उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, April 28, 2016

सोतर मेगस - हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर इतिहास संदर्भ में सोतर मेगस

हरिद्वार  ,  बिजनौर   , सहारनपुर   इतिहास संदर्भ में सोतर मेगस       

       Soter  Megas  with reference -Ancient  History of Haridwar,  Bijnor,   History

Ancient  History of Haridwar, History Bijnor,   Saharanpur History  Part  -  169                      
                                                हरिद्वार इतिहास ,  बिजनौर  इतिहास , सहारनपुर   इतिहास  -आदिकाल से सन 1947 तक-भाग - 169                 

                                               इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती  


        सोतर मेगस की मुद्रायें मथुरा से लेकर पंजाब , कंधार -काबुल me मिलें हैं।  इसलिए वीम शाशनकाल में यह क्षत्रप बड़ा प्रभावशाली रहा होगए व इसका क्षेत्र बड़ा विस्तृत रहा होगा। 
    सोतर मेगस इस क्षत्रप की उपाधि मात्र है जिसका अर्थ महरक्षक है।  खरोष्ठी लिपि के लेखों में भी ' महरजस रजदिरजस महतस त्रतरस ' (महाराजस्य राजधिराजस्य महतस्य त्रातरस्य ' अंकित है।  इस नामधारी राजा का क्षेत्र मथुरा से काबुल तक मालूम पड़ता है। 
 विद्वानों का  मत है कि वीम की मृत्यु के बाद उसके क्षत्रपों ने 20 -25 वर्षों तक  राज किया और इसी भांति इस अनाम मथुराधीश ने कुषाण राजा के नाम से शासन किया होगा। 
इस काल के हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर के बारे में कोई सुचना  प्राप्त नहीं है 



कुशाण इतिहास संदर्भ - पुरी इण्डिया अंडर कुषाणज
महाभारत
बंदोपाध्याय - प्राचीन मुद्राएं
 घ्रिशमैन ईरान
एलन - क्वाइन्स ऑफ अन्सिएंट इण्डिया
राहुल मध्यएशिया का इतिहास
डा शिव प्रसाद डबराल उत्तराखंड का इतिहास भाग -३

Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India  28/4/2016 
   History of Haridwar, Bijnor, Saharanpur  to be continued Part  --170

 हरिद्वार,  बिजनौर , सहारनपुर का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास  to be continued -भाग -170 



      Ancient History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient  History of Telpura Haridwar, Uttarakhand  ;   Ancient  History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient  History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient   History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand  ;  Ancient  History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand  ;   Ancient History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient  History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient  History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ;    Ancient History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar;      History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;    Ancient History of Bijnor;    Ancient  History of Nazibabad Bijnor ;    Ancient History of Saharanpur;   Ancient  History of Nakur , Saharanpur;    Ancient   History of Deoband, Saharanpur;     Ancient  History of Badhsharbaugh , Saharanpur;   Ancient Saharanpur History,     Ancient Bijnor History;
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास;  Haridwar Itihas, Bijnor Itihas, Saharanpur Itihas