
    किन्तु बुल्दन ना बल जब खुद की अकल सुंगर बणिक गुदनड़ जयिं ह्वावो त दुर्योधन का साथ अपण मरणो भेद शत्रु तैं बथाण वळ भीष्म जन धोखेबाज सेनापति , द्रोणाचार्य जन पुत्र प्रेमी जाहिल सेनापति , अपण सेनापति  तैं निरुत्साहित करण वळ सारथि (ड्राइविंग फ़ोर्स ) शल्य अर दान का नाम पर अपणी रयीं सईं शक्ति अपण शत्रु पक्ष (इंद्र अर कुंती ) तैं दीण वळ महामूर्ख कर्ण पैदा ह्वेई जांदन। 
    गुजरात विधान सभा चुनाव शुरू हूण से ठीक द्वी दिन पैली  कॉंग्रेसौ सिपाहसलाकर खूंखार कपिल सिब्बलन सर्वोच्च न्यायालय मा राम मंदिर याचीका  की सुणवाई 2019 तक टळणै याचिका दे द्याई।  समय की मांग छै बल चुनावुं बगत राम मंदिर केंद्रीय मुद्दा या छ्वाड़ -तीरो बि मुद्दा नि बणो।  राम मंदिर मुद्दा भाजपा कु इन हथियार च जु यादवूं तैं लालू यादव अर मुलायम सिंग  यादव से अलग करदो , राम मंदिर इन मुद्दा च जु दलितों तैं मायावती से अलग करदो।  इनि गुजरातम राम मंदिर मुद्दा पाटीदार -पटेलों तैं हार्दिक पटेल से बिगळांद।  राम मंदिर मुद्दा से ओबीसी अपण प्रिय लीडर अल्पेश ठाकौर या दलित लोग युवा दलित नेता की बि नि सूणल।  
    कपिल सिब्बलन आधुनिक कर्ण की भूमिका बड़ी अच्छी तरह निभाई अर भाजपा व मोदी जी सरीखा भीड़ तैं सम्मोहित करण वळ भाषणबाज तैं राम मंदिर जन कॉंग्रेस की कमर तोड़ू मिसाइल पकड़ै दे।  कर्णन अर्जुन पिता इंद्र तै अभेद्य कवच कुंडल दे , कुंती तैं पांच पांडवों तैं जीवन दान को दान दे दे छौ।  वह रे दुर्योधन कु मित्र ? दानवीर की पोजीसन पाणो वास्ता दुर्योधन कुण  समय से पैली कर्णन चिता सजै दे उनि कपिल सिब्बलन मोदी जी तै व अमित शाह जन तै न्यूक्लियर बम्ब हथ मा दे दे।  आवो अपण खाड अफिक खौणो या अपण चिता अफिक सजावो सिखण हो तो महाभारतीय चरित्र कर्ण से सीखो या रणनीतिकार कपिल सिब्बल से सेखो। 
    इनि कांग्रेस का वास्ता कर्णन फिर से एक अवतार हैंक ल्याई अर कर्ण मणिशंकर अय्यर का नाम से अवतारित ह्वे गे।  पाकिस्तान परस्त अलगाववादी राजनीति का सर्वेसर्वा मणिशंकरन प्रधान मंत्री मोदी जी कुण 'नीच आदमी ' बोलिक सब गुड़ गोबर कर दे।  कु नी च जु अपण अस्मिता से प्रेम नि करदु।  गुजरात मा गुजराती (इख तलक कि मुसलमान बि ) मोदी जी तैं वोट द्यावो या नि द्यावो किन्तु गर्व तो अवश्य करदो कि एक गुजराती भारत का प्रधान मंत्री च।  जख मोदी तैं विकास या अच्छे  दिन का नाम से घिरणो रणनीति अपन्याण छौ उख आधुनिक कर्ण मणि शंकर अय्यरन कणांदो शेर मोदी जी तैं अस्मिता की घुट्टी पिलैक बब्बर शेर बणैक कॉंग्रेस तै अपराधी कु कटघरा मा खड़ु कर दे अर अब कॉंग्रेस फ्रंट सीट से बैक  फुट पर ऐ गे।  अब विकास कणाणु च अर राम मंदिर व गुजराती अस्मिता दहाड़ मारणा छन।  वाह रे कर्णों की औलादो ! क्या यही रणनीति हूंदी चुनावी युद्ध  जीतणो की कि शत्रु पक्ष तै अभेद्य हथियार दे द्यावो ?
   उन त चुनाव जितण या हरणौ  वास्ता केवल एक कारण नि हूंदन।  चुनाव मा सैकड़ों ब्यूंत , तिकड़म काम करदन पर यदि केंद्रीय मुद्दा विपक्षी दल का विरोध मा जावो तो अवश्य ही विपक्षी दल का हारणो अवसर बढ़ ही जांदन। 
    पर एक फायदा कॉंग्रेस तैं अवश्य ह्वे गे।  यदि कॉंग्रेस गुजरातक चुनाव जीती गे तो बुले जाल बल महामूर्ख राजकुमार अब वयस्क ह्वे गे , मुन्नी जवान ह्वे गे, मंदबुद्धि कु अब दिमागदार ह्वे गे ।  यदि कॉंग्रेस चुनाव हारी बि गे तो मोळ -माटो मादेव पर चुनाव हारणो अभियोग नि लग सकद।  कॉंग्रेसी मणि शंकर अर कपिल सिब्बल का ब्वे बाबुं पर लांछन लगै ल्याला बल कॉंग्रेस तो यूं कर्णों  , यूं  भीष्मों या यूं द्रोणाचार्यों का कारण से चुनाव हारी। लाटु - गळ्या राहुल गांधी कुण त द्वी हाथों मा लड्डू छन।  
एक शंशय यु बि च क्या कॉंग्रेस द्वारा राहुल गांधी तैं भावी चुनावी हार का अभियोग से बचाणो ढोंग तो नि रचे गे ?

 -

9 /12 / 2017, Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai India

*लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ , चरित्र , स्थान केवल हौंस , हौंसारथ , खिकताट , व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।
-
    ----- आप  छन  सम्पन गढ़वाली ----
-
 Best of Garhwali Humor Literature in Garhwali Language , Jokes  ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Uttarakhand Wit in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language Literature ; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language  Literature , Jokes  ; Best of  Ridicule in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Mockery in Garhwali Language Literature  , Jokes    ; Best of  Send-up in Garhwali Language Literature  ; Best of  Disdain in Garhwali Language Literature  , Jokes  ; Best of  Hilarity in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language  Literature   ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language Literature  from Pauri Garhwal , Jokes  ; Best of Himalayan Satire Literature in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal  ; Best of Uttarakhand Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal  ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal  ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal  ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal   ;  Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal  ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal   ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar    ;गढ़वाली हास्य -व्यंग्य ,  जसपुर से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; जसपुर से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; ढांगू से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; पौड़ी गढ़वाल से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ;
Garhwali Vyangya, Jokes  ; Garhwali Hasya , Jokes ;  Garhwali skits , Jokes  ; Garhwali short Skits, Jokes , Garhwali Comedy Skits , Jokes , Humorous Skits in Garhwali , Jokes, Wit Garhwali Skits , Jokes