उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, April 28, 2016

गाड़ो गुलबंद , गुलबंद को नगीना (गढ़वाली लोकगीत )

संकलन व इंटरनेट प्रस्तुति भीष्म कुकरेती 

-
गाड़ो गुलबंद , गुलबंद को नगीना,

त्वै तैं मेरी सासू ब्वारी युं की अगीना। 

सहायक चरण - बुडड़ी लगौंद जवानी का रीसा

बुडड़ी तैं धरला पुंगड़ी का ढीसा। 
गाड़ो गुलबंद , गुलबंद को नगीना,
त्वै तैं मेरी सासू ब्वारी युं की अगीना। 

में से नि रयांदु सासू की जेल मा,

स्वामी जी घौर आवा बैठिकी रेल मा।