उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, December 5, 2012

परधान जीन अपण नौनु तै क्लीन चिट दियाल

गढ़वाली हास्य व्यंग्य
हौंसि हौंस मा, चबोड़ इ चबोड़ मा
                   परधान जीन अपण नौनु तै क्लीन चिट दियाल
                                   चबोड्या : भीष्म कुकरेती

जब तक हमर गां मा पधानचरी छे तब तलक हमर एकि मुंडीत छौ . पण जब बिटेन गौंम प्राधानगिरि अर ग्राम पंचायतम बजेट आयि तब बिटेन हर साल हमर मुंडीत बंटणा रौंदन अर कुछ परिवार संयुक्त हूणा रौंदन अर कुछ टुटणा रौंदन . कुछ पता इ नि चलदो बल कु कै मुंडीतम च . बस क्वी मोरि ग्याई त तब जू बि मुंड्याइ तबि पता चलदो बल यु हमर मुंडीतम च अर स्यु नि मुंड्याइ त अब स्यू हमर मुंडीत से भैर ह्वे ग्याई। कबि कबि त यु मुंड्याद जरुर च पण तिरैं दिन कुछ बि कारणो से यु मुंडीत से भैर ह्वे जांद अर जु स्यु मुंड्याद नी च पण तिरैं दिन स्यु मुंडीतम शामिल ह्वे जांदो . ग्राम प्रधानौ चुनावम या पंचों चुनावम त हरेक परिवारों मुंडीत अलग ह्वेक अलग अलग मुंडीतम बंटी जांद . फिर सुविधानुसार कुछ परिवार दगड़ ह्वेक मुंडीत बणान्दन।

अचकाल हमर गां या मुंडीतम आरोप प्रत्यारोपौ मौसम जोरो पर च . ग्राम पंचैतौ बैठक शुरू जरूर होंद पण पंच लोगुं बैठद बैठद पैल विरोधी पंचों आरोपुं बरखा हूँदी त यां पर दुसर पंचो प्रत्यारोपुं ढांड पड़न मिसे जांदन इनम पंचैतै बैठक खतम ह्वे जांद . दुसर दिन पंचैतम विरोधी पंचुं आरोपुं स्वाड़ा चलदो त जौं पर आरोप लगद वो प्रत्यारोपुं बरफ चुलाण बिसे जांदन . त पंचैत बैठदी नी च
गल्ती से मि कोटद्वार अर रिशिकेष क अखबारों कुण समाचार भेजदो त अचकाल हमर गौंक पंचैत अखबारोंम बैठद। एक हफ्ता मि एक पाळी वाळुक आरोप अखबारोंम छपवांदु त दुसर हफ्ता दुसर पाळि अर तिसर या चौथि पाळि वाळु प्रत्यारोप छपवांदु .मतलब अब अख़बार इ हमर गांक पंचैत छन . अखबारों से इ प्रधान जी तै पता चल्दो कि वो क्या क्या ग्राम विकासौ काम करणा छन अर अखबारों से इ पंचो तै पता चलदो बल ऊनं क्या क्या बयान देन मतबल अखबार इ पंचैत ह्वे गेन। गां वाळ बि अखबारों खबरू से जाणदन कि ऊंका ड्य्रारम नळ अयाँ तीन साल ह्वे गेन . अर गां वळ अख्बारु जरिया से परधान जी तै पुछदन बल जु हमर ड्यारम नळ अयाँ छन त हम इथगा दूर पाणि लाणो किलै जाणा छंवां ? इनि गां वाळ समाचार पत्रुं से जाणिन बल उंका गां मा अब जख्या - भंगुल नि जमद बल्कणम खनु खरपट जमण बिसे गे।

अब इनि परधान जी तै अखबारों से इ पता चौल बल गां की नई अर पुराणि कूल बाणानम घोर भ्रष्टाचार हुंयुं च . प्रधान जीन अखबारोंम बयान दे बल यि सौब झूट च कखि बि भ्रष्टाचार नि ह्वे . हैंक दिन अख्बारुम खबर ऐ बल परधान जी क राज मा इ घपला ह्वे . फिर से परधान जीन बयान छपवाई बल क्वी घपला सपला नि ह्वे .

गां वळु तै मुखजवानी बयानु खबर से बदहजमि, उन्द-उब हूण लगि त एक दिन परधानो विरोधिन अखबारम खबर छपवाई दे बल कूल खत्याणो ठेका त परधान जीक नौनु तै इ दिए गे छौ अर यांको सबूत बि अखबारों मा छपी .
सरा गां तै अब जैक पता चौल बल कखि कै जगा गां मा कुल्याणों कूल आयीं च अर लोग अखबारों से परधान जी तै पूछण लगि गेन कि कूल कखम गाडे गे ? फिर लोगुन परधान जी तै अखबारों जरिया से पूछ बल कुल्याणों कूल आयि त को को वीं कूलन पुंगड़ कुल्याण छन? .

परधान जीक नौनो नाम आयुं छौ त परधान जी इ ना पंच बि तिड़बितडे गेन अर सब्युंन अखबारों मा बयान दे बल शीघ्र ही चौड़ कूल प्रकरण पर एक सफ़ेद पत्र याने व्हाईट पेपर आलु .
जब तीन दिन तलक अखबारुम सुफेद पन्ना नि आये त विरोधी पाल्टि वळुन फिर से अखबारोंम घ्याळ कार बल किलै अबि तलक कूलों बाबत सफेद पत्र नि आई ?

खैर कुछ मैनो उपरान्त परधान जीन अखबारुम श्वेत पत्र छपवाई जखम परधान जीन परधानौ लेटर हेड मा अपण नौनु तै क्लीन चिट दे बल अमुक ठेकेदारन टेंडर का इ सबि नियमो हिसाब से कूल गाड अत; ठेकेदार पूरी तरह निर्दोष अर क्लीन च
अखबारोंम विरोध्युं बयान छप बल यी क्या परधान अपणु नौनु तै क्लीन चिट कनै दे सकुद?
 
दुसर दिन परधानो बयान छप बल जब महाराष्ट्र सिंचाई विभाग अपणों इ विभाग तै क्लीन चिट दे सकद , जब कॉंग्रेसी रॉबर्ट बाड्रा तै क्लीन चिट दे सकदन , भारतीय जनता पार्टिक गुरुमूर्ति भारतीय जनता पार्टिक अध्यक्ष नितिन गडकरी तै क्लीन चिट दे सकदन त मि किलै ना अपण नौनु तै क्लीन चिट दे सकदो ?
 
चूंकि विरोध्युं मा कोंग्रेसी बि छया अर भाजापाई बि छया त कैन बि परधान जीक बयानों विरुद्ध क्वी बयान नि छाप अर अब गां वळु तै भरवस ह्वे ग्याई बल गां मा कूल बौणि त छें च पण ऊंका (गौं क जनता ) आंख कमजोर होण से ऊं तै कूल नी दिख्याणि च .

Copyright@ Bhishma Kukreti 1/12/2012