उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 14, 2016

दुरंगा टल्ला

Realistic and inspirational Modern Garhwali Story

                दुरंगा टल्ला
Garhwali Story by: Mahesha Nand

घ्यपळुन् गुंट्ठि भै कि कौलि (मजाक) कै कि बोलि--- "थ्व रै गुंट्ठि भैमास्टर छंवा अर सि छंवा कुतरंण्या झुलौं पैरी हळ्या सि बंण्या। अंक्वै बरांडेड सूट-बूट पैरी रावा धौं।"
गुंट्ठि अपड़ि गरिब्या दिन नि बिस्रि छौ। वे थैं अपड़ि खयीं खौर्या दिन्वी ओद (याद) ऐ ग्या। वेन घ्यपळु थैं अढ़ांद बोलि---- "ज्वनिम नि द्येखि बल देस अर बुढींदां ह्वा खबेस। जौं दिनु हौंस-उलार छै तौं दिनु दुरंगा टल्लौन् नांग ढका त मुंथन् लिकैकि (चिरढ़ैकि) बोलि --- हे रां द! तै गुंट्ठि भै कबि बौढ़ला कबि दिन। तक्ख द्याखा धौं दुरंगा टल्ला कन चिंमलांणा (चमकंण) छन।"
गुंट्ठिन् अपड़ा झुल्लौं द्येखी बोलि---- "टक्क लगै कि सूंण भुला! म्यारा दिन बौढ़ी ऐ ग्येनि। अब यि झुल्ला जन बि छन पंण टलंया नि छन त अज्यूं बि मुंथा (दुनिया) लिकांणी लगीं च। मुंथौ मुक दुरंगा टल्ला जन हूंद। उब्बरी काळु त उब्बरी गोरु। लारा-लत्ता बल द्वी अर मुक वी। भुलाजमज्यळौं मूंजा (झुर्री) पोड़ि ग्येनि। भोळ तु ब्वल्लि-- न बै दिदा! मूंजा पोड़ि ग्येनि। हैंकु मुक ल्हौ त त्वी बोलहैंकु मुक कक्ख बटि ल्हौं ?"
घ्यपळ्वा मुक उंद मूंजा छा पुड़्यां छकंण्या। वेन अप्ड़ि जमज्यळि जबकैनि अर वुक्खुम् बटि सट्ट सट्गि ग्या। 
अछीकी (सच मा) जु क्वी कै कझुल्लौं द्येखी वे थैं गंणख (सम्मान दींण) त वु हूंचू (ओछू) मनिख च। बरांडेड झुल्लौं पैरी मनिखौ मोल नि हूंदुमोल हूंदु वे कउच्चा-सच्चा ध्यौंऊं (विचारू) का।
Copyright @ Mahesh Nand
Realistic and inspirational Modern Garhwali Story from Garhwal; Realistic and inspirational Modern Garhwali Story from Garhwal Uttarakhand; Realistic and inspirational Modern Garhwali Story from Garhwal, central Himalaya ; Realistic and inspirational Modern Garhwali Story from Garhwal, North India ; Realistic and inspirational Modern Garhwali Story from Garhwal, India ; Realistic and inspirational Modern Garhwali Story from Garhwal, South Asia ;