उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, September 4, 2016

Garhwali Poetries by Rakesh Mohan Thapliyal

Critical and Chronological History of Modern Garhwali (Asian) Poetry –- 307
                    Literature Historian:  Bhishma Kukreti
Modern Garhwali Verses  Songs,     Poems 
-  (गढ़वाली कविता )

रचना --    राकेश  मोहन थपलियाल ( जन्म 1953 टिहरी  गढ़वाल  ) 
Poetry  by – Rakesh Mohan Thapliyal -
Critical and Chronological History of Modern Garhwali (Asian) Poetry – 
-साहित्य इतिहास इंटरनेट प्रस्तुति और व्याख्या : भीष्म कुकरेती 

-
         सवाद
-
Garhwali Poetry by: Rakesh Mohan Thapliyal
-
कब्बी बिटिन नि बुकाईन बुख़णा,तिल अरभंगजीर मिल्यां॰
चाखी नी पिन्ना कु साग,नि खाई पाड़ी पालिंगा की काफली॰
राई की भुज्जी अर तोर की दाल,
जख्या म छौंक्यां पिंडालु दगड़ी,भुटीं लाल मर्च ॰
अर किनगोड,हिंसर,काफल कि त
स्याणी भी केक करण यख ?
अब यूं कु समझाऊ किमेरा मुलक म,
आट्टा अर बासी रोट्टयों कु भी बणदु थौ साग॰
वनु त यख ,खोजण परकै हैक्का नौ सेमिल जाँदुकोदुझंगोरूगैथ अर कई धाणी॰
पर नि औंदु गैल्या वु स्वादवा पहाड़ी रसाण ,
बाबाजी का सौंमैन तुम म झूठ किलै बोलण ?
मैन एकदिन पुछि दुनिया का मशहूर बाबर्ची ----- से,
हे बेटाबूढेंदी बखत क्या मनखी कु गिच्चू खराब व्हेजाँदु होलु ?
मेरा नौन्याल भी बोलदान,पता नी बाबाजी कनु पकौंदा था तुमारी भी सदानी रैगिन यई छुईं ?
वै लठ्याला खानसामा न बोलिचचा बुरु नि मान्यान,
सवाद गिच्चा की गैलीमाटा अर पाणी से भी औंदु ?
(वैकु बाबा भी घरन लैक,जब कखी हैकी जागा पकौंदु थौतब वै भी 
वख वु स्वाद नि औंदु थौ)
***************
हे मेरा गौं
--
Garhwali Poetry by: Rakesh Mohan Thapliyal
-
हे मेरा गौंमै तेरा सौंमैंन तू नि भुलाई
कुई यनु दिन क्या होलुजब तू याद नि आई.
रोटटी-पाणी खैक जब लटकदौं बिछौणा मै तेरी खोज म फिर आफु म भटकदौं .
मन का आँखा खोलदा,स्मृतियों कु किवाड़सपनों का बिना दिखेंदुपुराणु संसार.
तिबारी म बैठयूं बाबापेणु छ तमाखु. गुठयारा म बई लगींसोरन पर मोळ .
डिंडयाला म बैठिं भुलिकाटणी छ भुज्जीधौला-बुल्ला रिंग्ताणा छनतै खाडू देखीक.
बाखडा भैंसा कु मचायूं छ अडाडोटबखत घास कु व्हेगीभूक लगीं भूख.
गोसा कु धुवां उठीकपहुंचीगे अकाशसूरज नारैण न पकड़ी डांडों की बाट
खल्याण म छोरों की मची धमा चौकड़ीडाला मति पोथलों भी फुटी बरडोट.
जा बेटी तू पाणिक जामै आट्टू ओलदु रुमक पड़गी छोरी,कबरी पकौलु ?
रोटटयों गैली माँ की चुड्यों कु छमणाटअब कुछ नि रई बाकीरैगि खाली याद.
हे मेरा गौंमै तेरा सौंमैंन तू नि भुलाई,,,,,
***************************
फिर पाई नि वो स्वाद
--
Garhwali Poetry by: Rakesh Mohan Thapliyal
-
वू कोदा-झंगोरा का दिन
अर सौंण की खीर जनि रात,रुपया त बतेेरा कमेंन जिन्दगी
पर अब नि रै वा बात ?
उकाळ- ऊँध्यार पर भी
थकदा नि था खुट्टा,अब मोटरु म बैठिक
भी सुन्न पड़दु गात ?
थौला -मेलों की पकोड़ी,जलेबी की रैगी यादबड़ी दुकान्यों पर भी
फिर पाई नि वो स्वाद।
वु पाथलों कु भात,पुड़खों से चूँदु साग ।
काखड़ी-मुंगरर्यों कु
लगी होलु शराप
*******************
मैं डांडा कु बथों, तू चौमासा की गाड
--
Garhwali Poetry by: Rakesh Mohan Thapliyal
-

मैं डांडा कु बथों,तू चौमासा की गाड,मै भी बग्योंतू भी बगि,यन्नी छ रिवाज.
मैं रो्डदू कोदा कू,तू गोंद्की नौण की ,हम भी रई जांदा जु,दुई रलि-मिलि.
मैं खडखडू बांज तू सपसपी कुळईं ,दुई जगि गेन,,जब बण लगी बडांक.
तू घुघूती घुरांदी,मै कफुआ-हिलांसतू भी छ उदास,मै भी थौ उदास.
तू जोनि कु उजालु,मै दोफ़रा कु घामतेरु - मेरु मेलसौंगु नि थौ काम.
तू धारा की पन्यारी ,मै ग्वैरु म कु ग्वैर,त्वैक व्हे अबेर,मैक भि अबेर.
XXXXXX
--
Garhwali Poetry by: Rakesh Mohan Thapliyal
-



-
Copyright @ Bhishma Kukreti Mumbai; 2016
Critical and Chronological History of Asian Modern Garhwali Songs,  Poets   ; Critical and Chronological History ofModern Garhwali Verses,  Poets ; Critical and Chronological History of Asian Modern Poetries,  Poets  ; Poems Contemporary Poetries,  Poets  ; Contemporary Poetries from Garhwal; Development of Modern Garhwali Verses; Poems  ; Critical and Chronological History of South Asian    Modern Garhwali Verses  ; Modern Poetries ,  Poets  ; Contemporary Poetries,  Poets  ; Contemporary Poetries Poems  from Pauri Garhwal; Modern Garhwali Songs; Modern Garhwali Verses  ; Poems,  Poets   ; Modern Poetries  ; Contemporary Poetries  ; Contemporary Poetries from Chamoli Garhwal  ; Critical and Chronological History of Asian Modern Garhwali Verses ; Modern Garhwali Verses,  Poets   ; Poems,  Poets  ; Critical and Chronological History of Asian  Modern Poetries; Contemporary Poetries , Poems Poetries from Rudraprayag Garhwal Asia,  Poets   ; Modern Garhwali Songs,  Poets    ; Critical and Chronological History of Asian Modern Garhwali Verses  ; Modern Poetries  ; Contemporary Poetries,  Poets   ; Contemporary Poetries from Tehri Garhwal; Asia  ; Poems  ;  Inspirational and Modern Garhwali Verses ; Asian Modern Garhwali Verses  ; Modern Poetries; Contemporary Poetries; Contemporary Poetries from Uttarkashi Garhwal  ;  Modern Garhwali Songs; Modern Garhwali Verses  ; Poems  ; Asian Modern Poetries  ; Critical and Chronological History of Asian Poems  ; Asian Contemporary Poetries; Contemporary Poetries Poems from Dehradun Garhwal; Famous Asian Poets  ;  Famous South Asian Poet ; Famous SAARC Countries Poet  ; Critical and Chronological History of Famous Asian Poets of Modern Time  ;
-
पौड़ी गढ़वालउत्तराखंड  से गढ़वाली कविता चमोली  गढ़वालउत्तराखंड  से गढ़वाली पद्य  कविता रुद्रप्रयाग गढ़वालउत्तराखंड  से गढ़वाली पद्य  कविता ;टिहरी गढ़वालउत्तराखंड  से गढ़वाली पद्य  कविता ;उत्तरकाशी गढ़वालउत्तराखंड  से गढ़वाली पद्य  कविता देहरादू गढ़वालउत्तराखंड  से गढ़वाली पद्य  कविता ;