उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, July 11, 2014

राहुल गांधी का लोकसभा मा सीण पर राहुल अर दिग्गी बाबू मध्य बातचीत

घपरोळया , हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती      
                     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

दिग्विजय सिंग - राहुल बाबा जी !
राहुल गांधी -हूं हूं   … …
दिग्विजय सिंग -सर जी ! आप लोकसभा मा नि छंवां आप अपण ड्यारम छंवां त अब सीणै आवश्यकता नी च। 
राहुल गांधी -हां उख पता नी किलै बढ़िया निंद आदि  धौं ? मि तैं  सांसदुं घ्याळ लोरी जन लगद। 
दिग्विजय सिंग -बेबी मास्टर ! वी त परेशानी ह्वे गे आप लोकसभा मा सींद पकड़े गेन अर लोकसभा टीवीन बि आप तैं सींद कैमरा मा दिखै दे। 
राहुल गांधी -फायर इमिजीयेटली  दैट ब्लडी कैमरामैन !
दिग्विजय सिंग -सर अब कॉंग्रेस कु राज नी च कि हम लोकसभा टीवी कैमरामैन तैं नौकरी से बर्खास्त कौर दिवां।   
राहुल गांधी -अरे पर पिछ्ला दस सालों से मि लोकसभा मा फकोरिक सीणु रौंद छौ पर कैन मि तैं सींद नि दिखाई। 
दिग्विजय सिंग -युवर एक्सीलेंसी ! तब कॉंग्रेस कु राज छौ अर सीबीआई से लेकि दूरदर्शन का कर्मी हमर सुनहरा पिंजड़ा मा कैदी छा।  
राहुल गांधी -ह्यां पर लोकसभा मा तै टैम पर बहस क्यां पर हूणि छे।
दिग्विजय सिंग -युवराज ! जब आप सीणा छा तब मंहगाई पर बहस हूणि छे। 
राहुल गांधी -ह्यां पर मंहगाई पर बहस किलै हुणि छे ?
दिग्विजय सिंग -युवर मेजेस्टी ! कॉंग्रेस की प्रार्थना पर लोकसभा मा मंहगाई पर बहस हुणि छे। 
राहुल गांधी -तुम कॉंग्रेसी बि ना ! अरे तुम लोगुं तैं पता च कि अच्काल फुटबॉल मैच चलणा छन तो मि सुबेर पांच बजे से पैल से नि सकुद तो मंहगाई पर चर्चा करवाणै जरूरत क्या छे ?
दिग्विजय सिंग -आदरणीय क्राउन प्रिंस ! नरेंद्र मोदी तैं लज्जित करणो बान हमन गरीबी अर मंहगाई पर चर्चा करवाई। 
राहुल गांधी -तो चर्चा से लज्जित कु ह्वाइ ? बेज्जती कैकि ह्वाइ। 
दिग्विजय सिंग -जी ऐज युजवल , कॉंग्रेस ही लज्जित ह्वे अर कॉंग्रेस की ही बेज्जती ह्वे। 
राहुल गांधी -अच्छा या मंहगाई क्या हूंदी ? गरीबी अर मंहगाई कु  असली अनुभव क्या होंद ?
दिग्विजय सिंग -जी ! मि त रजवाड़ा खानदान कु छौं तो मंहगाई कु अनुभव मि तैं नी च। 
राहुल गांधी -तो चिदम्बर जी तैं फोन लगाओ कि मंहगाई क्या हूंद। 
दिग्विजय सिंग -जी , चिदम्बर जी बि सौकार परिवार का छन।  ऊं तैं मंहगाई की परिभाषा तो पता च किन्तु मंहगाई  बिपदा कु अनुभव नी च। 
राहुल गांधी -तो कैप्टेन अमरिंदर सिंग तैं फोन लगाओ।
दिग्विजय सिंग -सर जी ! अमरिंदर सिंग जी तो बड़ा रजवाड़ा खानदान का छन।  हम लोग मंहगाई बढ़ांद छया पर मंहगाई की बिपदा से दूर ही रौंदा छा। 
राहुल गांधी -तो ज्यायोतिर्राज सिंधिया  तैं फोन लगाओ अर आदेश द्यावो कि अबि हम तैं मंहगाई का अनुभव सुणानो इख ऐ जावन। 
दिग्विजय सिंग - हे भारत भाग्य -विधाता ! ज्यायोतिर्राज सिंधिया तैं अमीरी का ऐश का अलावा मंहगाई का कुछ बि अनुभव नी च। 
राहुल गांधी -तो महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री पृथ्वी राज चौहाण तैं फोन लगाओ अर ब्वालो  कि मंहगाई का अनुभव सुणावो।
