उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, January 5, 2015

हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर इतिहास संदर्भ में आर्यों द्वारा पशुपालन

  Animal Husbandry , Ranching in by Vedic Aryan Era 
                                    हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर इतिहास संदर्भ में आर्यों द्वारा पशुपालन 
                                                               History of Haridwar Part  --39   
                                            हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -39                                                                                      
                           
                                                   इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती

            वैदिक आर्यों के लिए गाय -बैल प्रधान सम्पति मानी जाती थी।  भेड़ -बकरी व घोड़े भी पाले जाते थे। 
गायों को सुबह , दोपहर व संध्या समय दुहा  जाता था। गोपाल गाय -बच्छियों के देखरेख हेतु जानवरों के संग चलते थे।  गायों आदि की पहचान हेतु कान चिन्हित (branding ) किये जाते थे।  रात्रि समय दूध देने वाली गायें मकान में रखी जाती थीं बाकी जानवर गोठ /गोष्ठ में रखे जाते थे। 
पशु धन वृद्धि हेतु कर्मकांड /प्रार्थना की जाती थी। वैदिक साहित्य में अप्सराओं की तुलना गायों से की गयी है। 
दूध , घी , दही की प्रचुरता थी। 
पूजा ,  दही , घी का प्रयोग संभव था।  शायद बैलों को बधिया करने की परम्परा भी  चल पड़ी थी।

**संदर्भ - ---
डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड  इतिहास - भाग -२
राहुल -ऋग्वेदिक आर्य
मजूमदार , पुसलकर , वैदिक एज
Copyright@ Bhishma Kukreti  Mumbai, India 3 /1/2015 

Contact--- bckukreti@gmail.com 
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास; बिजनौर इतिहास, सहारनपुर इतिहास  -भाग 40

History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ; History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ; History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ; History of Telpura Haridwar, Uttarakhand ; History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ; History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ; History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand ; History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand ; History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ; History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ; History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ; History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar; History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;History of Bijnor; History of Nazibabad Bijnor ; History of Saharanpur 
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास