उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, April 23, 2017

बीड़ी

Garhwali Satire by Narendra Kathait
-
इन पक्कू नि बतलै सकदाँ कि ‘हुक्का अर् चीलम’ से पैली बीड़ी छै कि नी छै। पर हुक्का अर चिलामिन् बि बीड़्यू क्य बिगाड़ देआज बि हुक्का अर चीलाम्या दबदबा बीच बीड़्यू रुतबाकम नी ह्वे। बीड़ीगरीब-अमीर हर कैकिकरबट मा बैठ जांदि। बीड़ी तैं कामचोरबग्त कटणू हत्यार बणांैदन्। पर ठुकरयां अर लाचार लोग ब्वल्दन् कि बीड़्या सारा पर लम्बी रात बिकटे जांदि।
सुदामा प्रसाद पे्रमी जीबीड़ी नौ कि एक कबिता मा लेख्दन जुुगराज रयां तुम मेरी बीड़्यूंतुमन सैरी रात कटैनीएक का बाद हैंकि फंूकीअपणा मन का भाव जगेनीपर बीड़्याभरोंसा पर अपड़ा मना भाव हर क्वी नि जगै सक्दु। अपड़ा मना भाव जगौणू तैं बीड़ी तैं समझुणू जरुरी च।
दुन्या माद्वी मनखी बि एक जना कख छनहिन्दुवों देखा त् बडि़ जाति-छुटी जातिमुसळमनू मा सिया-सुन्नीसिखू मा मोना-केसधारीइसायूं मा कैथोलिक अर प्रोटैस्टैंट। बीड़ी मा बिमसालु एक रंग-रूप बि एकपर बीड़्या पैथर खाण-कमोण वळों कि अकड़ैस अलग-अलग छन। जन्किछोटा भाई-जेठा भाईघोड़ा छाप बीड़ीटेलीफून बीड़ीपाँच सौ एकपाँच सौ द्वीबीड़ी। छोटु भै अर बड़ा भैनौ कि बीड़ी त् हमारि समझ मा ऐगि। किलैकिछोटु भै अर बड़ा भै बीड़ी सुलगौंदहमुन् कै द्यख्नि। कै बार इन बि देखी कि जेठा भैन् ज्वा बीड़ी प्येकि फुंडचुटैछुट्टा भैन् वी बीड़्यू टुड्डा प्येकिअपड़ी जिकुड़ी तीस बुझै। हमतैं क्यकै तैं बि यिं बात पर बिस्वास नि होण कि गणेश जीन् कबि लुकाँ  ढकाँ बि बीड़ी प्ये होवु। पर एक गणेश बीड़ीवूंको नौ लेकि बि खूब धुवाँ उडोणी च।
खादी सूणी तैंखाद्यू लम्बू कुरता-पैजामुआँख्यू मा रिटण लग बैठ जांदु। पर खादी नौ की बीड़ी बि च। एक दिन हमुन् एक पनवडि़ पूछीदीदायिं बीड़्यू नौखादी बीड़ी किलै रखे ग्येह्वलुवेन उल्टाँ पूछीखाद्यू मतलब तुम क्या बिंग्यांहमुन् जबाब दे-खादी यनिकिसस्ती-मस्ती चीज क्या ताँ पर हमतैं सुण्ण प्वडि़बस्सइलै हियिं बीड्यू नौ खादी च।जथगा सस्ती वाँं से जादा वाँ मा मस्ती 
क्वी ब्वल्दू टेलीफून बीड़ी मा बात हि कुछ हौर च। क्वी ब्वल्दू तौं घोड़ा छाप बीड़ी प्येकि मजा नि औंदु। एक आद हमुन् परदेस जाण वळांे कु इन ब्वल्दू बि सुणी यार भुला इनासुणदिइख या... कामिनी बीड़ी नि मिल्दी। अगिल दौं जब घौर ऐली त् एक बुरुस कामिनी बीड़्यू लै जै वा... टक्क लग्येकि।
(बक्कि फेर कबि)

Copyright@ Narendra Kathait