दिग्विजय सिंग -हे कॉंग्रेस नरेश ! पृथ्वी राज चौहाण भूतपूर्व लोकसभा सदस्य का सुपुत्र छन तो ऊं तैं मंहगाई क्या हूंद को अता -पता नी च। 
राहुल गांधी -तो फिर हिमाचल  मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंग तैं फोन लगाओ अर आदेश द्यावो कि मि तैं मंहगाई का दुखड़ा का अनुभव सुणाए 
दिग्विजय सिंग -सर ! वीरबद्र सिंग जी बि रजवाड़ा खानदान का ही छन। 
राहुल गांधी -पर ऊंन त कै ठेकेदार  व्यापारी से  लोन बि ले छौ
दिग्विजय सिंग -जी वु उधार तो ऊनि लोन छौ जन रॉबर्ट बाॅड्रा जीन डीएफएल कम्पनी से ले छौ। 
राहुल गांधी -हैं तो उत्तराखंड का मुख्यमंत्री  हरीश रावत तैं पूछो कि गरीबी मा मंहगाई की मार का अनुभव मि तैं बतावन।
दिग्विजय सिंग -सर रावत जी तैं मंहगाई का अनुभव तो होलु किन्तु मि तैं नि लगद कि गरीबी कु अनुभव होलु। 
राहुल गांधी -तो गरीबी मा मंहगाई की मार का अनुभव कु बतै सकुद ?
दिग्विजय सिंग -सर एकि आदिम च जु गरीबी अर मंहगाई का अनुभव सुणै सकुद। 
राहुल गांधी -ठीक च फोन लगाओ।
दिग्विजय सिंग -राहुल बाबा ! ल्या प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात कारो 
राहुल गांधी -हेलो ! नरेंद्र मोदी अंकल ! चूँकि मि तैं गरीबी अर मंहगाई का अनुभव नी च अर यांसे मंहगाई बहस हूंद दैं मि तैं निंद ऐ जांद तो प्लीज गरीबी अर मंहगाई का अपण अनुभव सुणावो ना ! हैं ? क्या ? पर ? क्या ?
दिग्विजय सिंग -क्या ब्वाल नरेंद्र भाईन ?
राहुल गांधी -बुन्ना छा कि जै तैं बिवैं हून्दन वी ही जाणि सकुद कि बिंवैं (पैरों का फटना ) दुःख जाणि सकुद।  दिग्गी अंकल ! ये प्रोवर्ब कु अर्थ क्या हूंद ?
दिग्विजय सिंग -अनुभव की क्वी अभिव्यक्ति नि हूंद बस अनुभव से ही जाणे जै सक्यांद। 
राहुल गांधी -तो मीन गरीबी क अनुभव लीणाइ।  अब्यक अबि गरीबी  का इंतजाम कारो।  
दिग्विजय सिंग -ठीक च। मि  तुम तैं महाराष्ट्र मा यवतमाल  मा गरीबी अनुभव लीणो इंतजाम करदो।  हेलो पृथ्वी राज चौहान जी ! राहुल बाबा तैं गरीबी अनुभव का वास्ता बढ़िया सा इंतजाम यवतमाल मा कारो।  अर द्याखो हाँ इंतजाम फाइव स्टार होटल जन ही हूण चयेंद हाँ !

Copyright@  Bhishma Kukreti  10  /7 2014   
    

*लेख में  घटनाएँ , स्थान व नाम काल्पनिक हैं । 


Garhwali Humor in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha;, Himalayan Satire in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha , North Indian Spoof in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha, Regional Language Lampoon in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha, Ridicule in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha , Mockery in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha, Send-up in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha, Disdain in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha, Hilarity in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha, Cheerfulness in Garhwali Language on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar on Rahul Gandhi Sleeping in Loksabha;