उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 14, 2016

मन्वा दगड़्या

Garhwali Fiction, Friendship
-
                    मन्वा दगड़्या 
-
(
दगड़्या दिवस फर म्यारु पिरेम)
Story By Mahesha Nand
-
मन्नु गौ जन मनिख छौ। वु दगड़्यों कपल्ला पोड़ि त वे फर वूंकि भामि लगि ग्या। मन्नु थैं वु जक्ख भट्यांदा वु तक्खी दन्कि जांदु छौ। स्यु दगड़ा बान जक्खि-कक्खिम् फुंद्या बंणि जांदु छौ। पखंणा छन बल कि मि कर्दु देसै मेस अर मै कु हूंदु चल्यूं (चालु) कु भेस। 
भलि कंगस्या (कामना) लेकि यु सौब भलु कन चांदु छौ। भल्यार कना दंदोळम् मन्नु सब्यूं कु ऊपि (नापसंद) बंणि ग्या। दगड़्या ऐका पैथर रांदा अर यु ऐथर। जक्ख कड़ु ब्वन्नै नौमत आंदि त मन्नु अफी ऐथर ऐ जांदु छौ। 
मन्नु अपड़ा चित स्ये इन चितांदु छौ कि वे का दगड़्या वे कि पुलबैं कैरSला। पंण वु त पीठि पैथर वे कि कौलि कर्दा छा। कंद्वरा (कै कि गुप्त बात ) सुंण वळा मन्नु थैं बिंगाणी लग्यां रांदा छा कि स्यु त तन चवु त यन च। 
तौबि मन्नु यूं कु दगड़ु नि बिरै साकि। दगड़्या चकड़ेति कैरुन् अर मन्नु अपड़ा सकळा ध्यौ ले कि यूं कऐथर-पैथर रौ। जक्खम दगड़ा बान मुकरंगै(लड़ै-झगड़ा) कनौ घत आंदु त स्यु आँखा बूजी फक्कम् मुकरंगै कर्दु। 
मुकरंगै कर्दि दां दगड़्या सुरक--सुरक मुक लुकांण बैठिनि। पाछ बींगि द्या मन्नुन् सैरि सार-तार। वे कघटपिंडौ सकळु मनिख बि सुरक घटपिंडै लुकि ग्या। ब्वादन बल कि अब मन्नु बि अपड़ै दगड़्यों जन चंट-चकड़ेत ह्वे ग्या।
-
Copyright@ Mahesha Nanad
-
Fiction, Story, from Garhwal Friendship ; Garhwali Fiction, Story, from Pauri Garhwal Friendship ; Garhwali Fiction Friendship  , Story, from Garhwal, Uttarakhand Friendship ; Garhwali Fiction, Story, from Garhwal Central Himalaya Friendship ; Garhwali Fiction, Story, from Garhwal North India Friendship; Garhwali Fiction, Story, from Garhwal , SAARC Country Friendship; Garhwali Fiction, Story, from Garhwal South Asia Friendship;