उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, January 7, 2015

अरे मै तो क्रिकेट कमेंटेटर बन्न गय्या !

 Best  Harmless Garhwali Humor  , Satire, Wit, Sarcasm Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya on Cricket Commentary 

                                   अरे मै तो क्रिकेट कमेंटेटर बन्न गय्या !
                                            खिलंदेर ::: भीष्म कुकरेती 
सि ब्याळि म्यार लोकल केबल वाळ म्यार ड्यार आयि अर बुलण मिसे - बल कुकरेती जी ! अब सि क्रिकेट वर्ल्ड कप आण इ वाळ च आप हमर क्रिकेट कमेंटेटर बण जावा। 
मि -मि अर क्रिकेट कमेंटेटर ?
केबल वाळ-टीवी सीरियलुं जन तीन दैं मुंड हलैक किलै खौंळयाणा छंवां ?  मि -ह्यां मीन त कबि नि स्वाच कि मि क्रिकेट कमेंट्री करुल।
केबल वाळ-त क्या ह्वे ? सुचणो त पनगड़िया जीन बि नि सोचि छौ कि एक दिन नीति आयोग बणल। 
मि -
ओहो म्यार मतबल च बल क्रिकेट कमेंट्री वास्ता क्रिकेटौ ज्ञान त हूण चयेंद।
केबल वाळ- भौत सा टीवी ऐंकर मंगल ग्रह यान पर इन बुल्दन जन बुल्यां यूंक जनम इ इसरो क लैब मा ह्वे वाल तो यांक मतलब यु नी च कि अज्ञानी एक्स्ट्रा कमेंट्स नि कार साक।  द्याख नी तुमन राहुल गांधी , दिग्विजय सिंह , सिंधिया जन लोग गरीबी की त्रासदी पर कन बुल्दन जन बुल्यां यूंन  बचपन मा दस दस दिन तक पाणि नि पै हो।
मि -
पर मि तैं करण क्या च ?
केबल वाळ- तुम तैं एक्स्ट्रा कमेंट्री मा सेन्सेसन पैदा करण , दर्शकुं मन मा आवेग , क्या ह्वाल अर द यार यी क्या बिजोग पड़ गे जन भावना पैदा करण। मि -सेन्सेसन ?
केबल वाळ-हाँ जन कि चार तारीख बिटेन टीवी वाळ सेन्सेसन पैदा करणा छा कि युवराज इंडियन टीम मा आलु कि ना , आलु कि ना या ये बगत बि युवराज की पछिण्डि त नि ह्वे जालि।
मि -
पर युवराज की मनोव्यथा अर शरीर की दशा क्या च जाणै बगैर युवराज टीम मा होलु कि ना कु घ्याळ लगाण क्रिकेट खेल का दगड़ बेइनसाफ़ी  च।
केबल वाळ-द्याखो एक्स्ट्रा कमेंट्री मा खेल का साथ इन्साफ़ी नि करे जांद बल्कि सेन्सेसन पैदा करे जांद , टीआरपी बढ़ये जांद , अलंकारुं ऐसी तैसी करे जांद। 
मि -अलंकारुं ऐसी तैसी ?
केबल वाळ-हाँ जन कि ब्याळि युवराज तैं टीम मा नि लिए गे त भौत सा एक्स्ट्रा कमेंटेटरुं बुलं छौ - धोनी ने बदला लिया , युवराज के  बंटाधार का गुनाहगार धोनी , युवराज का जानी दुश्मन  फ्लेचर आदि आदि ! मि -ह्यां पर असलियत मा क्या ह्वे यी बि त आवश्यक च कि ना ?
केबल वाळ-ओहो ! सूत्रों के अनुसार बोलि द्यावो तो सब झूठ सच माने जांद।
मि -
फिर मि तैं क्या क्या करण ?
केबल वाळ-अब माने कि भोळ इंडिया कु मौच ह्वावु त आज सुबेर बिटेन प्लेयिंग इलेवन का बारा मा दर्शकुं तैं इन उळजाण कि दर्शक सुपिन दिखण लग जावन कि पंदरा का पंदरा खिलाड़ी ही भोळ   खिलणा छन। 
मि -
मतबल क्रिकेट कमेंटेटरों काम च दर्शकुं कल्पना का दगड खिलवाड़ ?
केबल वाळ-हाँ जु दर्शकुं कल्पना दगड़ जथगा जादा खिलवाड़ कारो स्यु उथगा महान कमेंटेटर जन कि महान अलंकार विद नवजोत  सिद्धू।  मि -अर जब टॉस हूणों बाद प्लेयिंग इलेवनकु  निर्णय ह्वे जावो तो ?
केबल वाळ-तो भारतीय कैप्टेन तैं गाळी दीण कि अलण तैं किलै नि ले , फलण की जगा पर यदि उ हूंद तो , स्यु हूंद तो आदि आदि।
