उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, January 13, 2010

बड़ा , बडो का, बड़ा काम !

बुल्दन बल कि, कै भी , घर, दफ्तर या सरकार थै चलाण का वास्ता एक समझदार ( याने बड़ो ) आदिमे की जरुरत हुन्द ! अर , उ आदिम अपणा कामो से जणे जांद, पछ्याणे जांद ! वेकु अहोदा , वेकु रूतबा सब वे कुर्सी पर निर्भर करद, जेमा उ बैठ्यु रैनद ! कुर्शी अर काम, द्वी वे आदिम थै क्या नि कराइ दिदिनी , इ त, बादम पत् चलद जब वो वी से उत्तर जाद !

हमरा गौ कु पधान , भजरामल जब तक चुनो नि लड़ी छो, वे थै कवी घास ही गिर्दु छो ! जनि वो चुनो लड़ी अर प्रधान बणी ! सबी वेकी जय जैकार करण बैठा ! अबत रोजा कुकड़ी अर बोतल , कभी तिबरिम , त कभी चौक्म , नचण बैठी ! चाटुकारू कु त पुछे ऩा ! अगर वो ( प्रधानजी ) बोल ..., कि , दिनम रात च , त वो बुलिनी ... " हां .. जी .. हां रात ही च ! अर बाजा बाजा त औरी भी वे थै काचा झयडोम धरी बुल्दा छा "

अजी पधान्जी ...... रात ही नी, बल्कि वो....... अफार , गैणा भी छंन चमकाणा " ! अपणा बीरानो कि पो बाहर ! ये दौरान पधान जी थै , उनका ग्राम उठाना का कार्य क्रममा , न जणी कथगा इनाम मैडल यख तक कि उन को नौ पध्म श्ररी तक चली गे छो ! बी डि यो जिला अधिकारी , बिधायक छेत्रिय, प्रांतीय याख्तक सेंटेरल सर्कार्ल उमठी कै अवार्द्ल नवाजी ! पर जनी पधान जी का द्वी साल पूरा हुवेनी , अर, वो उत्तरा

अपणी कुर्शी से ! कुर्शी गे अब पधान्न जी आया कुर्शी का मूड !

ह्या भै... , जब तक वो पधान छो , कैल भी गिचू नि उभारी ! वो , जू , वेका हर कामम दगडा रैनी ! चाहे , रोड कु ठयेका ह्वेनी ! या , डिगी बाणाणे बात रै हो , ! या बाटोमा खडिनचा बिछाण कि बात रै हो ! या फिर, बिलोक बीटी लोंन दीलाणे कि बात हो ,! बुनो मतलब यो च कि, जब तक भजराम पधान छो ! वेंल अपणा पद कु सदपिओग या दूरपिओग खूब कै ! जू भी बुरु काम कै ! वो सब वैक पूठ मूड !

साब..., जनी पधमचारी गे ! लुखुका गिचा उभना शुरू हवे ! कैल बोली कुछ त , कैल बोली कुछ ! कैल कुछ लाछन लगैनी त , कैल माँ बैनी गाली देनी ! सबसे चोंकावाली बात त , मुरखवाली कि बात से ह्वै ! जैन भारी पंचैत माँ , पधान जी पर चरित्र हनन कि बात कै .. " .. रुद रुद, व बोली , ये पधान्ला, ... अब क्या बोलू .. बिलोको कर्जा माफ़ काना वास्ता मी थै अपणा घोर बुलाई अर .......... ये सुणी सब सन ... ! गौम त

जन , व भुच्यालू एगे छो भुच्य्लू ... ! हमारा इलाका क , गौ गौ , पट्टी पट्टी म एक ही छुई. एक ही बात ..अर अखबारों माँ रोज , वेका बारम्म आये दिन एक नयी खबर ! अखबार फुन्डू फुका , जतका गिचा उत्की बात ! अर जैल जनी मिसी की लगै ! भजराम जी थै जनता माँ मुख दिखाणु मुश्किल ह्वैगी ! बात पटवारी, कानून गु से हुन्द हुन्द सरकार तक भी पहुंची ! सब्युन एक स्वर म बोली " जतका अवार्ड्स ,तक्मा छन ,

सब वापस लिए जावा ! " बिचारा क्या कैरू .. बड़ा कामू नतीजा बड़ो ही हुन्द ! अबतक त भीतरी भीतर च ! अब द्याखा , कख वे का उ काम वे थै कख लिजन्दीन !

पराशर गौर