उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, July 11, 2011

Economical Conflicts and Tension in Garhwali Wedding Song For Vedi Worshiping

वेदी पूजन लोक गीत में आर्थिक विषमता से उपजा तनाव का उल्लेख
(Garhwali Wedding Folk Songs, Himalayan Wedding Folk Songs, Indian Wedding Folk Songs)
Bhishma Kukreti
The marriage ceremony of Hindus take place at 'Vedi' .''Vedi' is prepared at bride's country yard or now, at wedding place.Vedi' is squarish prepared by mud and stones. Around 'Vedi' there are pillars of pine branch and banana plants. One banana plant has to be with fruits.
When 'Vedi' is ready, Pundit jee does ritual performance for worshiping 'Vedi' through bride's house . Pundit Jee speaks chants in Sanskrit . at another side the women sing a folk song of Vedi' Poojan or Vedi worshiping . In this song, there is conflict about the showmanship in wedding by rich families and the solution for filing the gap between riches and poor in wedding ceremony . The song also indicates the tension because of showmanship by rich people in wedding ceremony and thus creating problem for poor

वेदी पूजन लोक गीत
ऐ जावा पिताजी ऐ जावा पिताजी बेदी जगसीला
ऐ जावा पिताजी बेदी जगसीला

के केकी पिताजी के केकी पिताजी बेदी बणि च
के केकी पिताजी बेदी बणि च ए

के केका पिताजी के केका पिताजी खम्भ घट्याँन
के केका पिताजी खम्भ घट्याँन ए

के केको पिताजी के केको पिताजी चंदोया ओड़यूँ च
के केको पिताजी चंदोया ओड़यूँ च ए

के केन पिताजी के केन पितजी बेदी भरीं च
के केन पितजी बेदी भरीं च ए

के केको पिताजी के केको पिताजी दान करीला
के केको पिताजी दान करीला ए

सोना चांदी की सोना चांदी की बेदी बणी च
सोना चांदी की बेदी बणी च ए

हीरा मोत्युनं हीरा मोत्युनं बेदी भरीं च
हीरा मोत्युनं बेदी भरीं च ए

सोना चांदी का सोना चाँदी का खंभ घट्यान
सोना चाँदी का खंभ घट्यान ए

सोना चांदी का सोना चांदी का चंदोया ओड्यू च
सोना चांदी का चंदोया ओड्यू च ए

तुम छावां पिताजी तुम छांवां पिताजी अमीर लोक
तुम छांवां पिताजी अमीर लोक ए

गरीब लोक गरीब लोक क्या क्या दान द्याला
गरीब लोक क्या क्या दान द्याला ए

बताऊ मेरी कनियाँ बताऊ मेरी कनियाँ बेदी की बिधि
बताऊ मेरी कनियाँ बेदी की बिधि ए

मित मेरी कनियाँ मित मेरी कनियाँ जणदू नि छंवूं
मित मेरी कनियाँ जणदू नि छंवूं ए

जणदो नि छंवुं जणदो नि छ्वुं सुणदो छंवुं
जणदो नि छ्वुं सुणदो छंवुं ए

तू छे मेरी कनियाँ तू छे मेरी कनियाँ अकल की दाता
तू छे मेरी कनियाँ अकल की दाता ए

गारा माटी की गारा माटी की बेदी बणऐल़ा
गारा माटी की बेदी बणऐल़ा ए

आटा पीठान आटा पीठान बेदी भरीं च
आटा पीठान बेदी भरीं च ए

क्याल़ा कूंलेँ की क्याल़ा कूंलेँ की बेदी बणऐल़ा
क्याल़ा कूंलेँ की बेदी बणऐल़ा ए

सूता धागुन सूता धागुन कुलैं बंधिला
सूता धागुन कुलैं बंधिला ए

क्वारो कपड़ोंन क्वारो कपड़ोंन चंदोया बणऐल़ा
क्वारो कपड़ोंन चंदोया बणऐल़ा ए

सूता धागुन सूता धागुन चंदोया उठैला
सूता धागुन चंदोया उठैला
Curtsy for Folk Song: Totaram Dhoundiyal, Shrimati Shailjaa Thapliyal , Mangal, Dhad Prakashan
Copyright@ Bhishma Kukreti bckukreti@gmail.com