मि -
मतबल इन हूंद तो तन ह्वे जांद।
केबल वाळ-हाँ  खेल खतम हूण तक दर्शकुं तैं इफ़्स ऐंड बट्स मा फँसाइक रखण।  सफल कमेंट्री कु रहस्य च कि फूफू की मूछें होती तो वह चाचा ताऊ होती। 
मि -अर यदि टीम हार जाव तो ?
केबल वाळ-तो चिल्लावो टीम के चौदह  गुनाहगार , चौदा  लोगुंन इंडिया की लुटिया दुबै , यूँ चौदौं तैं जिन्दा खड़्यार द्यावो आदि शब्दों से एक्स्ट्रा कमेंट्री की शुरवात कारो। मि -पर खेल मा तो अग्यारा खिलाड़ी हूंदन फिर चौदौं तैं खड्यणो  क्या जरूरत ?
केबल वाळ-अरे टीम हारी गे तो कोच , डाइरेक्टर अर ट्वेल्थ मैन तैं बि नंगा करण जरुरी च कि ना ?
मि -
अर यदि टीम जीत गे तो ?
केबल वाळ-तो सारा का सारा क्रेडिट अफु ले ल्यावो।
मि -
हैं ? ख्यालल खिलाड़ी , खलड़ खिंच्याल खिलाड्यूं का अर क्रेडिट ल्यालु कमेंटेटर ?
केबल वाळ-हाँ ! इन मा एक्सपर्ट कमेंटेटर  तैं हर बार बुलण पोड़ल कि मैंने कहा था कि यदि यह प्लेयिंग इलेवन होगी तो इण्डिया जीत जायेगी।  मि -ओ ! त या बात च।
केबल वाळ-हाँ ! एक्सपर्ट कमेंट्री कु यही राज च।
मि -
ठीक च।  मि एक्सपर्ट कमेंट्री का वास्ता तयार छौं।
केबल वाळ-ठीक च। तुम चार स्पॉन्सर  खुजेक लया अर जैदिन चार स्पौंसर  लेक ऐ जैल्या वैदिन बिटेन कमेंट्री का वास्ता ऐ जैन।


7/1/15 ,  Bhishma Kukreti , Mumbai India 

   *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।

Best of Garhwali Humor in Garhwali Language on Cricket Commentary ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language on Cricket Commentary ; Best of  Uttarakhandi Wit in Garhwali Language on Cricket Commentary ; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language on Cricket Commentary ; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language on Cricket Commentary; Best of  Ridicule in Garhwali Language on Cricket Commentary  ; Best of  Mockery in Garhwali Language on Cricket Commentary ; Best of  Send-up in Garhwali Language on Cricket Commentary  ; Best of  Disdain in Garhwali Language on Cricket Commentary; Best of  Hilarity in Garhwali Language  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language  ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal on Cricket Commentary ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal on Cricket Commentary ; Best of Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal  on Cricket Commentary; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal  on Cricket Commentary; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal on Cricket Commentary ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal on Cricket Commentary ; Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal on Cricket Commentary ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal on Cricket Commentary  ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar on Cricket Commentary ;

Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya,